डीसीएम और बस की टक्कर में 11 यात्री गंभीर रूप से घायल

डीसीएम और बस की टक्कर में 11 यात्री गंभीर रूप से घायल

Mohd Rafatuddin Faridi | Publish: Sep, 09 2018 08:33:33 PM (IST) Mahrajganj, Uttar Pradesh, India

महराजगंज के ठूठीबारी थानाक्षेत्र के लोहरौली ढाला के पास हुई दुर्घटना।

महराजगंज. यूपी के महराजगंज जिले के ठूठीबारी थाना क्षेत्र के गांव लोहरौली ढाला के पास रविवार की दोपहर अनुबंधित बस व डीसीएम की भीषण टक्कर में बस में सवार 11 यात्री गंम्भीर रूप से घायल हो गए।सूचना पाकर घटना स्थल पर पहुँची पुलिस व एंबुलेंस की मदद से घायलों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र निचलौल में भर्ती कराया गया। जहां पर चिकित्सकों ने डीसीएम चालक धीरज व बस चालक ओमप्रकाश सहित बस में सवार यात्री सुनीता की हालत गंभीर देख प्राथमिक उपचार कर जिला अस्पताल रेफर कर दिया है।दुर्घटना के इस मामले मे पुलिस अपनी कार्रवाई में जुट गई है।

 

बता दें कि डीसीएम गोरखपुर से शिवम ट्रांसपोर्ट की समान लेकर ठूठीबारी के लिए जा रही थी कि सामने से राप्तीनगर डिपो की अनुबंधित बस ठूठीबारी से सवारी लेकर महराजगंज की तरफ आ रही थी। तभी लोहरौली ढाला के पास दोनों में भीषण टक्कर हो गयी जिसमे डीसीएम में सवार ट्रांसपोर्ट मालिक के दयानन्द मिश्रा (36 साल) निवासी बगही, (42 वर्ष) सदानन्द पटेल (42 वर्ष) निवासी रायपुर सहित चालक धीरज गौंड (22 साल) निवासी चिउटहा गंम्भीर रूप से घायल हो गए। वहीं बस में सवार 45 लोगों में सें बस चालक ओमप्रकाश (24 साल) निवासी बैरिया, श्रीराम (60 साल) निवासी मोहनापुर,सुनीता (28 साल) निवासी नौतनवां, रुदल (26 साल) निवासी नौतनवां, सुफिया (35 साल) पिपरा मुण्डेरा, जस्मीन (5 साल) पिपरा मुण्डेरा, महीबुन निशा (42 वर्ष) निवासी छोटकी कोहड़वल किसमावती (50 साल) मोहनापुर दुर्घटना मे गंम्भीर रूप से घायल हो गए। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस व एंबुलेंस की सहायता से घायलों को स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में इलाज हेतु भर्ती कराया गया। जहां पर डीसीएम चालक व बस चालक सहित बस सवार सुनीता को गंम्भीर चोट लगने के डाक्टरों ने प्राथमिक इलाज कर जिला अस्पताल रेफर कर दिया।

 

बस डीसीएम की भीषण टक्कर की सूचना पाकर एसडीएम देवेन्द्र कुमार व तहसीलदार राहुल देवभट्ट घायलों का हाल जाने के लिए अस्पताल पहुंचे और सीएचसी पर तैनात डाक्टरो को निर्देश देते हुए कहा की घायल मरिजों को देखरेख में किसी प्रकार की कमी नही आनी चाहिए।जल्द से जल्द घायलों को इलाज करने को कहा।

 

घण्टों तड़पते रहे घायल

मौके पर पहुंच पुलिस व एंबुलेंस की सहायता से घायल मरीजों को सीएचसी तो ला दिया गया लेकिन कोई एंबुलेंस में तड़पता रहा तो कोई बाहर बेंच पर बैठकर तड़पता रहा। सीएचसी के डॉक्टर केवल इधर से उधर होते रहे।घायल सुफिया ने बताया की सिर पर चोट लगने के कारण बार बार चक्कर आ रहा था लेकिन सीएचसी के कोई कर्मचारी सुधी भी नही ले रहा था।

By Yashoda Srivastava

Ad Block is Banned