Book Reader : किताबों के इन कद्रदानों के आगे नतमस्तक हैं दुनिया, पा चुके हैं लाइफ टाइम अचीवमेंट

Book Reader : किताबें यानी कागज के कैनवस पर शब्दों और चित्रों से सजी एक खूबसूरत दुनिया। ई-लर्निंग के कॉन्सेप्ट और इंटरनेट पर कहानियों ...

By: Deovrat Singh

Published: 10 Feb 2018, 03:25 PM IST

Book Reader : किताबें यानी कागज के कैनवस पर शब्दों और चित्रों से सजी एक खूबसूरत दुनिया। ई-लर्निंग के कॉन्सेप्ट और इंटरनेट पर कहानियों व कविताओं की भरमार देखकर एक बार के लिए भले ही लगे कि अब किताबों के दिन बीतने वाले हैं। लेकिन हकीकत कुछ और ही है। इस सच्चाई को केवल वही जान सकता है जिसे आज भी किताबों से इश्क है। जिसे किताबी पन्नों से आने वाली खुशबू लुभाती है। जो किताब को हाथों में लेकर इसके पन्नों को पलटते हुए एक अनूठे सुकून का अहसास कर पाता है। दुनिया के तमाम देशों में किताबों के इतने मुरीद हैं कि इनकी सेवा करते हुए वे न तो रिटायर होना चाहते हैं और न ही इनका साथ छोडऩा चाहते हैं। आइए जानते हैं ऐसे ही दिलचस्प किरदार और बुक स्टोर्स के बारे।


किताबों से इश्क में जिंदगी कर दी नाम
जर्मनी की हेल्गा वीहे को किताबों से इतना लगाव है कि उन्होंने अपना जीवन ही इनके प्रति समर्पित कर दिया। वर्ष 1922 में जन्मीं हेल्गा पिछले सात दशकों से किताबों की सेवा में लगी हुई हैं। उनके इस लगाव की शुरुआत उस समय हुई जब लाल सेना जर्मन शहर की ओर मार्च कर रही थी, हिटलर अभी भी सत्ता पर काबिज था और अस्तित्ववाद के पहले विचारकों में से एक ज्यां-पाल सात्र्र की पुस्तक 'नो एक्जिट' अभी रिलीज ही हुई थी। 96 साल की यह बुजुर्ग जर्मनी की सबसे पुरानी बुकसेलर हैं और रिटायरमेंट का ख्याल अभी भी इनसे कोसों दूर है। वे आज भी अपने बुकस्टोर में सप्ताह के छह दिन काम करती हैं। वे कहती हैं कि जीवन के अंत तक वे इन्हीं किताबों से जुड़ी रहेंगी। हेल्गा के इस स्टोर में आपको रहस्य से भरे नॉवेल तब तक नहीं मिलेेंगे, जब तक की वे बहुत विशेष न हों। हालांकि अगाथा क्रिस्टी और जर्मन थ्रिलर लेखक इंग्रिड नॉल को यहां स्पेस मिला हुआ है। युवावस्था से ही उनके कई सपने थे लेकिन वे किताबों पर ही पूरे होते थे। इसलिए तीसरी पीढ़ी के रूप में उन्होंने इस बुक स्टोर में काम करना शुरू किया।


संयुक्त राज्य अमेरिका में किताबों की सबसे पुरानी दुकान
बैथलेहम, पीए में मोरावियन बुक शॉप वर्ष 1745 में खोली गई। यह संयुक्त राज्य अमेरिका में किताबों की सबसे पुरानी दुकान है। इस शॉप के चार फ्रंट हैं। १५,००० वर्ग फीट में फैले इस स्टोर में किताबों के 10,000-15,000 संस्करण उपलब्ध हैं। मोरावियन चर्च द्वारा स्थापित इस मूल दुकान में ज्यादातर धार्मिक पाठ थे। शुरुआत में केवल प्रिटिंग और पब्लिशिंग का ही काम होता था लेकिन बाद में सेलिंग को भी इसमें शामिल कर लिया गया। इस स्टोर को कई बार स्थानांतरित किया गया। बेथलेहम एक क्रिसमस सिटी है और यह स्टोर इस त्योहार की सजावट का सामान बेचने के लिए भी जाना जाता है जिसे मोरावियन स्टार कहते हैं। क्रिसमस पर चर्च और घरों में लगने वाले स्टार मोरावियन स्टार होते हैं।


दुनिया का सबसे पुराना बुकस्टोर
कि ताबों के कद्रदानों के बीच इस बात को लेकर काफी विवाद है कि आखिर कौनसा बुकस्टोर दुनिया में सबसे पुराना है। 'द गिनीज वल्र्ड रिकॉड्र्स' ने लिस्बन स्थित पुर्तगाल के बट्र्रेंड बुकस्टोर को दुनिया का सबसे पुरान स्टोर माना है। लेकिन पेंसिल्वेनिया के बेथलेहम में मोरावियन बुकस्टोर भी ऐसा ही दावा करता है। लिस्बन में बट्र्रेंड बुकस्टोर, पुर्तगाल के पीटर फाउरे द्वारा वर्ष 1732 में शुरू किया गया था। लिस्बन के केंद्र में स्थित इस स्टोर को दुनिया में सबसे पुरानी किताबों की दुकान माना जाता है।

वर्ष 1755 में लिस्बन में एक विनाशकारी भूकंप आया जिसमें पूरा शहर बर्बाद हो गया। इसी भूकंप में किताबों का मूल स्टोर भी तबाह हो गया। फिर 18 साल के बाद जोसेफ बट्र्रेंड ने इस स्टोर को लिस्बन बाईक्सा में खोला। तब लिवरेरिया बट्र्रेंड बुकस्टोर का जन्म हुआ और अब पुर्तगाल में इसके 50 से अधिक स्टोर हैं। लिवरेरिया की अपनी प्रिंटिंग प्रेस है, जो समय-समय पर प्रिंटिंग और लेखन पर वर्कशॉप का आयोजन करती रहती है। यहां तक कि इसका स्वयं का फॉन्ट भी है। बट्र्रेंड बुकस्टोर अंग्रेजी, पुर्तगाली, स्पेनिश और फ्रेंच में भी किताबें बेचता है। इसके अतिरिक्त यह पुर्तगाली और अंग्रेजी में भी ई-पुस्तक बेचता है। वर्ष 2011 में 'द गिनीज वल्र्ड रिकॉड्र्स' की ओर से जब इसे सबसे पुराना बुकस्टोर घोषित किया तो विवाद शुरू हो गया क्योंकि लोग इसकी बुनियाद भूकंप के बाद के निर्माण से जोड़कर देखने लगे और उनका मानना था कि मोवियान बुक स्टोर सबसे पुराना है।

लाइफ टाइम अचीवमेंट पुरस्कार
अपना पूरा जीवन किताबों को समर्पित करने वाली हेल्गा को जर्मन बुकसेलर एसोसिएशन की ओर से पिछले साल लाइफ टाइम अचीवमेंट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। जब उन्हें यह पुरस्कार मिला तो हेल्गा ने कहा कि यह केवल मेरा और मेरे परिवार का है। हेल्गा के बुकस्टोर 'द साल्जवेडल शॉपÓ में न्यूयॉर्क स्काईलाइन की कई तस्वीरें लगी हुई हैं और एक ब्लू स्ट्रीट साइन भी बना हुआ है जो हेल्गा के अंकल के न्यूयॉर्क स्थित पते को दर्शाता है। इससे पता चलता है कि हेल्गा के मन में न्यूयॉर्क जाने की ख्वाहिश कितनी ज्यादा थी। साल्जवेडल जर्मनी का एक शहर है। इसकी जनसंख्या लगभग 21,500 है। इसी शहर में हेल्गा की किताबों को खरीदने के लिए लोग बोस्टन से लेकर बैंकॉक तक से आते हैं।

Deovrat Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned