टिकट दलाली में रेलवे कलर्क गिरफ्तार, नेपाली यात्रिायें से करता था वसूली

महाराजगंज में दलाली के आरोप में रेलवे क्लर्क गिरफ्तार, जांच के बाद हुई कार्रवाई।

महराजगंज. रेलवे में टिकटों के फर्जीवाड़ा के खुलाशे के बाद अब टिकट काटने वाले कलर्कों द्वारा धनउगाही कर टिकटों के हेराफेरी का मामला प्रकाश में आया है।नेपाल के एक यात्री की निशानदेही पर आरपीएफ ने लंबी जांच की।आरोप सही पाए जाने पर नौतनवा रेलवे स्टेशन पर तैनात टिकट काटने वाले एक कलर्क को शुक्रवार देर शाम गिरफ्तार कर लिया गया।


नौतनवा नेपाल सीमा का अंतिम रेलवे स्टेशन है।यहां हजारों की संख्या में नेपाली यात्रियों का ट्रेन द्वारा आवागमन होता है।सीधेसाधे और भोलेभाले नेपाली यहां आए दिन ठगी और चीटिंग का शिकार होते रहते हैं।नौतनवा रेलवे स्टेशन नेपाली यात्रियों के ठगने के मामले में खाशा चर्चित है।एक नेपाली यात्री के साथ आरक्षण टिकट की दलाली में स्टेशन पर तैनात टिकट कलर्क पुषपपुंज प्रसाद को आरपीएफ के सवइंस्पेक्टर चौथी प्रसाद यादव ने गिरफ्तार कर लिया।सवइंस्पेक्टर यादव ने बताया कि बिहार प्रांत के थाना रोसवा जिला समस्तीपुर निवासी पुष्पपुंज को टिकट दलालों से मिलकर आरक्षण टिकटों में धनउगाही के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।


सब इंसपेक्टर यादव ने बताया कि नौ सितम्बर 2017 को टिकट दलाली के आरोप में कृष्ण कुमार गुरूंग पुत्र सख्त बहादुर निवासी वार्ड नं 13 सिद्धार्थ नगर जिला रूपनदेही (नेपाल) के पास से अलग अलग नाम पते के चार रेलवे आरक्षण टिकट (गोरखपुर से लोकमान्य तिलक ट्रेन ) का बरामद हुआ था। कृष्ण कुमार के बयान के आधार पर टिकट बाबू से फोन पर बात करने व मिल कर की गई पूछताछ में पच्चास रूपया प्रति टिकट के हिसाब से बाबू द्वारा पैसा ले कर टिकट बनाने के आरोप की पुष्टि हुई। 27 सितम्बर 2017 टिकट बाबू को सह अभियुक्त बना कर रेलवे की संबंंधित धारा के तहत मुकदमा दर्ज किया गया और इसी क्रम में शुक्रवार को देर शाम उसकी गिरफ्तारी की गई। इस सम्बंध मे रेलवे सुरक्षा बल के सहायक सुरक्षा आयुक्त (गोरखपुर क्षेत्र) अमित गुंजन का कहना है कि रेलवे आरक्षण केन्द्र नौतनवां मे तैनात टिकट आरक्षण बाबू को टिकट दलाली के आरोप में गिरफ्तार कर अग्रीम कार्यवाही की जा रही है ।

by YASODA SRIWASTAVA

 

 

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned