scriptAnimal husbandry is not showing interest in selling milk in Sanchi Mil | सांची दुग्ध शीत केन्द्र में दूध बेंचने में पशुपालकों की नही दिख रही रूची | Patrika News

सांची दुग्ध शीत केन्द्र में दूध बेंचने में पशुपालकों की नही दिख रही रूची

केन्द्र में महज 800 से 850 लीटर पहुंच रहा दूध

मंडला

Published: April 16, 2022 11:12:03 am

मंडला. सांची दुग्ध शीत केन्द्र में दूध बेंचने में पशुपालक रूची नहीं दिखा रहे हैं। 5 हजार क्षमता वाले केन्द्र में महज 800 से 850 लीटर दूध ही पहुंच रहा है। जबकि केन्द्र में दूध की गुणवत्ता के अनुसार 16 रुपए से 60 रुपए लीटर पशुपालकों से क्रय किया जाता है। वहीं पशुपालकों को पशुओं के लिए विशेष आहर सहित विभिन्न सुविधाएं सहकारी संघ द्वारा दी जाती है। जानकारी के अनुसार जिले में देवदरा रोड में संचालित सांची दुग्ध शीत केन्द्र में समितियों द्वारा दूध एकत्रित कर पहुंचाया जाता है। समितियां आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों से दूध एकत्रित करके दुग्ध शीत केन्द्र में पहुंचाती हैं। जहां इसे एक बड़े फ्रीजर में कुछ समय तक के लिए रखा जाता है इसके बाद इसे एक विशेष वाहन से जबलपुर सांची केन्द्र को रवाना कर दिया जाता है। जानकारी के अनुसार सांची दुग्ध केन्द्र द्वारा दूध संग्रहण कर दूध इस केन्द्र तक पहुंचाने के लिए दूध उत्पादकों की समिति बनाई जाती है लेकिन जिला मुख्यालय में बैठे अधिकारी-कर्मचारियों द्वारा समितियों की संख्या बढ़ाने की दिशा में कोई प्रयास नहीं किए जा रहे हैं जिसके चलते समय के साथ-साथ इन समितियों की संख्या कम होती जा रही है। वर्तमान में सिर्फ 20 समितियों द्वारा ही दूध संग्रहण का कार्य किया जा रहा है। इन समितियों से वर्तमान में महज 800 से 850 लीटर प्रतिदिन दूध संग्रहण हो पा रहा है।
भुगतान की प्रक्रिया कठिन
इस केन्द्र की शुरूआत गौ पालन को बढ़ावा देने, दूध उत्पादन को बढ़ाने के लिए किया गया था ताकि लोग शुद्ध दूध लेकर इस केन्द्र में आएं और दूध के बदले वाजिब दाम पाएं। वहीं दूसरी ओर कई दूध उत्पादकों का कहना है कि बाजार में दूध बेचने पर तत्काल भुगतान हो जाता है, लेकिन सांची दुग्ध केन्द्र में भुगतान की प्रक्रिया में करीब एक पखवाड़ा तक का समय लग जाता है, जबकि पशुओं के आहार सहित अन्य घरेलू खर्चों के लिए तत्काल रुपयों की जरूरत होती है।
फ्रीजर में है 5000 लीटर दूध रखने की क्षमता
सांची सहकारी दुग्ध संघ जबलपुर द्वारा संचालित किया जा रहे दुग्ध केन्द्र में अपेक्षाकृत कितना कम दूध का संग्रहण हो रहा है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इस केन्द्र में जो फ्रीजर लगाया गया है उसमें 5000 लीटर तक दूध संग्रहित करके रखा जा सकता है जबकि वर्तमान में जो दूध का संग्रहण हो रहा है वह मात्र 800 से 850 लीटर पर सिमट कर रह जा रहा है। इतना ही नहीं दूध रखने वाले फ्रीजर के आसपास भारी गंदगी देखी जा रही है। समितियों का कहना है कि जिला मुख्यालय तक दूध पहुंचाने से अच्छा है कि समितियों के पास ही बल्क मिल्क कूलर लगा दिए जाएं। इन्हीं कूलरों में दूध एकत्रित किया जा सकता है और काफी समय तक सुरक्षित रखा जा सकता है। वहीं से सीधे टैंकरों के माध्यम से संघ में पहुंचा सकते हैं। इस तरह समिति से शीत केंद्र और फिर शीत केंद्र से दुग्ध संघ के बीच परिवहन और अलग-अलग स्टोरेज करने की दिक्कत से बच सकते हैं। पशुपालकों का कहना है कि सांची ब्रांड के दूध और उसके उत्पादों के रहते हुए दूसरे ब्रांड जगह बना रहे, उससे निपटने के लिए संघ के पास कोई योजना नहीं है जबकि सांची दूध मध्य प्रदेश का 35 से 40 साल पुराना सहकारी ब्रांड है। दुग्ध संघ को अपने अधीन जिलों में ज्यादा से ज्यादा दूध खरीद कर मध्य प्रदेश समेत बाहरी राज्यों में सप्लाई करना चाहिए।

सांची दुग्ध शीत केन्द्र में दूध बेंचने में पशुपालकों की नही दिख रही रूची
सांची दुग्ध शीत केन्द्र में दूध बेंचने में पशुपालकों की नही दिख रही रूची

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

पेट्रोल-डीज़ल होगा सस्ता, गैस सिलेंडर पर भी मिलेगी सब्सिडी, केंद्र सरकार ने किया बड़ा ऐलानArchery World Cup: भारतीय कंपाउंड टीम ने जीता गोल्ड मेडल, फ्रांस को हरा लगातार दूसरी बार बने चैम्पियनआय से अधिक संपत्ति मामले में ओम प्रकाश चौटाला दोषी करार, 26 मई को सजा पर होगी बहसगुजरात में BJP को बड़ा झटका, कांग्रेस व आदिवासियों के लगातार विरोध के बाद पार-तापी नर्मदा रिवर लिंक प्रोजेक्ट रद्दलंदन में राहुल गांधी के दिए बयान पर BJP हमलावर, बोली- 1984 से केरोसिन लेकर घूम रही कांग्रेसThailand Open 2022: सेमीफाइनल मुक़ाबले में ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट से हारीं सिंधु, टूर्नामेंट से हुई बाहरपैंगोंग झील पर जारी गतिरोध के बीच रेलवे ने सुपरफास्ट ट्रेनों के लिए चीनी कंपनी को कॉन्ट्रैक्ट क्यों दिया?Rajiv Gandhi 31st Death Anniversary: अधीर रंजन ने ये क्या कह दिया, Tweet डिलीट कर देनी पड़ रही सफाई, FIR तक पहुंची बात
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.