scriptAanchal center is turning into garbage | आंचल केन्द्र हो रहा कचरा में तब्दिल | Patrika News

आंचल केन्द्र हो रहा कचरा में तब्दिल

दिख रहा जागरूकता का अभाव

मंडला

Published: August 01, 2022 01:52:57 pm

मंडला. आज से विश्व स्तन पान सप्ताह शुरू हो रहा है। स्तन पान को बढ़ावा देने के लिए सार्वजनिक स्थानों, सरकारी, निजी कार्यालयों में अलग से आंचल केन्द्र खोलने की बातें खूब होती है लेकिन जिले में मात्र कुछ सरकारी कार्यालयों में ही आंचल केन्द्र स्थापित किए गए है और वे भी देखरेख के अभाव में कचरा घर में तब्दील कर दिए गए हैं। आमतौर पर जिन महिलाओं के दुधमुहे बच्चों होते हैं, उन्हें सार्वजनिक स्थानों में दुग्धपान कराने में संकोच होता है। इसके अलावा कामकाजी महिलाएं जो सरकारी या निजी कार्यालयों में काम करती हैं, उन्हें भी इसी तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसे देखते हुए शासन द्वारा प्रत्येक निजी और सरकारी कार्यालयों, सार्वजनिक स्थलों में आंचल केन्द्र बनाने के लिए निर्देशित किया गया लेकिन जवाबदारों ने अन्य सरकारी आदेशों-निर्देशों की तरह इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम में भी जमकर लापरवाही दिखाई है। जिसका सबसे बड़ा उदाहरण जिला पंचायत का आंचल केन्द्र है। सरकारी निर्देशों का पालन कागजों में दिखाने के लिए कार्यालय के एक हिस्से में आंचल केन्द्र बना तो लिया गया लेकिन वर्तमान में इस आंचल केन्द्र का उपयोग महिलाएं अपने दुधमुहे बच्चे को दूध पिलाने के लिए बल्कि इस कार्यालय का कबाड़ रखने के लिए किया जा रहा है।

आंचल केन्द्र हो रहा कचरा में तब्दिल
आंचल केन्द्र हो रहा कचरा में तब्दिल

जागरूकता अभियान चलाने की जरूरत

इस सप्ताह स्तनपान का महत्व बताने के लिए जगह-जगह जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा, लेकिन आज भी स्तन पान को लेकर भी कई तरह की भ्रांतियां समाज में फैली हुई है। जिन्हें इस तरह के आयोजनों से दूर करने का प्रयास किए जाने की जरूरत है। आज कई बच्चों में कमजोरी, सूखा रोग देखने को मिलता है जिसका एक बड़ा कारण मां का स्तनपान नहीं कराना भी है। कई माताएं कुछ दिनों बाद बच्चे को अपना दूध पिलाना बंद कर देती हैं। इसकी जगह बाजार में मिलने वाला ब्रांडेड कंपनियों का डिब्बा बंद दूध देना शुरू कर देती हैं या फिर गाय या भैंस के दूध से काम चलाती हैं। जबकि चिकित्सकों का कहना है कि बाजार में मिलने वाला कोई भी डिब्बा बंद दूध मां से मिलने वाले दूध की बराबरी नहीं कर सकता। आदिवासी बाहुल्य जिले में स्तनपान से जुड़ी कई तरह की भ्रांतियां भी है जिसमें कुछ का मानना होता है कि स्तनपान कराने से सिर के बाल झड़ते हैं, कुछ का मानना होता है कि स्तन पान कराने से असहनीय पीड़ा होती है। सबसे बड़ी बात यह भी है कि कुछ माताओं का यह भी मानना होता है तो कि बोतल से बच्चे को दूध पिलाने स्तन पान कराने से कहीं ज्यादा आसान है, लेकिन शिशु रोग विशेषज्ञों की मानें तो मां का दूध बच्चे के लिए अमृत से कम नहीं है।

अस्पताल में नर्स दूध पिलवाती हैं

जिला अस्पताल के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ विजय धुर्वे का कहना है कि माताओं की यही सोच उनके नवजात बच्चों के स्वास्थ्य पर विपरीत असर डालती है। अस्पतालों में चिकित्सक जन्म के बाद बच्चों को मां का दूध पिलवाते हैं। नर्स स्वयं यह काम करवाती है। कम से कम छह माह तक बच्चे को मां का दूध पिलाने की सलाह भी देते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

VP Jagdeep Dhankhar: 'किसान पुत्र' जगदीप धनखड़ ने ली उपराष्ट्रपति पद की शपथ, झुंंझुनू सहित पूरे राजस्थान में जश्न का माहौलMaharashtra: महाराष्ट्र में स्टील कारोबारी पर इनकम टैक्स का छापा, करोड़ों रुपये कैश सहित बेनामी संपत्ति जब्तJammu-Kashmir: उरी जैसे हमले की बड़ी साजिश हुई फेल, Pargal आर्मी कैंप में घुस रहे 3 आतंकी ढेरममता बनर्जी को एक और झटका, अब पशु तस्करी केस में TMC नेता अनुब्रत मंडल को CBI ने किया गिरफ्तारकाले कारनामों को छिपाने के लिए 'काला जादू' जैसे अंधविश्वासी शब्दों का इस्तेमाल करें बंद, राहुल गांधी ने PM मोदी पर साधा निशानाMaharashtra: महाराष्ट्र में मंत्रिमंडल विस्तार के बाद अब विभाग बंटवारे का इंतजार, गृह और वित्त मंत्रालय पर मंथन जारीमुख्यमंत्री अशोक गहलोत आज फिर दिल्ली पहुंचे ,उपराष्ट्रपति के शपथ ग्रहण समारोह में होंगे शामिलमुफ़्त की रेवड़ी पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- ये एक गंभीर मुद्दा, कमेटी बनाने के दिए निर्देश
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.