सावन का पहला सोमवार आज

सावन का पहला सोमवार आज

Sawan Singh Thakur | Publish: Jul, 22 2019 01:07:02 AM (IST) Mandla, Mandla, Madhya Pradesh, India

125 साल बाद सावन सोम-नागपंचमी तिथि एक साथ

मंडला। बुधवार १७ जुलाई से सावन का महीना शुरू हो चुका है। 22 जुलाई को सावन का पहला सोमवार है। सावन का महीना सारे महीनों में इसलिए खास माना जाता है क्योंकि ये महीना देवो के देव महादेव का महीना होता है। पुराणों में भी इस बात को बताया गया है कि सारे महीनों की अपेक्षा सावन के महीने में भगवान शिव की आराधना करने से महादेव ज्यादा प्रसन्न होते हैं। पंडित लक्ष्मीकांत द्विवेदी ने बताया है कि सावन के पहले सोमवार को भगवान शिव की पूजा के दौरान किसी भी प्रकार की ऐसी गलती न करें कि भगवान आपसे नाराज हो जाए। इसलिए जानकारों से सावधानियों के बारे में पूछकर ही सावन में भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए ताकि गलतियों से बच सकें।

बन रहे दिव्य संयोग
पंडित राकेश शास्त्री ने बताया कि इस वर्ष सावन के महीने में कई दिव्य संयोग बन रहे हैं जिसका आरंभ सावन के पहले सोमवार से 22 तारीख को हो रहा है। सावन के पहले सोमवार के दिन कृष्ण पक्ष की पंचमी तिथि है जिसे भविष्य पुराण में नागपंचमी तिथि कहा गया है। सावन में सोमवार के दिन नागपंचमी तिथि का संयोग बहुत ही दिव्य और दुर्लभ माना गया है क्योंकि सदियों में ऐसा संयोग बनता है जब सावन के महीने में सोमवार के दिन नागपंचमी तिथि भी साथ हो। माना जा रहा है कि करीब 125 साल बाद ऐसा संयोग बना है जब सावन सोमवार और नागपंचमी एक साथ है। इस साल सावन के महीने में भोले बाबा की भक्तों पर असीम अनुकंपा है कि दो सोमवार को ऐसा संयोग बना है जब सोमवार और नागपंचमी साथ है।

पूजा करते समय रखें इन बातों का ध्यान
शिवलिंग पर सबसे पहले गंगाजल चढ़ाएं। यदि गंगाजल उपलब्ध न हो तो ताजा जल तांबे के लोटे में भरकर शिवलिंग पर अर्पित करें।
इसके बाद दूध, दही, शहद, चावल शिवलिंग पर अर्पित करें।
फिर बेल के पत्ते, ताजे फलों और फूलों से शिवलिंग का श्रृंगार करें या शिवजी पर अर्पित करें।
शिवलिंग पर चंदन, रोली और अक्षत से टीका लगाएं और प्रसाद चढ़ाएं। प्रसाद में मिश्री, मीठे बताशे या मीठा इलायचीदाना रख सकते हैं।
शिवलिंग के सामने दीया-धूप करें और शिवजी की आरती कर प्रसाद सभी में बांट दें और खुद भी खाएं। दिन भर मन को साफ रखें, किसी के लिए गलत विचार मन में न लाएं और शिवजी से सुखमय जीवन के लिए प्रार्थना करें।
पंडित लक्ष्मीकांत के अनुसार सावन का महीना हर चराचर जीव के लिए महत्वपूर्ण है। युवा, वयस्क और वृद्ध अपनी-अपनी जरूरतों और इच्छाओं की पूर्ति के लिए शिव-पार्वती को मनाते हैं। मान्यता है कि सावन के सोमवार का व्रत कर कुंवारे युवक-युवतियां शिवजी से मनचाहे जीवनसाथी का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। वहीं, शादीशुदा लोग बेहतर गृहस्थी के लिए भोले को पूजते हैं तो वृद्ध, बच्चों की तरक्की और अपने लिए मोक्ष की कामना के साथ सावन में शिव की भक्ति करते हैं। इसलिए सावन का महीना और विशेषकर सावन के सोमवार को हमारी देश में खास माना जाता है। क्योंकि धर्मशास्त्रों के अनुसार, सोमवार शिवजी के पूजन का दिन होता है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned