scriptBest before is not seen in sweets | मिठाइयों में नजर नहीं आ रहा बेस्ट बिफोर | Patrika News

मिठाइयों में नजर नहीं आ रहा बेस्ट बिफोर

विभाग सिर्फ सेंपल लेने में व्यस्त, पिछले साल जारी हुए थे आदेश

मंडला

Published: October 29, 2021 10:12:22 am

मंडला. पर्व के दौरान मिठाई का सेवन सेहत बिगाड़ सकता है। जिसका कारण जिम्मेदारो का मिठाई की गुणवत्ता पर ध्यान ना देना है। दीवाली मिठा का पर्व है। मिठाईयों की मांग अधिक होने के कारण दुकानदार काफी पहले से मिठाई का निर्माण करने लगते हैं। समय पर ना बिकने के बाद भी कई दुकानदार बची खुची मिठाईयां भी शोकेस में सजाकर रखते हैं और ग्राहकों को बेच देते हैं। एक तरह से यह खाद्य सुरक्षा अधिनियम का उल्लघंन है, जबकि इन मिठाईयों पर निर्माण और एक्सपायरी की डेट लिखी होनी चाहिए। शहर के होटलों में अभी भी बिना डेट की मिठाईयां बेची जा रही है। इससे लोगों की सेहत पर बुरा प्रभाव भी पड़ रहा है।
गौरतलब है कि पिछले साल केंद्र सरकार ने अक्टूबर 2020 में कोरोना गाइडलाइंस के तहत मिठाई दुकानों पर फूड सेफ्टी स्टैंडर्ड अथॉरिटी आफ इंडिया एफएसएसआइ का पालन अनिवार्य कर दिया था, लेकिन शहर के कई मिठाई दुकानदार भी इस एक्ट का पालन नहीं कर रहे हैं। शहर में लगभग छोटे बड़े मिलाकर 80 होटलें हैं जहां, मिठाईयां बनती है।
नवरात्र के समय से ही ये लोग मिठाईयां बनाना शुरू करते हैं। आम तौर पर ग्राहक धनतेरस से दीवाली के दिन तक मिठाईयां खरीदता है। होटल विक्रेताओं की सोच है कि अगर मिठाई पर निर्माण और एक्सपायरी तिथि अंकित कर दें, तो उनकी मिठाई की बिक्री प्रभावित हो जाएगी। इसकी वजह से कई मिठाइयां निश्चित अवधि बीतने के बाद भी बेच दी जाती है। ग्राहकों को नहीं पता होता है कि कौन सी मिठाई कब बनी है और कब तक चलेगी? जिसका फायदा दुकान दार उठा रहे हैं। पर्व के 20 दिन पूर्व से ही खाद्य एवं औषधि विभाग के अधिकारियों मिलावट के खिलाफ अभियान शुरू कर दिया है। होटलों ढाबों में जाकर सैंपल एकत्रित किए जा रहे हैं। लेकिन खाद्य सुरक्षा अधिनियम का पालन कराने में असमर्थन नजर आ रहे हैं ना ही कोई कार्रवाई की जा रही है।
ये है खाद्य सुरक्षा अधिनियम
खाद्य सुरक्षा अधिनियम का पालन खाद्य अधिकारी करवाते हैं। नियम के अनुसार मिष्ठान भंडार पर हरेक मिठाई पर लिखा होना चाहिए कि कौन सी कब बनी और कितने दिनों तक चलेगी। लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ ना हो, इसके लिए इस नियम का पालन होना अनिवार्य है। खाद्य वस्तुओं की गुणवत्ता में सुधार लाने परातों और डिब्बों में बिक्री के लिए रखी मिठाईयों के निर्माण की तारीख तथा उपयोग की उपयुक्त अवधि भी लिखना होगा। इन विवरणों का उल्लेख मिठाई के डिब्बों पर भी करना अनिवार्य है, लेकिन इसका पालन नहीं हो पा रहा है।

mithai_6475533_835x547-m.jpg

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

भाजपा की दर्जनभर सीटें पुत्र मोह-पत्नी मोह में फंसीं, पार्टी के बड़े नेताओं को सूझ नहीं रह कोई रास्ताविराट कोहली ने छोड़ी टेस्ट टीम की कप्तानी, भावुक मन से बोली ये बातAssembly Election 2022: चुनाव आयोग ने रैली और रोड शो पर लगी रोक आगे बढ़ाई,अब 22 जनवरी तक करना होगा डिजिटल प्रचारभारतीय कार बाजार में इन फीचर के बिना नहीं बिकेगी कोई भी नई गाड़ी, सरकार ने लागू किए नए नियमUP Election 2022 : भाजपा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी, गोरखपुर से योगी व सिराथू से मौर्या लड़ेंगे चुनावमौसम विभाग का इन 16 जिलों में घने कोहरे और 23 जिलों में शीतलहर का अलर्ट, जबरदस्त गलन से ठिठुरा यूपीBank Holidays in January: जनवरी में आने वाले 15 दिनों में 7 दिन बंद रहेंगे बैंक, देखिए पूरी लिस्टUP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्य
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.