कोटेदार गरीबों के राशन पर डाल रहा डाका, ग्रामीणों ने डीएम से की शिकायत

कोटेदार गरीबों के राशन पर डाल रहा डाका, ग्रामीणों ने डीएम से की शिकायत

Mahendra Pratap Singh | Publish: Mar, 14 2018 02:38:31 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

जनपद में सरकारी तंत्र की लापरवाही से एक कोटेदार गरीबों के राशन पर डाका डाल रहा है।

महोबा. जनपद में सरकारी तंत्र की लापरवाही से एक कोटेदार गरीबों के राशन पर डाका डाल रहा है। जांच में कई बार दोषी पाए गए कोटेदार के खिलाफ कार्यवाही होना तो दूर उसका निलंबित कोटा फिर से बहाल हो गया। खास बात तो यह है कि नियमो के विपरीत प्रधान पति खुद ही कोटे का संचालन करा रहा है। चुनावी रंजिश के चलते 1 दर्जन से अधिक ग्रामीणों को राशन नही दिया जा रहा है। गांव वालों ने जिलाधिकारी के पास पहुंचकर कोटेदार की शिकायत की है।

यह है मामला

सूबे की सरकार गरीबों को सस्ता अनाज मुहैया कराने के लिए सख्ती बरत रही है। मगर सरकारी तंत्र की लापरवाही से मजबूरों तक राशन नही पहुंच पा रहा है तो वही दूसरी ओर नियमों के विपरीत ग्राम का प्रधान ही अपने परिजनों के नाम से कोटा संचालित कर रहा है। यह पूरा मामला सदर तहसील के ग्राम बिलरही का है। जहां की ग्राम प्रधान फुलिया और उसके पति पर आरोप है कि उसने अपने ही एक परिजन विनोद कुमारी के नाम कोटा ले रखा है और खुद ही अपने घर से कोटे का संचालन पिछले कई बर्षों से कर रहा है।

जिलाधिकारी से की लिखित शिकायत

प्रधानपति पर आरोप है कि चुनावी रंजिश के चलते वह एक दर्जन से अधिक ग्रामीणों का राशन नही दे रहा है ! जिसकी शिकायत कई बार ग्रामीणों ने सम्बंधित विभाग सहित जिलाधिकारी से की है। पूर्व में भी राशन प्रणाली में धांधली सहित अनियमितताओं की शिकायतों के बाद राशन की दुकान न केवल चार बार निरस्त की गई बल्कि जुर्माना भी ठोक गया। बाबजूद इसके विभाग के अधिकारियों की साठ गांठ से दुकान फिर से बहाल हो गयी है। ऐसे में अंदाजा लगाना आसान होगा कि प्रधानपति की पहुँच किस कदर ऊंची है। गरीबों का राशन हड़पने वाले आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही सिर्फ दिखावा बनी हुई है। कोटेदार की करतूतों की शिकायतों को लेकर एक दर्जन से अधिक ग्रामीणों ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर जिलाधिकारी से लिखित शिकायत की है।

कोटेदार के खिलाफ ग्रामीणों ने की शिकायत

ग्रामीणों का कहना है कि शासनादेश के अनुशार ग्राम प्रधान या प्रधान सदस्यों के नाम कोटा आवंटित नही किया जा सकता लेकिन यहां प्रधानपति का रिश्तेदार के नाम पर बेधड़क कोटा संचालित है। ग्रामीणों ने उक्त कोटा निरस्त करने की मांग की है। इस पूरे मामले को लेकर जिलाधिकारी सहदेव ने बताया कि बिलरहि गांव के कोटेदार के खिलाफ ग्रामीणों ने शिकायत की है। इस बारे में जिलापूर्ति विभाग को जांच दे दी गयी है अगर कोटेदार दोषी पाया जाता है कोटा निलंबित करने की कार्यवाही की जाएगी।

Ad Block is Banned