सर्राफा व्यवसायी पर जानलेवा हमले के आरोप में दो अपराधी गिरफ्तार

सर्राफा व्यवसायी पर जानलेवा हमले के आरोप में दो अपराधी गिरफ्तार

Akhilesh Kumar Tripathi | Publish: Sep, 26 2018 06:19:12 PM (IST) | Updated: Sep, 26 2018 06:19:13 PM (IST) Mahrajganj, Uttar Pradesh, India

घटना में प्रयुक्त बाइक व असलहा भी बरामद कर लिया गया है।

महाराजगंज. फरेंदा कलबे में कुछ दिन पूर्व ज्वेलरी दुकान के मालिक पर जानलेवा हमला के मामले में पुलिस ने दो अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है । गिरफ्तार आरोपी शातिर बदमाश हैं और इनके खिलाफ अलग अलग थानों में संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज है। घटना में प्रयुक्त बाइक व असलहा भी बरामद कर लिया गया है।

बता दें कि 18 सितंबर को रात नौ बजे फरेन्दा के कस्बा फरेन्दा मिल गेट के सामने स्थित पूजा ज्वेलर्स के मालिक संजय वर्मा पर बाइक सवार तीन बदमाशों ने उस वक्त फायर झोंक दिया था जब वह अपनी दुकान बन्द करके अपने घर जाने के लिए बाइक पर बैठने जा रहे थे। बदमाश संजय वर्मा को गोली मारकर फरार हो गये थे।

इस सूचना पर तत्काल प्रभारी निरीक्षक फरेन्दा मय पुलिस बल मौके पर पहुंचकर घायल संजय वर्मा को ईलाज हेतु बनकटी पीएचसी पंहुचाया जहां स्थिति गंभीर होने पर घायल संजय वर्मा को बेहतर इलाज के लिये मेडिकल कॉलेज गोरखपुर रेफर कर दिया।

इस सम्बन्ध में संजय वर्मा की पत्नी अंजू वर्मा की तहरीर पर एफआईआर धारा 307 अज्ञात पर पंजीकृत किया गया। इस मामले में बदमाशों की गिरफ्तारी के लिये अपर पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में पुलिस की पांच टीमें गठित की गई थी।

पुलिस टीम को जांच के दौरान घटनास्थल से प्राप्त सीसीटीवी फुटेज़, घटना के समय मौजूद व्यक्तियों के बयान और इलेक्ट्रानिक माध्यम से उक्त घटना में शामिल जानू यादव डोहरिया थाना चिलुआताल जनपद गोरखपुर और अजीत सिंह पुत्र रामसूरत सिंह परसिया इन्दरपुर थाना श्यामदेउरवा जनपद महराजगंज को गिरफ्तार किया है.एक अन्य सहयोगी की भी घटना में संलिप्तता है, जिसकी तलाश की जा रही है।

 

दोनों अभियुक्तों को प्रभारी निरीक्षक फरेन्दा व प्रभारी स्वाट मय टीम कैम्पियरगंज बार्डर पर स्थित मोदीगंज पुल के निकट भारी वैसी से गिरफ्तार किया। उनके पास से घटना में प्रयुक्त एक अदद पिस्टल 9 एमएम व एक अदद जिन्दा कारतूस 9 एमएम व घटना में प्रयुक्त पल्सर मोटरसायकिल बिना नम्बर की बरामद किया गया।

घटना के सम्बन्ध में पूछताछ करने पर अभियुक्त ने बताया कि हम लोग घटना के करीब एक सप्ताह पहले से लूट के इरादे से उक्त व्यवसायी की रेकी कर रहे थे। घटना वाले दिन हम लोग लूट के इरादे से ही गये थे। जानू ने बताया कि बाइक उसका एक अन्य साथी चला रहा था, मैं बीच में बैठा था और गोली मैने मारी थी व बैग लेने का प्रयास अजीत सिंह ने किया था। असफल होने पर पुनः गोली चलाते हुए हम तीनों फरार हो गये। घटना के जांच में लगी पुलिस टीम को पुलिस अधीक्षक ने 5000 रुपये नगद पुरस्कार से पुरस्कृत किया है ।

 

 

BY- YASHODA SRIVASTAVA

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned