समुद्र की गहराई में कीमती चीजों के ढ़ूंढने का क्षेत्र है मरीन आर्कियोलॉजी

समुद्र की गहराइयों में छिपी किसी ऐतिहासिक चीज को ढूंढने के काम को मरीन आर्कियोलॉजी कहते हैं।

समुद्र की गहराइयों में छिपी किसी ऐतिहासिक चीज को ढूंढने के काम को मरीन आर्कियोलॉजी कहते हैं। इस दौरान पानी के नीचे मिले अवशेषों के जरिए मानव जीवन के इतिहास, उसके व्यवहार और संस्कृति का अध्ययन अंडरवॉटर या मरीन आर्कियोलॉजी कहलाता है। समुद्र, झील या नदी के नीचे दबे ऐसे प्राचीन साइट, हार्बर या पुल का पता लगाया जाता है जहां किसी समय में आबादी रहा करती थी, लेकिन समुद्र के बढ़ते जलस्तर के कारण वह उसके अंदर समा गई। आर्कियोलॉजी की यह एक महंगी ब्रांच है क्योंकि इसमें पानी के नीचे खुदाई करने जमीन से ज्यादा खर्च आता है।

शैक्षणिक योग्यता
12वीं कक्षा पास होने के अलावा इतिहास विषय में ग्रेजुएट या अन्य डिग्री होना अनिवार्य है। साइंस बैकग्राउंड वाले ऐसे स्टूडेंट्स जो आर्टिफैक्ट्स के संरक्षण का कोर्स करते हैं उन्हें इस क्षेत्र में आसानी होती है। स्टूडेंट चाहें तो एंशिएंट और मिडिएवल हिस्ट्री में पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्र्री प्राप्त कर सकते हैं। भारत में अंडरग्रेजुएट, पोस्टग्रेजुएट और डॉक्टरल लेवल पर इससे संबंधित कोर्सेज कर सकते हैं। डिग्री लेने के बाद युवाओं को इस क्षेत्र का प्रशिक्षण लेना पड़ता है। इस क्षेत्र में वोकेशनल, डिप्लोमा या शॉर्ट टर्म कोर्स भी किया जा सकता है।

प्रमुख स्किल्स
ऐसे युवा जिन्हें जिंदगी में एडवेंचर पसंद होता है उनके लिए यह क्षेत्र बेहद रुचि वाला हो सकता है। खास बात यह है कि इस क्षेत्र में खतरा बहुत होता है क्योंकि मालूम नहीं होता है कि पानी के नीचे कैसी परिस्थिति होगी। मरीन आर्कियोलॉजिस्ट के पास डाइविंग और सर्वेइंग जैसी प्रेक्टिकल स्किल होना जरूरी है। डाइवर्स को समुद्र व डाइविंग की नॉलेज व एक्सप्लोरेशन के लिए इक्विप्मेंट को चलाना आना चाहिए। प्रोफेशनल में टेक्नीकल नॉलेज के अलावा कम्युनिकेशन स्किल्स होनी चाहिए।

रोजगार की संभावनाएं
अंडर वाटर टूरिज्म के विकसित होने से मरीन आर्कियोलॉजी को लेकर आकर्षण बढ़ा है। दुनियाभर के रिसर्च इंस्टीट्यूट वैश्विक स्तर पर टेस्ट ऑर्गेनाइज कर समुद्र या झील केे नीचे की दुनिया का पता लगाने के लिए कुशल एवं प्रशिक्षित आर्कियोलॉजिस्ट को नियुक्त करते हैं। शुरुआती दौर में तो इनकी सैलेरी ज्यादा नहीं होती लेकिन अनुभव के साथ सफलता मिलती है और आमदनी भी अच्छी होती है।

यहां से ले सकते हैं शिक्षा

  • यूनिवर्सिटी ऑफ मुम्बई
  • पुडुचेरी यूनिवर्सिटी
  • आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया, नई दिल्ली
  • इलाहाबाद यूनिवर्सिटी, उत्तर प्रदेश
  • इंडियन काउंसिल ऑफ हिस्टॉरिकल रिसर्च, नई दिल्ली
  • जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली
  • कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी, हरियाणा
  • इंस्टीट्यूट ऑफ आर्कियोलॉजी, नई दिल्ली
  • नेशनल आर्काइव्स ऑफ इंडिया, नई दिल्ली
Show More
सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned