विरोधी को एससी-एसटी एक्ट में फंसाने के लिए खुद दलित ने तोड़ी आंबेडकर की मूर्ति

विरोधी को एससी-एसटी एक्ट में फंसाने के लिए खुद दलित ने तोड़ी आंबेडकर की मूर्ति

suchita mishra | Publish: Dec, 24 2018 01:44:17 PM (IST) | Updated: Dec, 24 2018 01:45:35 PM (IST) Mainpuri, Mainpuri, Uttar Pradesh, India

आरोपी ने विरोधी को दी थी एससी एसटी एक्ट में फंसाने की धमकी।

मैनपुरी। जिले में एक दलित व्यक्ति ने विरोधी को एससी एसटी एक्ट में फंसाने के लिए खुद ही आंबेडकर की मूर्ति को क्षतिग्रस्त कर दिया। घटना को अनुसूचित जाति के लोगों ने ही अपनी आखों से देखा इसलिए मामला खुलकर सबके सामने आ गया। फिलहाल पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

थाना कुरावली के गांव राजलपुर का रहने वाला दिनेश जाटव शराब पीने का आदी है। वो अक्सर शराब के नशे में हंगामा करता है। शनिवार रात को करीब आठ बजे वो गांव के ही रामचरन जाटव के साथ गाली-गलौज कर रहा था तभी गांव का सत्यपाल यादव वहां आ गया। सत्यपाल ने दिनेश को गाली गलौज करने पर जोर से डांट लगा दी। इससे दिनेश चिढ़ गया और सत्यपाल को एससी एसटी एक्ट के केस में फंसाने की बात कही।

थोड़ी देर बाद ही गांव में लगी डॉ. भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा क्षतिग्रस्त मिली। मूर्ति का सिर टूटा हुआ था। गांव में ये बात आग की तरह फैल गई। इस दौरान दिनेश वहां पहुंचा और मूर्ति तोड़ने का आरोप सत्यपाल यादव पर लगाने लगा। सूचना पर वहां पुलिस भी पहुंच गई। इस बीच अनुसूचित जाति के ही कुछ लोगों ने पुलिस को दिनेश के विवाद के बारे में बताया। वहीं कुछ लोगों ने बताया कि उन्होंने दिनेश को प्रतिमा तोड़ते देखा है। इसके बाद रामचरन ने दिनेश के खिलाफ प्रतिमा तोड़ने का मामला दर्ज कराया। रविवार को पुलिस ने दिनेश को गिरफ्तार कर लिया। इस मामले में इंस्पेक्टर कुरावली ओमहरि बाजपेई ने बताया कि प्रतिमा की मरम्मत करा दी गई है। आरोपित के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned