scriptFear of accident due to pylon, negligence seen at intersections | तोरण से हादसे का डर, चौराहों पर दिख रही लापरवाही · | Patrika News

तोरण से हादसे का डर, चौराहों पर दिख रही लापरवाही ·

सड़क पर झूलती रस्सियों से भी जोखिम

मंडला

Published: April 23, 2022 01:56:21 pm

मंडला. जान के लिए सिर्फ चाइनीज मांजा ही खतरनाक नहीं है, विभिन्न जश्न और आयोजनों के दौरान तोरण के लिए इस्तेमाल होने वाली प्लास्टिक की रस्सियां भी जान जोखिम में डाल सकती हैं। इन रस्सियों के सहारे पताका और अन्य प्रतीक चिह्न बांधे जाते हैं, लेकिन आयोजन के बाद इसे हटाया नहीं जाता जो बाद में सड़क के बीच झूलते रहते हैं। चौक-चौराहों पर ये रस्सियां भारी वाहनों में फंसकर झूलती जाती हैं। ये झूलती रस्सियां चायनीज मांजे से कम खतरनाक नहीं होती। दोपहिया वाहन चालक इसमें भी फंसकर चोटिल हो सकते हैं। वहीं बिजली के तारों में फंसकर किसी घटना के कारण बन सकते हैं। शहर के ईएलसी चौक, फव्वारा चौक से लेकर इंदिरा तिराहा और सत्कार तिराहा के साथ ही गोलगंज पहुंच मार्गों पर विशेष आयोजनों के बाद ऐसे हालात आसानी से देखने को मिलते हैं। आयोजन के बाद इन्हें सुरक्षित तरीके से निकालकर आमजन व पक्षियों की जान को सुरक्षित किया जा सके। प्लास्टिक की रस्सियां भी चायनीज मांजे की तरह ही खतरनाक हैं। नगर निगम को चाहिए कि किसी भी तरह के आयोजन के बाद मुख्य चौक और चौराहों पर साफ-सफाई के साथ प्लॉस्टिक की इन रस्सियों को भी हटाया जाए। शहर के भीतर कई स्थानों पर इस तरह की रस्सियां लटकती हुई देखी जा सकती हैं।

तोरण से हादसे का डर, चौराहों पर दिख रही लापरवाही ·
तोरण से हादसे का डर, चौराहों पर दिख रही लापरवाही ·

जान के लिए सिर्फ चाइनीज मांजा ही खतरनाक नहीं है, विभिन्न जश्न और आयोजनों के दौरान तोरण के लिए इस्तेमाल होने वाली प्लास्टिक की रस्सियां भी जान जोखिम में डाल सकती हैं। इन रस्सियों के सहारे पताका और अन्य प्रतीक चिह्न बांधे जाते हैं, लेकिन आयोजन के बाद इसे हटाया नहीं जाता जो बाद में सड़क के बीच झूलते रहते हैं। चौक-चौराहों पर ये रस्सियां भारी वाहनों में फंसकर झूलती जाती हैं। ये झूलती रस्सियां चायनीज मांजे से कम खतरनाक नहीं होती। दोपहिया वाहन चालक इसमें भी फंसकर चोटिल हो सकते हैं। वहीं बिजली के तारों में फंसकर किसी घटना के कारण बन सकते हैं। शहर के ईएलसी चौक, फव्वारा चौक से लेकर इंदिरा तिराहा और सत्कार तिराहा के साथ ही गोलगंज पहुंच मार्गों पर विशेष आयोजनों के बाद ऐसे हालात आसानी से देखने को मिलते हैं। आयोजन के बाद इन्हें सुरक्षित तरीके से निकालकर आमजन व पक्षियों की जान को सुरक्षित किया जा सके। प्लास्टिक की रस्सियां भी चायनीज मांजे की तरह ही खतरनाक हैं। नगर निगम को चाहिए कि किसी भी तरह के आयोजन के बाद मुख्य चौक और चौराहों पर साफ-सफाई के साथ प्लॉस्टिक की इन रस्सियों को भी हटाया जाए। शहर के भीतर कई स्थानों पर इस तरह की रस्सियां लटकती हुई देखी जा सकती हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: अपनी पत्नी पर खूब प्रेम लुटाते हैं इस नाम के लड़केबगैर रिजर्वेशन कर सकेंगे ट्रेन में यात्रा, भारतीय रेलवे ने जारी की सूचीनाम ज्योतिष: इन 3 नाम की लड़कियां जहां जाती हैं वहां खुशियों और धन-धान्य के लगा देती हैं ढेरजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंधन के देवता कुबेर की इन 4 राशियों पर हमेशा रहती है कृपा, अच्छा बैंक बैलेंस बनाने में रहते है कामयाबआपके यहां रहता है किराएदार तो हो जाएं सावधान, दर्ज हो सकती है एफआईआर24 हजार साल ठंडी कब्र में दफन रहा फिर भी निकला जिंदा, बाहर आते ही बना दिए अपने क्लोनअंक ज्योतिष अनुसार इन 3 तारीख में जन्मे लोगों के पास खूब होती है जमीन-जायदाद

बड़ी खबरें

महंगाई की मार! सरकार के इस फैसले से लगेगा तगड़ा झटका, 1 जून से महंगी हो जाएगी कार-बाइक की खरीदारीबंगाल के राज्यपाल के निशाने पर ममता बनर्जी के भतीजे, कहा - 'अभिषेक बनर्जी ने पार की लक्ष्मण रेखा'Haryana Congress Rally: पूर्व CM भूपेंद्र सिंह हुड्डा का बड़ा ऐलान- हमारी सरकार बनी तो 6 हजार रुपए देंगे वृद्धा पेंशनमानापाथी हिमालय के निचले इलाके में दिखा लापता नेपाली विमान, मुस्टांग में क्रैश होने की आशंका, सवार थे 22 लोगसुप्रिया सुले पर विवादित टिप्पणी के बाद बीजेपी नेता चंद्रकांत पाटील ने मांगी माफीअरविंद केजरीवाल ने कहा- हरियाणा में लाखों बच्चों का भविष्य अंधकार में, हमें मौका मिला तो बच्चे बनेंगे डॉक्टर-इंजीनियरउज्जैन की गली-गली में घूमे हैं राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, शादी के कपड़े भी यहीं सिलाए, जानिए बार-बार क्यों आते थे यहांअमरनाथ यात्रा से पहले आतंकी साजिश नाकाम, ड्रोन को गिराया, स्टिकी बम बरामद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.