जिले में 554 सक्रिय टीबी के मरीज

2025 तक टीबी मुक्त होगा भारत

By: Mangal Singh Thakur

Published: 05 Mar 2021, 10:23 AM IST

मंडला. कोरोना के साथ टीबी की बीमारी भी लोगों को चपेट में ले रही है। इससे साल 2025 तक टीबी मुक्त भारत मुहिम को झटका लग रहा है। हलांकि जिले के चिकित्सक टीबी को जड़ से खत्म करने के लिए प्रयासरत हैं। वर्तमान में राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यकम अंतर्गत टीबी जन आंदोलन कार्यक्रम चल रहा है तो पूरे मार्च माह तक चलेगा। इस साल 11 माह में टीबी के करीब 1400 मरीज मिले हैं। जिसमें से 554 मरीजों का उपचार चल रहा है। टीबी मरीजों के लिए शासन की तरफ से सुविधाएं भी दी जा रही हैं। टीबी की जांच के बाद पुष्टी होते ही 700 रुपए आने जाने के लिए किराया भत्ता दिया जाता है। वहीं पोषण आहार के लिए प्रतिमाह 500 रुपए दिए जाते हैं।


जिला क्षय रोग अधिकारी जेपी चीचाम का कहना है कि ने बताया कि मरीजों की संख्या बढऩे का कारण अपर्याप्त और पौष्टिकता से कम भोजन, स्वच्छता का अभाव, कम जगह में बहुत से लोगों का रहना और टीबी के मरीज के संपर्क में रहना व उसकी चीजों को इस्तेमाल करना है। इसके अलावा टीबी के मरीजों के कहीं भी थूक देने से, रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने और बीच में ही दवाओं को छोड़ देना भी कारण है। समान्यता 6 माह के उपचार से टीबी को हराया जा सकता है। छह माह में टीबी खत्म नहीं होती तो फिर अलग से ट्रीटमेंट दिया जाता है। इस तरह एमडीआर के 6 केस हैं।
टीबी जन आंदोजन के तहत जिले एवं ब्लॉक में मीडिया उन्मुखीकरण कार्यशाला, फार्मासिस्ट उन्मुखीकरण कार्यशाला, निजी क्षेत्र के चिकित्सकों के लिए कार्यशाला, धार्मिक गुरूओं हेतु कार्यशाला कॉलेज एवं महाविद्यालयों में कार्यक्रम संबंधी कार्यशाला, महिला दिवस पर आशा, एएनएम एवं आगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के लिए कार्यशाला, कम्युनिटि मीटिंग, धार्मिक स्थलों पर माईकिंग एवं आईईसी, सीएचओ ऑरिएण्टेशन, बाल क्षय रोग खोज अभियान, रैली एवं नुक्कड़ नाटक आदि जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जाएंग।


टीबी यानी क्षय रोग
प्रतिरोधक क्षमता कमजोर पडऩे पर कोई व्यक्ति इसकी चपेट में आ सकता है।
बच्चों में टीबी की रोकथाम के लिए उनके पैदा होने के बाद अतिशीघ्र बीसीजी का टीका लगवाना आवश्यक है।
टीबी का एक मरीज 10-15 लोगों को इसका बैक्टेरिया बांट सकता है।
यह बीमारी टीबी मरीज के साथ बैठने से नहीं होती बल्कि उसके खांसी, छींक, खून व बलगम के संक्रमण से होती है।
मुंह पर रूमाल रख कर, बलगम को राख या मिट्टी से डिस्पोज करके व सही समय पर टीबी की जांच व इलाज से हम इसे मात दे सकते हैं।

जिले में टीबी काफी हद तक कंट्रोल में है। टीबी की मरीजों को उचित उपचार मिले इसके लिए निजी चिकित्सालयों में भी नजर रखी जा रही है। इसके लिए एनजीओ की भी मदद ली जा रही है। वर्तमान में 554 मरीज हैं जिनका उपचार चल रहा है।
डॉ जेपी चीचाम, जिला क्षय अधिकारी

Mangal Singh Thakur
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned