कोरोना कर्फ्यू चयनित शिक्षकों के अरमानों में फेरा पानी

फिर अटका दस्तावेजों का सत्यापन

By: Mangal Singh Thakur

Published: 16 Apr 2021, 04:27 PM IST

मंडला. ढाई साल से नियुक्ति को इंतजार कर रहे शिक्षकों को इस बार कोरोना कर्फ्यू ने फिर निराश कर दिया। मप्र शासन के निर्देश के अनुसार 15 अप्रैल से 22 अप्रैल तक डाक्यूमेंट वेरिफिकेशन किया जाना था। प्रतिदिन तीन शिफ्ट में 15-15 लोगों का वेरिफिकेशन होना था। गुरुवार को सुबह 10 बजे से 12 बजे तक पहली पाली के चयनित शिक्षक जिला कार्यालय पहुंचे तो उन्हें वहां से आधी अधूरी जानकारी देकर लौटा दिया गया। उन्हें किसी प्रकार के स्थागित होने की सूचना दी गई ना ही आगामी तारीख बताई गई। अचानक बिना कारण बताए लौटाने से आक्रोशित चयनित शिक्षक तत्काल कलेक्टर के पास पहुंचे और आवेदन दिया। लेकिन वहां से भी आश्वासन देकर लौटा दिया। चयनित शिक्षक मयंक पटेल, चन्द्रकांत तेकाम, अजय परस्ते, नीरज कुमार, पर्वत परस्ते, जयशंकर प्रसाद, सुरेन्द्र कुमार कुर्वेती, राजेन्द्र प्रसाद, पिंकी यादव, मुकेश वरकड़े, भावना उलारी, अजय परस्ते, ब्रजेश कुमार, कृष्ण कुमार, मंजुलता तेकाम, श्रुती यादव, हेमरात यादव, धनराज झारिया का कहना था कि कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखकर ही तीन शिफ्ट में 15-15 शिक्षकों का वेरिफिकेशन करने का निर्देश जारी किया था। जिला मुख्यालय में कोरोना कर्फ्यू में कार्यालय भी खुले हैं इसके बाद भी वेरिफिकेशन नहीं किया गया। अगर वेरिफिकेशन स्थागित किया जाना था इसकी सूचना पहले दी जानी चाहिए।
गौरतलब है कि प्रदेश में शिक्षक पात्रता परीक्षा वर्ग एक के लिए 12 हजार शिक्षकों का और शिक्षक पात्रता परीक्षा वर्ग 2 में 5 से 7 हजार शिक्षकों की भर्ती होनी है। साल 2011 के बाद 2018 में शिक्षकों की भर्ती निकली थी। 7 साल के लंबे इंतजार के बाद 2018 में भर्ती का विज्ञापन निकला था, शिक्षक पात्रता परीक्षा वर्ग 1 और वर्ग 2 की परीक्षा ली गई थी जिसमें प्रदेश के 33 हजार शिक्षक चयनित हुए हैं, ढाई साल के बाद भी अब तक चयनित शिक्षक अपनी नियुक्ति की राह देख रहे हैं।

इनका कहना
निजी वाहन करके ग्वालियर से वेरिफिकेशन के लिए मंडला पहुंचे है। तीन दिन आने में लगा। कार्यालय पहुंचे तो वहां बिना लिखित सूचना के वेरिफिकेशन नहीं किया गया। संक्रमण के इस समय में दोबारा आना और महंगा पड़ सकता है।
वंदना शिववंशी, चयनित शिक्षक

कार्यालय पहुंचे तो वहां कोई निश्चित जानकारी देने को तैयार नहीं है। कहा गया कि अपना नंबर दे दो जो भी सूचना मिलेगी भेज देंगे। लंबे समय बाद उम्मीद जागी थी। ढाई साल से चयनित शिक्षकों को प्रताडि़त होना पड़ रहा है।
पिंकी यादव, चयनित शिक्षक

शिक्षा विभाग में लगातार कर्मचारी, अधिकारियों के संक्रमित होने के बाद शिक्षक भर्ती दस्तावेज सत्यापन कार्य 5 मई 2021 तक स्थगित किया गया है। जिसकी सूचना प्रदेश के सभी जिले में पहुंचा दी गई है। आगामी आदेश मिलने के बाद सत्यापन कार्य किया जाएगा।
निर्मला पटले, जिला शिक्षा अधिकारी, मंडला

Mangal Singh Thakur
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned