बोर्ड परीक्षा से पहले पूरा करें पाठ्यक्रम

विद्यार्थियों की समस्या का समाधान शिक्षकों की प्राथमिकता

By: Mangal Singh Thakur

Published: 30 Dec 2020, 10:22 PM IST

मंडला. स्कूल शिक्षा विभाग की समीक्षा के दौरान जिले में वर्तमान में संचालित हो रहे स्कूल एवं उपस्थित होने वाले विद्यार्थियों के बारे में विस्तृत जानकारी ली गई और सभी संकुल प्राचार्य बोर्ड परीक्षाओं का परिणाम बेहतर करने गंभीरता से कार्य करने को कहा गया। दरअसल आगामी दिनों में बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन किया जाना है। ऐसे में बच्चों के पाठ्यक्रम को पूरा करते हुए उनकी समस्याओं का समाधान करना शिक्षकों की पहली प्राथमिकता होना चाहिए। स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा विभिन्न विषयों के तैयार किए गए नोट्स को डाऊनलोड कर जरूरतमंद प्रत्येक बच्चे तक पहुंचाने की जिम्मेदारी होना चाहिए। यही कारण है कि कलेक्टर हर्षिका ङ्क्षसह ने शिक्षकों की व्यवस्था को करते हुए तय समय के अनुपात में पाठ्यक्रम को पूरा करने के निर्देश दिए।
कलेक्टर ने कहा कि शिक्षक बच्चों एवं पालकों से बात करें एवं उन्हें पढ़ाई के लिए मॉटिवेट करें। स्कूल परिसर में साफ-सफाई, पीने के पानी, बिजली एवं बैठक की व्यवस्था चाक-चौबंद्ध रखें। विगत् वर्ष की तुलना में इस वर्ष बोर्ड परीक्षाओं का परिणाम अनिवार्य रूप से बेहतर होना चाहिए। उन्होंने पढ़ाई में कमजोर बच्चों को चिन्हित कर अवकाश के दिनों में ऐसे बच्चों की समस्याओं का समाधान करने विशेष प्रयास के निर्देश दिए।
रिवीजन टेस्ट जरूरी
प्रति सप्ताह कम से कम दो रिविजन टेस्ट अनिवार्य कर दिया गया है। ऐसे बच्चे जो रिविजन टेस्ट में भाग नहीं ले रहे हैं उनसे शिक्षक संपर्क करेंगें एवं डोर-टू-डोर जाकर मॉटीवेट करेंगे। रिविजन टेस्ट के परिणाम को विमर्श पोर्टल पर अपलोड करेंगे। कहा गया कि वे अधिक से अधिक बच्चों को व्हाट्सऐप्प एवं अन्य माध्यमों से जोड़कर उनकी समस्याओं के समाधान का प्रयास करें। आगामी दिनों में स्कूलों के जिला अधिकारियों द्वारा निरीक्षण किए जाएंगे। प्राचार्य या शिक्षकों की अनुपस्थिति पर कार्यवाही की जाएगी। प्रोजेक्ट उड़ान की समीक्षा करते हुए आवश्यक निर्देश दिए गए।

Mangal Singh Thakur
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned