बिगड़ते पर्यावरण को रोकने के लिए एक संस्था की पहल, सूखे जनपद में 10 लाख पौधरोपण का रखा लक्ष्य

एक संस्था ने बर्बाद और तबाह हो चुके पर्यावरण को बचाने के लिये नई पहल शुरू करते हुये 10 लाख पेड़ों को लगाने का लक्ष्य पूरा करने की शुरुआत कर दी है।

By: आकांक्षा सिंह

Published: 07 Jun 2018, 02:31 PM IST

महोबा. ज़िले में एक संस्था ने बर्बाद और तबाह हो चुके पर्यावरण को बचाने के लिये नई पहल शुरू करते हुये 10 लाख पेड़ों को लगाने का लक्ष्य पूरा करने की शुरुआत कर दी है। यहीं नहीं पेड़ों को गोद ले कर उनकी सेवा और देखभाल किये जाने का भी बीड़ा संस्था ने उठाया है। महोबा में बंजर हो रही भूमि को फिर से हरा भरा करने का संकल्प लिए संस्था ने आज एक हजार पेड़ों को लगाया है।

सूखे से जूझ रहे बन्देलखण्ड में संस्था ने आगामी कुछ माह में 10 लाख पौधे लगाने का लक्ष्य तैयार किया है। मानव कल्याण विकासवादी संस्थान ने महोबा के किल्हुआ गांव में 2 एकड़ जमीन पर एक लाखों पेड़ संरक्षण और संवर्धन की नींव तैयार की है। मानव कल्याण विकासवादी संस्थान के संस्थापक चंद्रशेखर ने अपनी निजी जमीन को बन्देलखण्ड में हरित क्रांति लाने के उद्देश्य को लेकर 30 बर्षों के लिए लीज पर देने का निर्णय लिया है। महोबा में एक मिलियन वृक्ष लगाने का लक्ष्य के बाद भूमि पूजन होते ही सूखे से तबाह बन्देलखण्ड में एक बार फिर हरियाली की उम्मीद जागने लगी है। बुंदेलखंड के महोबा में मानव कल्याण विकासवादी संस्थान ने सराहनीय शुरुआत की है। सूखे की त्रासदी मिटाने को लेकर 10 लाख पौधरोपण से क्षेत्र में हरियाली आने की उम्मीद जताई है।

बन्देलखण्ड में साल दर साल सूखे से बंजर होती हजारों एकड़ की जमीन हर बर्ष बर्बाद हो रही है। सरकार की तमाम योजनाओं के बाद भी बन्देलखण्ड में हरियाली की आस बेमानी साबित हो रही है। कारण है कि सरकारी मशीनरी तमाम संसाधनों के बाद भी कार्यों का सही क्रियान्वयन नही कर सकी है। ऐसे में मानव कल्याण विकासवादी संस्थान ने बन्देलखण्ड के समूचे क्षेत्र में हरित क्रांति लाने की जोरदार शुरुआत की है। जिसको लेकर संस्था ने एक मजबूत नीव तैयार की है। जिसके लिए संस्था ने बन्देलखण्ड की वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई की कर्म भूमि से लेकर भगवान श्रीराम की तपोभूमि चित्रकूट तक 2 लाख 80 हजार बेरोजगारों को रोजगार उपलब्ध कराने के साथ-साथ क्षेत्र में हरित क्रांति लाने की जोरदार पहल की है।

महोबा जनपद के किल्हुआ गांव में मानव कल्याण विकासवादी संस्थान द्वारा महोबा सहित बुन्देलखंण्ड के सभी जनपदों में हरियाली लाने और पर्यावरण संतुलन बनाये रखने के लिए एक जोरदार शुरुआत की है। संस्था का उद्देश्य है कि बंजर ओर सुखी जमीन में दोबारा हरियाली लाकर वीरान क्षेत्र में खुशहाली लाई जा सके। जिसको लेकर सस्थान से जुड़े एक हजार महिला एवं पुरुष कर्मचारियों तपती धूप में जबरजस्त परिश्रम कर एक हजार गड्ढे खोदकर एक हजार पौधों को रोपित किया। संस्थान से जुड़े सैकड़ों कर्मचारियों के हौसले ओर जज्बे को देखकर सभी हैरान रह गए। संस्थान से जुड़े मीडिया प्रभारी डॉ रंजीत ने बताया कि समूचे क्षेत्र में आज हजारों पेड़ों को रोपित किया गया है। संस्था द्वारा ही कार्य आगे भी जारी रहेगा ताकि बिगड़ते पर्यावरण को रोका जा सके।

आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned