लश्कर के 4 प्रशिक्षित आतंकियों के यूपी में घुसने की खबर, निशाने पर चार शहर!

लश्कर के 4 प्रशिक्षित आतंकियों के यूपी में घुसने की खबर, निशाने पर चार शहर!
आतंकी घुसपैठ

Mohd Rafatuddin Faridi | Publish: Dec, 05 2018 10:57:54 AM (IST) Mahrajganj, Mahrajganj, Uttar Pradesh, India

काठमांडू के रूपडीहा बॉर्डर से होते हुए भारत में घुसपैठ की खबर के बाद पूरे नेपाल बॉर्डर पर एलर्ट।

Terrorist Infiltration

महराजगंज. नेपाल से लश्कर-ए-तैयबा के चार आतंतियों के भारत में प्रवेश की खबर से बार्डर पर अलर्ट जैसी स्थिति है। यहां तैनात सुरक्षा एजेंसियां सतर्क है। लश्कर के आतंकियों के देश के किसी बड़े शहर में तबाही मचाने की योजना है।

 

बता दें की लश्कर ने अपने चार आतंकियों को नेपाल की राजधानी काठमांडू से रूपडीहा बॉर्डर होते हुए भारत में घुसपैठ कराये जाने की खबर है। रूपहीडीहा पश्चिमी नेपाल बार्डर पर है जो बहराइच और बलरामपुर जिले के उत्तरी भुभाग को स्पर्श करता है। इसके पहले सिद्धार्थ नगर जिले के बढ़नी तथा महराजगंज जिले के सोनौली बॉर्डर से आतंकियों के घुसपैठ की खबरें आ चुकी है। अब रूपहीडीहा बार्डर से लश्कर के आतंकी के प्रवेश की खबर से संपूर्ण नेपाल बार्डर पर अलर्ट घोषित किया गया है।

 

खुफिया सूत्रो के मुताबिक लश्कर के इन प्रशिक्षित चार आतंकियों के निशाने पर देश के चार शहर हैं। इन्होंने राजधानी दिल्ली के अलावा मुंबई, हैदराबाद व यूपी के एक शहर को निशाना बनाने की साजिश रची गई है।खूफिया रिपोर्ट में बताया गया है कि इन आतंकियों में से दो मकसूद खान व मौलाना जब्बार ने बुलंदशहर में आयोजित एक कार्यक्रम में भी हिस्सा लिया है।

 

ये खतरनाक आतंकी किसी भी बड़ी घटना को अंजाम दे सकते हैं। इनको पकड़ने के लिए विशेष शाखा व पुलिस के साथ रेलवे को भी सतर्क किया गया है।आशंका है कि शेष आतंकी हाजीपुर के रास्ते महानगर के लिए ट्रेन की यात्रा कर सकते हैं। खुफिया विभाग ने जिन चार आतंकियों को चिह्नित किया है, उन्होंने अफगानिस्तान व पाकिस्तान में आयोजित कैंप में प्रशिक्षण लिया है और किसी भी तरह का ऑपरेशन चलाने में सक्षम हैं। सूत्रों के मुताबिक, इन चार आतंकियों की भारत में मदद के लिए लश्कर ने अपने स्लीपर सेल को पहले ही आगाह कर दिया है।

 

बिहार व यूपी में मौजूद संगठन के स्लीपर सेल इन आतंकियों को अपने टारगेट तक पहुंचने में मदद कर रहे हैं। खुफिया विभाग ने संबंधित अधिकारियों को इन आतंकियों पर पैनी निगाह रखने के साथ इन्हें मदद पहुंचाने वाले स्लीपर सेल की पहचान करने को भी कहा है। माना जा रहा है कि भारत में इन्हें हथियार व पैसा यहां मौजूद स्लीपर सेल से ही मिलने वाला है।आतंकी किसी भी तरह स्लीपर सेल तक पहुंचने की फिराक में हैं लेकिन चारों ओर से सुरक्षा घेरे में फंसे होने के कारण उन्हें मुश्किल पेश आ रही है।
By Yashoda Srivastava

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned