ऑटोमेटिक होगी रीडिंग,रूकेगी बिजली चोरी

ऑटोमेटिक होगी रीडिंग,रूकेगी बिजली चोरी

Amaresh Singh | Publish: Apr, 17 2019 11:28:27 AM (IST) Mandla, Mandla, Madhya Pradesh, India

बिजली कंपनी चिप वाले एएमआर मीटर लगा रही है

मंडला। विद्युत मीटरों में आए दिन गलत रीडिंग और मीटर में छेड़छाड़ की शिकायतों पर पार पाने अब बिजली कंपनी विशेष चिप वाले एएमआर विद्युत मीटर लगा रही है। शहर में भी ऐसेे मीटर लगाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है, जिसके तहत पहले चरण में ये विशेष विद्युत मीटर केवल पॉवर विद्युत कनेक्शनों पर ही लगेंगे, जिसके लिए स्थानीय अफसरों ने पॉवर कनेक्शनों को सूचीबद्ध करना शुरू कर दिया है। बताया गया है कि 10 किलोवाट से अधिक पॉवर के विद्युत कनेक्शनों पर ये एएमआर विद्युत मीटर लगाए जाएंगे। इससे गलत रीडिंग से मुक्ति मिलेगी, साथ ही समय व मैन पॉवर भी कम लगेगा। हालांकि बड़े शहरों में ये प्रक्रिया बीते दो वर्षों से चल रही है, लेकिन शहर में ये पहली बार होगा जब एएमएआर मीटर लगेंगे। बताया गया है कि शहर में लगभग डेढ़ सैकड़ा के आसपास 10 किलोवाट से अधिक पॉवर के विद्युत कनेक्शन हैं, जिन पर विद्युत कंपनी के मैदानी अमले ने सर्वे शुरू कर दिया है। ऑटोमेटिक मीटर रीडिंग (एएमआर) की मुख्य रूप से उपयोगिता बिजली उपभोग की निगरानी के द्वारा बड़े व्यय को कम करने की है।
बताया गया है कि इस मीटर में मोडम सिस्टम लगेगा, साथ ही एक चिप लगेगी, जिसकी निगरानी न केवल कार्यालय में बैठे अधिकारी कर सकेंगे। बल्कि भोपाल, जबलपुर के अफसर भी कंप्यूटर पर ही संबंधित मीटर की रीडिंग देख सकेंगे। इससे वर्तमान उपभोग, कुल उपभोग के अलावा मीटर की स्थिति का भी पता लग जाएगा। बिजली चोरी रोकने की दिशा में भी यह सिस्टम काम करेगा। साथ ही मीटर में छेड़छाड़ भी रुकेगी।


नए मीटरों से ये होगा लाभ
रीयल टाइम बिलिंग जानकारी मिलेगी।
बिलिंग त्रुटियों और विवाद कम होंगे।
बिलिंग रिकवरी भी तेज होगी।
मीटर छेड़छाड़ और चोरी पर अंकुश।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned