बड़ा फर्जीवाड़ाः किसानों से औने-पौने खरीदकर सरकार को एमएसपी पर बेच दिया हजारों क्विंटल धान

  • किसानों के नाम पर फर्जी बैंक अकाउंट खोलकर किया गया किसानों के साथ फ्राॅड
  • मुकदमा दर्ज कर पुलिस और विपणन विभाग पूरे मामले की जांच में जुटा

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

महाराजगंज. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कड़ा एक्शन लेने की चेतावनी के बाद भी यूपी में किसानों के साथ फर्जीवाड़, फसल खरीद के नाम पर धोखाधड़ी का मामला कम होने का नाम नहीं ले रहा। मजाराजगंज जिले में चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां किसानों की जानकारी के बिना उनके नाम पर फर्जी खाता खोलकर औने-पौने दाम पर खरीदे गए किसानों के हजारों क्विंटल धान सरकारी क्रय केन्द्रों पर एमएसपी पर बेच दिये गए। मामला सामने आने के बाद पुलिस और विपणन विभाग ने जांच शुरू कर दी है।


इस फर्जीवाड़े के मास्टरमाइंड के रूप में जिले के एक प्रतिष्ठित कारोबारी का नाम सामने आ रहा है। पुलिस उसकी गिरफ्तारी की कोशिश में जुटी है, लेकिन वह फरार है। पुलिस चार लोगों को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ कर रही है, हालांकि उनका कहना है कि वह उनका काम डाटा इंट्री से ज्यादा कुछ नहीं था। जांच कर रही टीम इस बात का पता लगाने की कोशिश में जुटी है कि किसानों से कम कीमत पर खरीदा गया कितना धान एमएसपी पर बेचा गया है।


कोतवाली क्षेत्र के शिकारपुर में एक मकान पर पुलिस और साइबर सेल ने संयुक्त छापेमारी कर वहां से भारी संख्या में चेकबुक-पासबुक, एक्टिवेटेड सिमकार्ड के अलावा 19 सरकारी क्रय केन्द्रों की मुहर बरामद भी बरामद की है। इस फर्जीवाड़े में बैंक की भूमिका भी संदिध मानी जा रही है, क्योंकि पासबुक पर आगे और पीछे दोनों ओर कोड भाषा में हस्ताक्षर है। इसके अलावा मुहर मिलने से क्रय केन्द्रों के भी इसमें संलिप्त होने की आशंका है।

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned