एसएसबी के आईजी ने किया नेपाल सीमा का निरीक्षण

कहा दोनों देशों के परस्पर सहयोग से अपराध नियंत्रण संभव

By: Ashish Shukla

Published: 20 Jan 2018, 09:32 PM IST

महाराजगंज. नेपाल सीमा की सुरक्षा, हाल के अपराधों की समीक्षा और एसएसबी जवानों का स्थानीय निवासियों के साथ व्यवहार को लेकर एसएसबी के आईजी सौरभ त्रिपाठी ने शनिवार को नेपाल सीमा के सोनौली बार्डर का नीरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने स्थानीय लोगों से जवानों के वर्ताव की फीडबैक भी ली। एसएसबी आईजी के दौड़े को यूं तो 26 जनवरी की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर रूटीन कार्यक्रम बताया गया लेकिन पिछले दिनों एसएसबी की फायरिंग से मारे गए युवक कमलेश प्रकरण से भी जोड़कर देखा जा रहा है।

कमलेश की मौत के बाद एसएसबी पर अंगुलियां उठ रही है।उसे राजनीतिक दलों के अलावा ग्रामीणों के भारी विरोध का सामना करना पड़ रहा है। 26 जनवरी की सुरक्षा को लेकर शनिवार को एसएसबी के आईजी सौरभ त्रिपाठी ने सोनौली सीमा का निरीक्षण किया।इस दौरान सीमा पर तैनात भारतीय सुरक्षा अधिकारियों के साथ नेपाल के सीमायी अधिकारियों संग एक बैठक भी की।

इस दौरान एसएसबी के डीआईजी रंजीत सिंह, डिप्टी सेनानायक दिलीप झा, राजा मुराद अली,अविनाश कुमार,चौकी इन्चार्ज अवधेश नारायण,बेलहिया(नेपाल) के थाना इन्चार्ज वीर बहादुर थापा भी मौजूद रहे। आईजी ने 26 जनवरी के मद्देनज़र नेपाल पुलिस को अग्रिम बधाई देते हुए उन्हें मिठाई दी। नेपाल के पुलिस अधिकारियों ने भी शुभकामना दी। आईजी ने कहा सोनौली का उनके पहला दौरा था। 26 जनवरी के मद्देनज़र सीमा पर सुरक्षा और चेकिंग बढ़ाई गई है और हर आने जाने वालों पर विशेष नज़र राखी जायेगी।

दोनों देशो के अधिकारियों से समन्वय बना कर सूचना के आदान प्रदान पर जोर दिया गया है ताकि सीमा को सुरक्षित रखा जाए। उन्होंने कहा कि नेपाल की खुली सीमा अपराध का प्रमुख कारण है। इसपर दोनों देशों के सुरक्षा अधिकारियों के तालमेल के बिना नियंत्रण कर पाना मुश्किल है।कहा कि चाहे तस्कर हों,आतंकी संगठन हो या परंपरागत अपराधी इनसे खतरा दोनों देशों को है।इनसे निपटने के लिए दोनों देशों का परस्पर सहयोग जरूरी है।

 

INPUT BY- YASHODA SHRIVASTAVA

Ashish Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned