विदेशी घुसपैठियों के लिए मुफीद बनता जा रहा है सोनौली बार्डर

विदेशी घुसपैठियों के लिए मुफीद बनता जा रहा है सोनौली बार्डर

Ashish Kumar Shukla | Publish: Jul, 13 2018 10:09:41 PM (IST) Mahrajganj, Uttar Pradesh, India

साल भीतर आधा दर्जन घुसपैठिए आए पकड़ में

महराजगंज. भारत नेपाल सीमा का सोनौली बार्डर विदेशी घुसपैठियों के लिए मुफीद है। यही वजह है नेपाल सीमा के अन्य बार्डर के इतर अवैध विदेशी घुसपैठिए इस बार्डर का इस्तेमाल अधिक करते हैं। बीती घटनाओं को छोड़ दें इसी साल करीब आधा दर्जन विदेशी अवैध रूप से घुस पैठ करते पकड़े गए।
अभी कुछ ही दिन पूर्व एक चीनी नागिरक इस रास्ते चीन वापस जाने की फिराक में पकड़ा गया।

यह चीनी नागरिक पिछले आठ साल से हैदराबाद रह रहा था और फिर इसी बार्डर से शुक्रवार को एक रोहिंग्या दंपत्ति को एसएसबी सीमा पार करते रोका। इस दंपत्ति से सीमा के खुफिया अफसर पूछताछ कर रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक सितंबर 2017 से अब तक आधा दर्जन विदेशी नागरिक वैध कागजात के अभाव में सीमा पार करते पकड़े गए। सितंबर 2017 में नीदरलैण्ड का नागरिक मिगुएस कारलोस को पकड़ा गया था। जिसकी अभी कुछ दिन पहले जेल में रहते हुए मौत हो गई।

उसके बाद 21 नवंबर 2017 को फ़्रान्स के नारिक थाइबल्ट जैकस को पकड़ा गया। 6 अप्रैल 2018 को चीनी नागरिक चेनलांग हुई। 2018 को रोमानियायी नागरिक पोपो वीसी पकड़ा गया। 9 जुलाई 2018 को चीनी नागरिक लीजी कुं पकड़ा गया। आबर्जन अधिकारी केएन प्रसाद ने बताया कि नेपाल जाने वाले या नेपाल से आने वाले विदेशी नागरिकों की गहन जांच होती है। अवैध दस्तावेज पाए जाने पर उनके खिलाफ कार्रवाई होती है।

सोनौली बार्डर पर विदेशी घुसपैठियों की वजह से महराजगंज के जिलाकार को अंतरराष्ट्रीय जेल भी कह सकते हैं। इस जेल विभिन्न आरोपों के तहत 13 विदेशी नागरिक बंद है। पिछले दिनों नीदरलैंड के नागिरक कारलोस की मौत के बाद विदेशी कैदियों को लेकर जेल प्रशासन अब सतर्क है।

महिला पर छींटाकसी करने वाले एसएसबी जवान पर हुई कार्रवाई

वहीं दूसरी तरफ सोनौली कोतवाली क्षेत्र के सोनौली बार्डर पर तैनात एसएसबी के तीन जवानों का स्थानांतरण कर उनके खिलाफ विभागीय जांच शुरू कर दी गई है। जवानों के खिलाफ कस्बे की एक महिला ने छींटाकसी और मारने पीटने की धमकी का आरोप लगाया था। इस बात की जानकारि एसएसबी के सहायक कमांडेंट नवकुमार सिंह ने शुक्रवार को दी। बता दें कि कस्बे की रहने वाली एक महिला ने सोनौली बार्डर पर तैनात एसएसबी जवानों पर छींटाकसी और अश्लील शब्दों के प्रयोग तथा पीटने का आरोप लगाते हुए सोनौली पुलिस को तहरीर दी थी। पुलिस ने भी इस मामले जांच शुरू कर दी थी कि इससे पहले मामले को एसएसबी के अधिकारयों ने गम्भीरता से लेते हुए देर रात को आरोपी जवान के साथ उक्त मामले को छिपाने के आरोप में अन्य तीन के विरुद्ध स्थानांतरण की कार्रवाई कर मामले की विभागीय जांच की शुरू कर दी है।

कस्बे की रहने वाली नूरजहाँ पत्नी अब्दुल मजीद ने सोनौली पुलिस को दी तहरीर में आरोप लगाया था कि मंगलवार की रात को वह अपने घर से बेलहिया (नेपाल) सामान खरीदने जा रही थी। उसी समय एसएसबी का एक जवान मुझ पर छींटाकसी करते हुए अश्लील शब्दों का प्रयोग किया। मना करने पर गाली गलौज पर उतर आया। महिला ने पुलिस को तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की थी।

 

input- yashoda shrivastava
इस सवंध में एसएसबी के सहायक कमांडेट सोनौली नव कुमार सिहं ने बताया कि उक्त मामले को गम्भीरता से लेते हुए आरोपी वाले जवान को स्थान्तरित कर विभागीय जांच की जा रही है। वहीं सोनौली कोतवाल के इंस्पेक्टर बिहागड़ सिंह ने कहा कि तहरीर मिली थी किन्तु आरोप लगाने वाली महिला एसएसबी जवानों पर विभागीय कार्रवाई से संतुष्ट हो गयी है लिहाजा इस प्रकरण में पुलिस की कार्रवाई समाप्त कर दी गई.

 

 

Ad Block is Banned