बिना विशेषज्ञों के चल रहा जिला अस्पताल, मरीजों को नहीं मिल रहा उचित इलाज

बिना विशेषज्ञों के चल रहा जिला अस्पताल, मरीजों को नहीं मिल रहा उचित इलाज

Amaresh Singh | Updated: 30 May 2019, 12:12:19 PM (IST) Mandla, Mandla, Madhya Pradesh, India

जबलपुर किया जा रहा रेफर

मंडला। सर्दी-खांसी-बुखार, बस इतनी बीमारियों का ही इलाज...। यदि इससे अधिक कुछ है तो या मरीज निजी अस्पतालों या डिस्पेंसरियों में जाए या सीधे जबलपुर की ओर भागे। जी हां, यह वास्तविकता है आईएसओ प्रमाणित जिला अस्पताल की, जबकि आसमान से बरसती आग और तवे की तरह तपती जमीन के साथ आग की लपटों की तरह चल रही लू की चपेट में आकर सैकड़ों लोग प्रतिदिन जिला अस्पताल उपचार के लिए पहुंच रहे हैं लेकिन ज्यादातर को आराम नहीं मिल पा रहा है। मिले भी कैसे, उनका उपचार करने वाले
सामान्य डिग्रीधारी चिकित्सक हैं जो पनी योग्यता के अनुसार, साधारण और सामान्य संक्रामक बीमारियों का ही इलाज कर सकते हैं। यदि मरीज को थोड़ी भी जटिल समस्या हो तो उसके लिए मेडिसिन विशेषज्ञ चिकित्सक की उपस्थिति अनिवार्य है और वह चिकित्सक जिला अस्पताल में उपलब्ध ही नहीं। लगभग डेढ़ महीने पहले तक जिला
अस्पताल में एक मेडिसिन विशेषज्ञ उपलब्ध था लेकिन रिश्वतखोरी और मनमानी की लगातार मिल रही शिकायतों के कारण लोकायुक्त ने उसे रंगे हाथों धर दबोचा। अब जिला अस्पताल में कोई मेडिसिन विशेषज्ञ नहीं, लगभग दो वर्ष पहले मेडिसिन विशेषज्ञ के पद पर कार्यरत डॉ विजय मिश्रा की सेवानिवृड्डिा के बावजूद अस्पताल प्रबंधन इस पद को भरने में असफल रहा और अब जिला अस्पताल बिना विशेषज्ञ के ही संचालित किया जा रहा है।

क्षमता से अधिक मरीज

जिला अस्पताल में औसतन हर दिन 500 से अधिक मरीज पहुंच रहे हैं। नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर उपल.ध चिकित्सकों ने बताया कि
सीमित समय में इतनी अधिक संख्या में मरीजों का सही तरीके से पूर्ण जांच किया जाना असंभव है। जांच पूरी होगी तभी तो सही तरह से इलाज हो पाएगा। इसके लिए और
अधिक चिकित्सकों की आवश्यकता है। जानकारी के अनुसार, पिछले एक सप्ताह में अस्पताल में तीन हजार से अधिक मरीज इलाज के लिए पहुंचे। इनमें से लगभ 850 मरीजों को अस्पताल में भर्ती करना पड़ा और शेष 2200 मरीजों को ओपीडी में उपचार देकर रवाना किया गया। जिला अस्पताल के वार्ड में मरीजों की भरमार


अस्पताल में मरीजों
की संख्या
तिथि - आईपीडी - ओपीडी
23 - 125 - 475
24- 130- 450
25- 100 - 460
26- 110- 150
27- 150- 650
28- 145- 560
(उक्त संख्या अनुमानित है)
मेडिसिन विशेषज्ञ की भर्ती के लिए उच्च अधिकारियों से पत्र व्यवहार किया जा रहा है। साथ ही उपलब्ध चिकित्सकों की मदद से मरीजों को अच्छे से अच्छा उपचार देने का प्रयास भी जारी है।
डॉ विजय धुर्वे सिविल सर्जन, जिला

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned