एम्प्लॉयर के लिए पॉजिटिव वर्क इनवायरनमेंट को बनाए रखने के लिए बुलीइंग का रोकना जरूरी है।

Bulling In Office : यदि आपकी आइडियल जॉब में किसी तरह का भय या आशंका पैदा हो जाए तो, उसे बुलीइंग के नाम से जाना जता है। वर्कप्लेस पर इस तरह का माहौल...

By: Deovrat Singh

Published: 10 Feb 2018, 03:59 PM IST

Bulling In Office : यदि आपकी आइडियल जॉब में किसी तरह का भय या आशंका पैदा हो जाए तो, उसे बुलीइंग के नाम से जाना जता है। वर्कप्लेस पर इस तरह का माहौल पैदा करने के पीछे आपके बॉस या कलीग, कोई भी हो सकते हैं, जो आपके काम करने की स्टाइल या फिर दक्षता को लेकर आपमें भय, तनाव और असुरक्षा जैसी परिस्थितियां पैदा कर सकते हैं। बुलीइंग एक तरह से व्यक्ति को उसके टारगेट को अचीव करने से भी रोकती है। बुलीइंग आत्मसम्मान में भी गिरावट लाने का काम करती है। इसलिए यदि आप भी ऑफिस में इसी तरह के माहौल का सामना कर रहे हैं तो आपको इससे बचने का प्रयास करना होगा, तभी आप अपने लक्ष्यों को जल्दी हासिल कर सकेंगे, जानते हैं इससे निपटने के कुछ टिप्स...

मेंटर की सलाह लें
मेंटर या फिर किसी विश्वसनीय व्यक्ति से सलाह लें, जिन्हें कि आपसे ज्यादा तर्जुबा हो। ऐसे लोग वर्कप्लेस बुलीइंग को आसानी से समझ सकते हैं। इनकी सलाह से आप वर्कप्लेस के नेगेटिव माहौल में परिवर्तन ला सकते हैं। इसके अलावा आपको जिस व्यक्ति से परेशानी है, उससे बात करें और समस्या को दूर करने का रास्ता निकालें। ताकि आपका काम बाधित न हो सके।

एक डायरी बनाएं
वर्कप्लेस बुलीइंग को रोकने के लिए एक डायरी बनाएं और उसमें ऑफिस की हर घटना को नोट करें। डायरी में यह भी नोट करें कि किसी भी व्यक्ति ने आपके साथ किस तरह का व्यवहार किया। इस तरह जब ऐसी घटनाओं के संख्या ज्यादा नजर आएगी तो आपके लिए यह निर्णय लेना आसान होगा कि आप वर्कप्लेस बुलीइंग का शिकार तो नहीं हो रहें।


साथियों से बात करें
आप जिनके साथ काम करते हैं, वे आपके साथ होनी वाली ऐसी घटनाओं के साक्षी होते हैं। इसलिए मैनेजमेंट के सामने बुलीइंग के बारे में बातचीत करते समय आपको साथियों का सपोर्ट मिल सकता है। इससे वर्कप्लेस पर आपको बार-बार किसी न किसी कारण से परेशान करने वाले व्यक्ति के खिलाफ कोई ठोस कदम उठाया जा सके। इसलिए साथियों से बात करना जरूरी है।


सपोर्ट नेटवर्क बनाएं
यदि आपका नेटवर्क मजबूत होगा तो वह आपको वर्कप्लेस बुलीइंग से बचाने में मदद कर सकता है। प्रोफेशनल और पर्सनल नेटवर्क आपके कॉन्फिडेंस को बूस्ट करने का काम करता है। ऐसे साथियों को सर्च करें जो बुलींग के खिलाफ आपके साथ आवाज उठाने के लिए तैयार हों। ऐसे लोगों के साथ पॉजिटिव रिलेशनशिप बना सकते हैं।

 

आपकी स्किल्स के बारे में पता हो
बुलीइंग से आपकी बॉस के सामने नेगटिव इमेज बन सकती है। बॉस स्वयं भी बुलीइंग के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं। ऐसे में आपको एक मीटिंग की प्लानिंग करनी चाहिए। इस दौरान अपनी डायरी को साथ लेकर जाएं और उसमें बुलिज बिहेवियर को हाईलाइट करें। साथ ही साक्ष्यों के रूप में अपने साथियों को भी मीटिंग में शामिल करें। यदि मीटिंग के दौरान आप इमोशनल हो सकते हैं तो आपको सभी महत्वपूर्ण बातों को पहले से ही एक कागज पर नोट करके रखना चाहिए, ताकि आप मीटिंग में कोई बात भूलें नहीं। इस तरह आप वर्कप्लेस बुलीइंग से निपट सकते हैं।

Deovrat Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned