script41 thousand farmers have registered, till now only 1613 have got their | 41 हजार किसानों ने कराया है पंजीयन, अब तक 1613 ने ही कराया स्लॉट बुक | Patrika News

41 हजार किसानों ने कराया है पंजीयन, अब तक 1613 ने ही कराया स्लॉट बुक

locationमंडलाPublished: Dec 01, 2023 12:19:57 pm

Submitted by:

Mangal Singh Thakur

आज से समर्थन मूल्य में धान खरीदी हो रही शुरू

41 हजार किसानों ने कराया है पंजीयन, अब तक 1613 ने ही कराया स्लॉट बुक
41 हजार किसानों ने कराया है पंजीयन, अब तक 1613 ने ही कराया स्लॉट बुक

मंडला. आज से समर्थन मूल्य में धान खरीदी शुरू हो रही है। जिसके लिए खरीदी केन्द्रों में सभी जरूरी व्यवस्थाएं जुटाने का काम पूरा किया जा रहा है। खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी कार्यालय से मिली जानकारी अनुसार इस बार जिले भर में 67 खरीदी केन्द्र बनाए गए हैं। हालांकि फिलहाल धान बेचने के लिए बहुत कम संख्या में ही किसानों ने स्लॉट बुक कराए हैं।

72 किसानों का पंजीयन निरस्त

समर्थन मूल्य में धान बेचने के लिए इस बार 41 हजार 826 किसानों ने अपने पंजीयन कराए हैं। जिसमें 41 हजार 754 किसानों की सत्यापन प्रक्रिया पूरी कर ली गई है। वहीं बाकी 72 किसानों के पंजीयन विभिन्न कारणों के चलते रद्द कर दिए गए हैं। किसान आसानी से खरीदी केन्द्रों में अपनी उपज बेच सकें। इसके लिए स्लॉट बुकिंग की सुविधा दी गई है अब तक पंजीयन कराने वाले 41 हजार 826 किसानों में से मात्र 1613 किसानों ने ही स्लॉट बुक कराया है।

व्यापारियों ने बढ़ाए धान के दाम

सरकार द्वारा इस बार धान का समर्थन मूल्य 21 सौ 83 रुपए निर्धारित किया गया है जो पिछली साल हुई खरीदी में निर्धारित समर्थन मूल्य से 143 रुपए ही अधिक है। जिसे किसान अपर्याप्त बता रहे हैं किसानों का कहना है कि पूर्व की अपेक्षा अब खेती करना महंगा पड़ता है। इस लिहाज से समर्थन मूल्य काफी कम है। वहीं दूसरी ओर सरकार द्वारा समर्थन मूल्य में धान खरीदी शुरू होते ही बाजार में व्यापारियों ने धान के रेट अचानक बढ़ा दिए हैं। जानकारी अनुसार कुछ दिनों पहले तक जो धान खुले बाजार में 1500 से 1600 रुपए प्रति क्विंटल खरीदी जा रही थी अब बढ़ाकर 1900 से 1950 रुपए प्रति क्विंटल तक कर दिए हैं। सूत्रों के अनुसार समर्थन मूल्य में खरीदी शुरू होते ही कुछ व्यापारी किसानों से उनकी उपज खरीद लेते हैं। ऐसे किसी किसान से सेटिंग कर जो अपनी खसरा बही में उपज नहीं बेचते उनकी बही लगाकर किसानों से खरीदी गई उपज को बेचकर बेजा लाभ लेते हैं।

खराब मौसम से किसान परेशान

इस बार समर्थन मूल्य में खरीदी एक दिसंबर से 19 जनवरी 2024 तक की जानी है। फिलहाल धान कटाई का सिलसिला जारी है। इसलिए आने वाले कुछ दिनों बाद ही खरीदी केन्द्रों में धान की आवक शुरू होगी। वहीं किसानों का कहना है कि अभी धान की कटाई पूरी नहीं हुई है। कुछ खेतों में धान की कटाई शुरू ही हुई थी कि कटकर रखी फसल पर बारिश का संकट बन गया है। जिसे तिरपाल, प्लास्टिक से ढांककर बचाने का प्रयास किया जा रहा है। न केवल कटी फसल बल्कि कटने को तैयार फसल पर बारिश की मार पड़ रही है। यदि जल्द मौसम साफ नहीं हुआ तो इससे फसल की गुणवत्ता प्रभावित होगी। इससे समर्थन मूल्य में धान बेचने में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

ट्रेंडिंग वीडियो