scriptGold prices firm up in futures | वायदा में तेजी से सोने के भाव मजबूत | Patrika News

वायदा में तेजी से सोने के भाव मजबूत

locationइंदौरPublished: Nov 18, 2022 06:57:41 pm

इंदौर बाजार ..... 18-11-2022-आरटीजीएस में सोना कैडबरी 54300 रुपए प्रति दस ग्राम। चांदी (एसए) चौरसा 62700 रुपए किलो

वायदा में तेजी से सोने के भाव मजबूत
वायदा में तेजी से सोने के भाव मजबूत
सराफा बाजार...
सोने में मजबूती, चांदी नरम
इंदौर. वायदा में तेजी से सोने के भाव मजबूत रहे। चांदी में नरमी दर्ज की गई। कॉमेक्स पर सोना ऊपर में 1768.90 डॉलर प्रति औंस जाने के बाद यह 1761.00 डॉलर प्रति औंस रहा। चांदी ऊपर में २१.३७ डॉलर प्रति औंस पर कारोबार किया बाद में यह 21.15 डॉलर प्रति औंस पर रही। इंदौर सराफा बाजार बंद भाव में : सोना कैडबरी (99.50) 52750 रुपए प्रति दस ग्राम। चांदी (एसए) 60200 रुपए प्रति किलो रही। आरटीजीएस में सोना कैडबरी 54300 रुपए प्रति दस ग्राम। चांदी (एसए) चौरसा 62700 रुपए किलो रही। चांदी सिक्का 750 रुपए प्रति नग रहा।
----------------------------
बंपर आवक से प्याज में गिरावट
इंदौर. देवी अहिल्याबाई होलकर फल एवं सब्जी थोक मंडी में बंपर आवक होने से प्याज के भाव में गिरावट दर्ज की गई। मंडी में पुरानी प्याज की 1.50 लाख व नई प्याज की 12 हजार बोरी आवक हुई। नई प्याज 1500 से 2100 रुपए क्विंटल बिकी। आलू की 12 हजार व लहसुन की 13 हजार बोरी आवक हुई। प्याज बेस्ट 1000 से 1200, एवरेज 700 से 900, गोल्टा 400 से 600, गोल्टी 300 से 400, आलू ज्योति 1300 से 1500, मीडियम 800 से 1200, लहसुन ऊंटी सुपर 3000 से 3500, बोल्ड 2000 से 2500, एवरेज 1500 से 1700 रुपए क्विंटल बिका।
-----------------------
देश में सोयाबीन की 7 लाख बोरी आवक
विदेशी बाजारों में मंदी से खाद्य तेलों के दाम घटे
इंदौर. विदेशी बाजारों में अनिश्चिता के कारण आई मंदी से घरेलू स्तर पर खाद्य तेलों के भाव घटे है। अमरीका रिपोर्ट 10 नवम्बर वाले सप्ताह के दौरान अमरीका से 30 लाख टन सोया के निर्यात सौदे हुए, जो उससे पिछले सप्ताह से 317 प्रतिशत व गत वर्ष की समान अवधि से दोगुना है। कुल निर्यात 360 लाख टन के आसपास। चीन 15.4 लाख टन खरीद के बाद सबसे बड़ा खरीदार। उपरोक्त अवधि के दौरान 2.67 लाख टन सोयामील निर्यात सौदे हुए जो उससे पिछले सप्ताह से 57 प्रतिशत व गत वर्ष से 46 प्रतिशत अधिक, कुल निर्यात 44 लाख टन पहुंचा। सोया तेल बिक्री 374 टन की गई। एक एजेंसी के अनुसार अर्जेंटीना में सोया उत्पादन 478 लाख टन पहुंचने की संभावना है। सूखे के कारण सभी एजेंसियों ने अर्जेंटीना में सोया उत्पादन अनुमान घटाया। विभाग द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार ऑइलमील निर्यात 38 प्रतिशत बढ़ा, हमारा मानना है कि आगमी महीनों में ऑइलमील निर्यात में और वृद्धि आ सकती है। भारतीय ऑइलमील की कीमतें कम होने से निर्यात मांग में सुधार। अगर अगले महीने भी ऑइलमील निर्यात में वृद्धि होती है। तो भविष्य में तिलहन की कीमतों को समर्थन मिलने की संभावना । देश की मंडियों में सोयाबीन की 7 लाख बोरी आवक हुई। मध्यप्रदेश में ३.2५ लाख, महाराष्ट्र में २.3५ लाख, राजस्थान में 70 हजार व अन्य राज्यों में भी 70 हजार बोरी सोयाबीन आई।
लूज तेल (प्रति दस किलो) : इंदौर मंूगफली तेल 1550 से 1570, मुंबई मूंगफली तेल 1550, इंदौर सोयाबीन रिफाइंड 1300 से 1305, इंदौर सोयाबीन साल्वेंट 1270 से 1275, मुंबई सोया रिफाइंड 1325 से 1330, मुंबई पाम तेल 940, इंदौर पाम 1010, राजकोट तेलिया 2400 से 2420, गुजरात लूज 1525, कपास्या तेल इंदौर 1265 रुपए।
तिलहन : सरसों 6000 से 6100, रायड़ा 5800 से 5900, सोयाबीन 5200 से 5500 रुपए क्विंटल। सोयाबीन डीओसी स्पॉट 40500 से 42000 रुपए टन।
प्लांटों के सोयाबीन भाव : बैतूल 5800, लक्ष्मी 5550, कास्ता 5500, खंडवा 5700, रुचि 5525, धानुका 5650, एमएस नीमच 5650, पचोर 5475, प्रकाश 5550, अडानी 5550 व एवी 5500 रुपए।
कपास्या खली ( 60 किलो भरती) बिना टेक्स भाव - इंदौर 2150, देवास 2150, उज्जैन 2150, खंडवा 2125, बुरहानपुर 2125, अकोला 3025 रुपए।
----
मंडी में बैंक चुनाव का माहौल, कम हुए सौदे
इंदौर. छावनी अनाज मंडी में व्यापारिक औद्योगिक सहकारी बैंक लि. के चुनाव 20 नवंबर को होने है, जिसके कारण मंडी में व्यापारी सौदे कम चुनाव प्रचार अधिक कर रहे है। कम सौदे होने से दलहनों के भाव लगभग स्थिर रहे। दालों में भी स्थिरता दर्ज की गई। आयातित दलहनों की कीमतों में नरमी का रुख रहा। खासकर तुवर के दाम नीचे बताए गए।
मुंबई पोट पर आयातित चना तंजानिया 4475, काबुली सूडान 6200, मसूर ऑस्ट्रेलिया 6550, तुवर अफ्रीका 7450, तुवर मोजांबिक 5800 व उड़द एफएक्यू 6900 रुपए तेज रही।
दलहन- चना 4875, विशाल 4६00 से 4650, डंकी चना 4100 से 4300, मसूर ६400, तुवर महाराष्ट्र 7200 से 7500, कर्नाटक 7500 से 7800, निमाड़ी 6600 से 7000, मूंग बारिश का 6800 से 7500, मूंग पुराना 7000 से 7400, एवरेज 6000 से 6600, उड़द 7100 से 7300, मीडियम 5500 से 6500, हल्का उड़द 3000 से 4000 रुपए क्विंटल।
दालें- चना दाल 5800 से 6000, मीडियम 6100 से 6200, बोल्ड 6300 से 6400, मसूर दाल मीडियम 7700 से 7800, बोल्ड 7900 से 8000, तुवर दाल सवा नंबर 8600 से 8700, फूल 9400 से 9500, बेस्ट तुवर दाल 9900 से 11200, मूंग दाल मीडियम 9100 से 9200, बोल्ड 9300 से ९400, मूंग मोगर ९700 से ९800, बोल्ड 9900 से 10000, उड़द दाल मीडियम 8600 से 8700, बोल्ड 8800 से 8900, उड़द मोगर 9200 से 9300, बोल्ड 9400 से 9500 रुपए।
काबली चना कंटेनर भाव
काबली चना (40-42) 13200, (42-44) 13000, (44-46) 12800, (58-60) 12100 रुपए।
इंदौर चावल भाव
इंदौर. दयालदास अजीत कुमार छावनी के अनुसार बासमती (921) 10500 से 11500, तिबार 8500 से 9500 , दुबार 7500 से 8500, मिनी दुबार 6500 से 7500, बासमती सेला 7500 से 9500, मोगरा 4000 से 6000, दुबराज 3500 से 4500, कालीमूंछ डिनरकिंग 8000, राजभोग 7000, परमल 2550 से 2700, हंसा सेला 2500 से 2675, हंसा सफेद 2450 से 2500, पोहा 4200 से 4600 रुपए।
-----
अंजीर और खारक में तूफानी तेजी, बादाम के भाव गिरे
इंदौर. किराना बाजार में आवक कम होने के साथ माल की शार्टेज होने से अंजीर और खारक में तूफानी तेजी का वातावरण रहा। बादाम के भाव में नरमी आई। अफगानिस्तान से नए कमलगट्टा की आवक हुई। भाव 180 रुपए बोला गया। अफगानिस्तान से कलौंची भी आ रही है।
2022-23 सीजन, अब तक हुआ 35 लाख टन चीनी निर्यात अनुबंध
इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (आइएसएमए) के अनुसार, भारत ने चालू 2022-23 सीजन में अब तक लगभग 35 लाख टन चीनी के निर्यात का अनुबंध किया है, इसमें से लगभग 2 लाख टन चीनी का निर्यात अक्टूबर, 2022 में देश से बाहर गया है, जबकि पिछले वर्ष इसी महीने में लगभग 4 लाख टन चीनी का निर्यात किया गया था।। केंद्र सरकार द्वारा 5 नवंबर को घोषित 2022-23 की चीनी निर्यात नीति में 31 मई तक कोटा के आधार पर 60 लाख टन चीनी के निर्यात की अनुमति दी गई है। देश में अभी नया चीनी सीजन शुरू हुआ है, और सरकार घरेलू उत्पादन का आकलन करने के बाद निर्यात कोटा बढ़ाए जाने की संभावना है। देश में चीनी मिलों ने मौजूदा सीजन में 15 नवंबर तक 19.9 लाख टन चीनी का उत्पादन किया है, जो एक साल पहले की अवधि के 20.8 लाख टन से थोड़ा कम है। पश्चिम में कई चीनी मिलों ने इस सीजन में देर से परिचालन शुरू किया, जिसके कारण 15 नवंबर तक चीनी का उत्पादन थोड़ा कम रहा।
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.