कान्हा भ्रमण में पहुंची छत्तीसगढ़ राज्यपाल, कलाकारों का बढ़ाया उत्साह

शाम की सफारी में बाघिन के साथ देखे तीन शावक

By: Mangal Singh Thakur

Published: 29 Dec 2020, 09:40 AM IST

मंडला. छत्तीसगढ़ राज्य की राज्यपाल अनुसुईया उइके तीन दिवसीय कान्हा नेशनल पार्क के भ्रमण में पहुंची हैं। 29 दिसंबर को कान्हा से वापसी करेंगी। कान्हा के खटिया गेट से सफारी के लिए पहुंची जहां बाघ सहित अन्य वन्य प्राणियों को देखा। सुबह की सफारी के बाद शाम को भी उन्होंने सफारी की। जहां कान्हा के सात नंबर रोड में एक बाघिन के साथ तीन शावकों को एक साथ देखा। राज्य पाल की सुरक्षा के लिए जिला स्तर पर भी पुलिस बल खटिया गेट पहुंचाया गया है। भ्रमण के दौरान 28 दिसंबर की दोपहर आर्ट गैलरी व आरण्यक एंपोरियम (कला दीर्घा) खटिया में पहुंची।

उनके साथ राज्य सभा सासंद सम्पतिया उइके भी थी। कला दीर्घा के प्रबंधक सुधीर कांसकार ने कलाकारों की कलाकृतियां और उनके द्वारा निर्मित स्थानीय उत्पादों को बड़े सूक्ष्मता से अवलोकन कराया। हर एक कला के बारे में अलग-अलग से उनके उपयोग को भी बताया। कला के क्षेत्र में जिला पंचायत के द्वारा कला को प्रोत्साहित और उनके मार्केटिंग के लिए जो प्रयास किया जा रहा है उनकी राज्यपाल ने सराहना की। साथ ही स्थानीय उत्पाद जैसे कांताबाई के द्वारा निर्मित छिंद की झाड़, कृषि वनोपज संघ के द्वारा तैयार कोदो कुटकी की बिस्कुट, नमकीन, मीठा एवं स्थानीय गुड़ को भी उन्होंने क्रय किया। तुरही, ध्यान कटोरा, कछुआ लोटस के बारे में प्रबंधक के द्वारा अवगत कराया गया कि यह हमारे दैनिक जीवन में उनका स्वास्थ्य और दिमागी शांति के लिए कैसा उपयोग किया जाता है। इससे प्रभावित होते हुए उन्होंने उक्त तीनों चीजों को भी अपने जीवन में उपयोग करने के लिए क्रय किया। साथ ही आदिवासी भाइयों के द्वारा तैयार की गई गौड़ी आर्ट को भी बड़े सूक्ष्मता से देखते हुए कलाकृतियों के विक्रय के लिए जिला पंचायत द्वारा किए जा रहे कार्य की सराहना की। उन्होंने बताया की हस्त निर्मित कलाकृतियों से उन्हें आत्मीय लगाव है और इन कलाकारों के लिए जो भी सहयोग बन पड़ेगा करूंगी।

Mangal Singh Thakur
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned