निकाय चुनाव खत्म होते ही ध्वस्त हुई बिजली आपूर्ति, उपभोक्ता त्रस्त

Akhilesh Tripathi

Publish: Dec, 07 2017 08:25:35 (IST)

Maharajganj, Uttar Pradesh, India
निकाय चुनाव खत्म होते ही ध्वस्त हुई बिजली आपूर्ति,  उपभोक्ता त्रस्त

शासन की तरफ से ग्रामीण इलाकों में 18-20 घंटे बिजली आपूर्ति का निर्देश दिया गया है ।

महाराजगंज. सूबे में 24 घंटे बिजली देने का दावा कर सत्ता में आई योगी सरकार के गठन के छह माह से अधिक बीत जाने के बाद भी लोगों को बिजली की भारी किल्लत का सामना करना पड़ रहा है। शासन की तरफ से ग्रामीण इलाकों में 18-20 घंटे बिजली आपूर्ति का निर्देश दिया गया है, मगर इलाके में महज 8- 10 घंटे ही बिजली लोगों को मिल पा रही है।

 

जिले की 25 लाख आवादी में से करीब 15 लाख आबादी गांवों व ग्रामीण कस्बों में बसती है। प्रदेश सरकार के फरमान के बावजूद ग्रामीण क्षेत्र के उपभोक्ताओं को शेड्यूल के मुताबिक बिजली नहीं मिल रही है। स्थानीय निकाय चुनाव के बाद से बिजली आपूर्ति की स्थिति और खराब हुई है। इसके तमाम कारणों को गिनाते हुए जिले के विभागीय अधिशासी अभियंता का कहना है कि बिजली आपूर्ति की यह स्थति दस जनवरी या उससे कुछ अधिक समय तक रह सकती है।

 

मिली जानकारी के अनुसार गोरखपुर जिले के मोतीराम अड्डा बिजली केन्द्र पर चल रहे काम के मद्देनजर गोरखपुर व महाराजगंज के ग्रामीण क्षेत्रों में शासन के मंशा के अनुसार आपूर्ति नही मिल सकेगी। इस दौरान सम्बंधित ग्रामीणों को महज 8-10 घंटे ही बिजली आपूर्ति होगी। आपूर्ति का शेड्यूल ऐसे समय है जब बिजली की आवश्यकता नहीं रहेगी।

 

बता दें कि स्थानीय निकाय चुनाव के पूर्व शेड्यूल से अधिक आपूर्ति मिल रही थी पर अचानक बिजली आपूर्ति में ब्रेक लग जाना हैरत करने वाला है। गोरखपुर के अलावा महराजगंज जिला भी मुख्यमंत्री का अपना क्षेत्र है जंहा के चौक, ठूठीबारी सहित ऐसे तमाम इलाके व स्थान हैं, जहां मुख्यमंत्री बनने के पूर्व योगी का आना जाना लगा रहता था, वहां भी बिजली की स्थिति भी बेहद खराब है। वहीं स्थानीय लोगों का कहना है कि शासन को बदनाम करने के लिये बिजली विभाग अपनी मनमानी पर आमादा है, जिसका खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned