17 घंटे चला रेस्क्यू, कार सहित दो शव बरामद

40 फिट नीचे पुल से गिरी कार

By: Mangal Singh Thakur

Published: 05 Apr 2021, 11:05 AM IST

मंडला. जिला मुख्यालय से 20 किलोमीटर दूर बबैहा नाले में एक कार शनिवार की रात को गिर गई। लगभग 17 घंटे रेस्क्यू के बाद कार वदो व्यक्तियों का शव बरामद कर लिया गया है। बताया गया कि 40 फिट गहरे नाले में लगभग 25-30 फिट पानी भरा हुआ है। यह क्षेत्र बरगी डेम के जल भराव क्षेत्र में आता है। गहराई अधिक होने के कारण टीम को काफी मशक्कत करनी पड़ी। जानकारी के अनुसार कोतवाली थाना के अंतर्गत फूलसागर के समीप बबैहा पुल में मरम्मत कार्य किया जा रहा है। जिसके चलते एक ओर सड़क बना दी गई है। वहीं दूसरी ओर से वाहनो की अवाजाही चालू है। पुल के पास मार्ग भी खराब है। शनिवार की रात जबलपुर से मंडला की ओर आ रहा वाहन क्रमांक एमपी 20 सीजे 4999 पुल से अनियंत्रित होकर नीचे खाई में गिर गया। जिसकी सूचना दुर्घटनाग्रस्त वाहन के पीछे से आ रहे राहगीरों ने डायल 100 को दी। एम्बूलेंस व डायल 100 की टीम मौके पर पहुंची और कार की काफी तलाश की। लेकिन सफलता नहीं मिली।


रात में ही शुरू किया बचाव कार्य
वरिष्ठ अधिकारियों के सूचना देने के बाद एसडीईआरएफ व पुलिस टीम ने रात में ही रेस्क्यू अभियान शुरू कर दिया। रविवार की सुबह 3 बजे तक तलाश की गई। लेकिन कुछ पता नहीं चला। इस दौरान आसपास गांव के लोग भी मौके पर पहुंच गए। पुल के पास लोंगो ंकी भीड़ लग गई। जिसके बाद कुछ समय के लिए अभियान रोक दिया गया। सुबह 6 बजे से रेस्क्यू टीम फिर से तालाश में जुट गई। दोपहर को 12 बजे के आसपास टीम को कुछ राहत मिली और नदी में कार होने की पुष्टि की गई। क्रेन की मदद से लगभग 1.30 की मशक्कत के बाद कार को बाहर निकाला गया। कार की पहचान होने के बाद कार मालिक विष्णु प्रधान निवासी नारायणगंज पदमी के परिजनो से संपर्क किया गया। जिनका एक घर जबलपुर में भी है। परिजनो ने बताया कि कार में विष्णु प्रधान के साथ एक अन्य आदर्श मांडवे सवार थे जो भोपाल के लिए निकले थे। रात से दोनो से संपर्क नहीं हो पाया है। परिजन भी नारायणगंज से फूलसागर आ गए थे। जिनका रो रोकर बुरा हाल था। कार को निकालने के बाद टीम कार सवारों की तालाश शुरू कर दी। जिसमें लगभग 2.30 बजे कार मालिक विष्णु प्रधान पिता अशाराम बरकड़े (27) का शव टीम को मिला। शव निकालने के बाद रेस्क्यू टीम ने फिर अभियान को आगे बढ़ाया। लगभग 3.15 में 24 वर्षीय आदर्श मांडवे का शव भी टीम ने बरामद कर लिया है। दोनो के शव पोस्टमार्टम के लिए नारायणगंज पहुंचाये गए। जहां पीएम के बाद शव परिजनो को सौंप दिया गया।


कार का खुला था दरवाजा
रेस्क्यू टीम को दोनो व्यक्तियों की तलाश में काफी मशक्कत करनी पड़ी। रात में अंधेरा होने से समस्या आ रही थी जिसके बाद ऊजाला के लिए आरडीआरएफ की टीम ने हैवी लाइट का उपयोग किया। जिससे कुछ राहत मिली रात में पांच घंटे कड़ी मशक्कत के बाद भी सफलता नहीं मिली तो कुछ समय के लिए अभियान रोककर मोटर वोट सहित अन्य उपकरण बुलाये गए वहीं जबलपुर की एसडीईआरएफ टीम की मदद भी ली गई। ताकि जल्द से जल्द तालाश की जा सके। जब कार को बाहर निकाला गया तो कार का एक दरवाजा खुला हुआ था। अनुमान लगाया जा रहा है कि कार डूबने के बाद कार सवार दरबाजा खोलकर बाहर निकल गए होंगे। लेकिन गहराई अधिक होने व रात के समय के कारण पानी से बाहर नहीं निकल सके। जिससे दोनो की डूबने से मौत हो गई। जबलपुर से पहुंची टीम के गोताखोरों ने ऑक्सीजन मास्क लगाकर दोनो शव की तालाश की।


इनका रहा सहयोग
घटना की सूचना मिलने के साथ ही पुलिस अधीक्षक यशपाल सिंह राजपूत, एएसपी गजेन्द्र सिंह कंवर, कोतवाली टीआई निलेश दोहरे, थाना निवास एसडीओपी सहित टिकरिया टी आई व पुलिस बल मौजूद रहा। मंडला जिला प्रशासन की और से मीना मसराम तहसीलदार मंडला देवी प्रसाद प्रजापति मौजूद रहे। जन प्रतिनिधियो में निवास विधायक अशोक मसकोले, जिला पंचायत उपाध्यक्ष शैलेश मिश्रा रात व सुबह से ही मौजूद रहकर ग्रामीणों के साथ मदद की। रेस्क्यू में डिस्ट्रिक्ट कमांडेंट ललित कुमार उदेद, एसडीईआरएफ प्रभारी मंडला प्लाटून कमांडर हेमराज परस्ते, हवलदार कोमल सिंह, सन्नी श्रीवास, आकाश ठाकुर, संदीप जंघेला, सदन भांडे, तीरथ देशराज, अजीत धुर्वे, पवन सोनवानी, सुकरत सिंह परते, एसडीईआरएफ प्रभारी जबलपुर कंपनी कमांडर संतोष कुमार एवं एसडीईआरएफ टीम जबलपुर का सहयोग रहा।

Mangal Singh Thakur
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned