एप की मदद से पैदावार बढ़ाने के साथ ही कमाई भी कर रहे किसान

देश में ऐसे 74 फीसदी किसान हैं, जिनके पास खेती से संबंधित पर्याप्त जानकारी नहीं पहुंच पाती है। जानकारी की इस खाई को पाटने के लिए एक गूगल एप बनाई गई है, जो छोटे किसानों की पैदावार को बढ़ाने के उपाय बताने के साथ ही उन्हें प्रोत्साहित भी करती है। देश में 70 फीसदी से अधिक ऐसे छोटे किसान हैं, जो तीन एकड़ से कम जमीन पर खेती करते हैं।

By: जमील खान

Published: 05 Sep 2019, 05:44 PM IST

देश में ऐसे 74 फीसदी किसान हैं, जिनके पास खेती से संबंधित पर्याप्त जानकारी नहीं पहुंच पाती है। जानकारी की इस खाई को पाटने के लिए एक गूगल एप बनाई गई है, जो छोटे किसानों की पैदावार को बढ़ाने के उपाय बताने के साथ ही उन्हें प्रोत्साहित भी करती है। देश में 70 फीसदी से अधिक ऐसे छोटे किसान हैं, जो तीन एकड़ से कम जमीन पर खेती करते हैं। अक्सर अप्रत्याशित मौसम और कीटों की वजह से किसानों की फसलों को नुकसान होता है। इस तरह की स्थिति से पार पाने के लिए पुणे के एक एग्रीटेक स्टार्टअप एग्रोस्टार ने क्लाउड प्लेटफॉर्म पर एक बहुभाषी मोबाइल ऐप पेश की है। यह ऐप पैदावार को बढ़ाने के अलावा देश में छोटे किसानों को प्रोत्साहित करने में मदद करेगी। यह कंपनी 2008 में खेती से संबंधित उपकरण बेचने वाले ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के रूप में शुरू की गई। अब कंपनी ने इसका विस्तार करते हुए गूगल क्लाउड प्लेटफॉर्म (जीसीपी) का रुख किया है। इस एप की मदद से किसान कमाई भी कर रहे हैं।

फर्म अब क्लाउड आधारित एनालिटिक्स का उपयोग कर मशीन लर्निंग (एमएल) मॉडल को पांच भाषाओं में समय पर सलाह प्रदान करने का काम करती है। इनमें सीड ऑपटिमाइजेशन, क्रॉप रोटेशन और मिट्टी पोषण से लेकर कीट नियंत्रण और कम कीमत वाले छोटे किसानों के लिए पूर्वानुमान लगाना शामिल है। एग्रोस्टार के सॉफ्टवेयर इंजीनियर प्रितेश गुड्गे ने बताया कि गूगल क्लाउड की मदद से ऋण लेने संबंधी प्रक्रिया में तेजी आएगी। इसी के साथ फसलों के रोगों का पता लगाने और सप्लाई बढ़ाने में भी मदद मिली।

उन्होंने कहा, एग्रोस्टार अपने एंड्रॉइड एप 'एग्रोस्टार एग्री-डॉक्टर' के माध्यम से दस लाख से अधिक किसानों तक पहुंच गया है। किसान स्थानीय और राष्ट्रीय बाजार के रुझान का भी पता लगा सकते हैं। इससे उन्हें फसलों की कीमतों का पूर्वानुमान लगाने में मदद मिलेगी। गुड्गे ने कहा, हमारे एंड्रॉइड एप्लिकेशन के माध्यम से क्लिक करके किसान नई प्रभावी खेती के तरीकों के बारे में सीखते हैं और अपनी फसल और मिट्टी के लिए अनुकूलित सलाह प्राप्त करते हैं। एग्रोस्टार एआई-पावर्ड सेल्स प्लानिंग और फोरकास्टिंग के साथ अपने एनालिटिक्स प्लेटफॉर्म का भी विस्तार कर रही है।

जमील खान
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned