टेक्नोलॉजी से आसान होगी राह, ऐसे लें काम में

कुछ बहुत अच्छे प्रोजेक्ट्स में टेक्नोलॉजी को काम में नहीं लिया जाता है। कई बार विद्यार्थी इनसे काफी ज्ञान प्राप्त करते हैं।

जब आप नया टेक्नॉलॉजी ऐप देखें तो विचार करें कि क्या यह एप्लीकेशन आपको आगे बढऩे के लिए प्रेरित करती है। टेक्नोलॉजी का सही इस्तेमाल आपको आगे बढ़ा सकता है। यह एक अच्छा आइडिया है कि स्टूडेंट द्वारा तैयार की गई इंटरेक्टिव टाइमलाइन को उनके फाइनल टेस्ट के लिए स्टूडेंट गाइड के तौर पर काम में लिया जाए। इसमें छात्रों के पास क्रोनोलॉजिकल संदर्भ होगा। गहरी समझ को दर्शाने के लिए उन्हें अपने शब्दों में इसके महत्व को पहचानना और सारांश बनाना होगा।

इमेजेज को टाइम लाइन से जोडकऱ छात्रों को विजुअल असोसिएशन से सूचनाओं को याद रखने में मदद मिलती है। यह गतिविधि एक नई टेक्नोलॉजी एप्लीकेशन को इंटीग्रेट करेगी। कुछ छात्रों के लिए टेक्नोलॉजी काम में लेना कठिन होता है। कई बार कक्षाओं में छात्र टेक्नोलॉजी के मामले में विफल हो जाते हैं। पर टेक्नोलॉजी दबाने के लिए नहीं, बल्कि आगे बढ़ाने के लिए होती है। कुछ बहुत अच्छे प्रोजेक्ट्स में टेक्नोलॉजी को काम में नहीं लिया जाता है। कई बार विद्यार्थी इनसे काफी ज्ञान प्राप्त करते हैं।

जबर्दस्ती न थोपी जाए टेक्नोलॉजी
जब कुछ विद्यालयों में कुछ कक्षाओं में आइपैड काम में लिए जाने लगे, तो टीचर्स ने फ्रांसीसी क्रांति की पोस्टर एक्टिविटी रीक्रिएट करने के लिए स्टोरीबुक ऐप काम में लेने के लिए प्रेरित किया। पर परिणाम अच्छे नहीं आए। कई बार टेक्नोलॉजी अनावश्यक रूप से थोपने से स्टूडेंट्स सीखने की प्रक्रिया से दूर होने लगते हैं।

टेक्नोलॉजी से दुनिया करीब आती है
टेक्नोलॉजी कंटेंट को अच्छा बनाती है। यह विद्यार्थियों को कोलैबोरेशन की सुविधा देती है। यह विद्यार्थियों को असल दुनिया में ले जाती है और असल दुनिया को कक्षा में लेकर आती है। टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से कुछ सफल असाइनमेंट्स के बारे में जाना जा सकता है।

साथ मिलकर सीखने की प्रेरणा
यूटा स्टेट यूनिवर्सिटी में इतिहास की सहायक प्रोफेसर जूलिया गोसार्ड ने डिजिटल टाइम लाइन असाइनमेंट पर काम किया। उन्होंने भोजन के इतिहास पर विद्यार्थियों से डिजिटल टाइम लाइन तैयार करवाई। इसने स्टूडेंट्स की शोध करने की स्किल, मिलकर काम करने की क्षमता और टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल को प्रोत्साहित किया।

सीखने के लिए कोलेबोरेशन
इकोनॉमिक्स पढ़ाते समय डिमांड और सप्लाई यूनिट को समझने के लिए डॉकेरी (Doceri) एप्लीकेशन को काम में लिया गया। इस ऐप से विद्यार्थी कोलेबोरेशन कर सकते हैं। इस ऐप की मदद से कक्षा में अनुपस्थित विद्यार्थियों की मदद भी की जा सकती है।

आर्ट वर्क पर प्रतिक्रिया
एक शोध के दौरान छात्रों को पुनर्जागरण की कला से जुड़े लेक्चर और एक्टिविटीज के बारे में पढ़ाया गया। उन्हें आर्ट वर्क पर विश्लेषण प्रस्तुत करने के लिए कहा गया। वॉइस थ्रेड (VoiceThread) ने सभी विद्यार्थियों को सीखने के लिए प्रेरित किया। टेक्नोलॉजी ने आपस में चर्चा के माध्यम कक्षा में ज्यादा सहयोग पैदा किया।

ऐप से जानें दुनिया को
टेक्नोलॉजी छात्रों को कक्षा से बाहर ले जाकर काम करने का मौका देती है। टीचर्स ने टूर बिल्डर (Tour Builder) ऐप से स्टूडेंट्स के लिए इंटरेक्टिव रोड ट्रिप तैयार की। इसमें विद्यार्थी नक्शे में पिक्चर पोस्ट कर सकते हैं और लोकेशन के बारे में विस्तार से बता सकते हैं।

Show More
सुनील शर्मा Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned