निलंबित शिक्षका की दबंगई, सरकारी कार्य में पहुंचा रही है बाधा 

निलंबित शिक्षका की दबंगई, सरकारी कार्य में पहुंचा रही है बाधा 

By: Ruchi Sharma

Published: 18 Aug 2017, 05:03 PM IST

महोबा. महोबा में चार महिने पूर्व विद्यालय कार्य में अनुशासनहीनता और मिड डे मील में धांधली किये जाने पर निलंबित हुई शिक्षिका अभी भी उक्त विद्यालय में जबरन न केवल हस्तक्षेप कर रही बल्कि अध्ययन कार्य में बाधा भी पहुंचा रही है । यही नहीं दलित बच्चों और अविभावकों के साथ आये दिन दुर्व्यवहार किया जा रहा हैं । नाराज ग्रामीणों ने आज प्रधान के नेतृत्व कलेक्ट्रेट पहुंचकर कर जिलाधिकारी से लिखित शिकायत की है और शिक्षिका के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग की है ।

 

महोबा के ग्राम स्वासामाफ का कन्या प्राथमिक विद्यालय निलंबित शिक्षका की दबंगई के चलते बच्चों के अध्ययन कार्य के स्थान पर गांवदारी का अखाड़ा बनता जा रहा है। निलंबित होने के बावजूद भी जबरन अपने पद पर रहकर सरकारी कार्य में बाधा पहुंचा रही है ।

 

दरअसल मामला ग्राम स्वसामाफ का है । इस गांव के कन्या प्राथमिक विद्यालय में प्रधानाचार्य रही ऋचा यादव हमेशा विवादों में बनी रहती है । चार माह पूर्व अनुशासनहीनता और मिड डे मील में धांधली किये जाने के आरोप में बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा निलंबित कर दिया गया था ।

 

यहीं है विद्यालय का समस्त चार्ज अपने सहायक अध्यापक को दिए जाने के आदेश दिए गए थे। मगर चार महिने का समय बीतने के बाद भी ऋचा यादव जबरन विद्यालय में अध्ययन कार्य में बाधा उत्पन्न कर रही है ।

 

सहायक अध्यापक को चार्ज न दिए जाने से बच्चों का ड्रेस वितरण सहित अन्य व्यवस्थाएं सुचारू रूप से नहीं चल पा रही है । स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को भी स्कूल में हो रही इस खींचातानी के चलते पढ़ने में दिक्कत आ रही है। ग्रामीणों की माने तो ऋचा यादव को राजनीतिक संरक्षण प्राप्त है कि निलंबित जबरन वह अपने पद पर बनी हुई है।

 

साथ ही स्कूल में पढ़ने वाले दलित बच्चों और उनके अविभावकों के साथ बदसलूकी भी करती है । जिसको लेकर ग्रामीणों में नाराजगी है । आज इन्ही सब शिकायतों को लेकर गांव के एक दर्जन से अधिक ग्रामीण प्रधान सुमेर सिंह के नेतृत्व में कलेक्ट्रेट पहुंचे और दबंग निलंबित शिक्षका की शिकायत डीएम अजय कुमार से की।

 

ग्रामीणों ने डीएम ने निलंबित शिक्षका को गांव के स्कूल के हटाए जाने की मांग की है।ग्रामीणों ने बताया कि निलंबित होने के बाद भी वो आये दिन गांव के स्कूल में आती है और गांवदारी करती है जिससे गांव और गांव का माहौल खराब हो रहा है।

Ruchi Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned