बदहाली व उपेक्षा का शिकार घुघरी बस स्टैंड

हर रोज परेशानी उठा रहे स्थानीय और बाहरी लोग

By: Mangal Singh Thakur

Published: 19 Sep 2021, 08:34 PM IST

घुघरी। तहसील मुख्यालय को जिला एवं अधीनस्थ अंचलों से जोडऩे वाले नगर के बस स्टैंड की बदहाली से न केवल सैकड़ों बाहरी लोग बल्कि स्थानीय निवासी भी परेशानियों का सामना करने को विवश हैं। बरसात के मौसम में यह किसी दलदली क्षेत्र की तरह हो जाता है। बस स्टैंड के पूरे क्षेत्र को व्यवस्थित करने के लिए स्थानीय निवासी वर्षों से मांग कर रहे हैं। इसके बावजूद भी इसकी स्थिति जस की तस बनी हुई है। जहां एक ओर बस कीचड़ व कचरे का अंबार है वहीं दूसरी ओर इसके कारण वाहनो के खड़े होने के उचित इंतजाम न होने के कारण दुर्घटना की आशांकाएं बनी रहती हैं । वाहनो के खड़े होने के लिए कोई उचित स्थान बस स्टैंड में नहीं है। कीचड़ के कारण यात्री बसें व अन्य यात्री वाहन सड़क के किनारे खड़े किए जाते हैं। ऐसे में यदि कोई भारी वाहन आ जाए तो क्रासिंग के लिए स्थान ही नहीं बचता है जिसके कारण यहां प्रतिदिन दुर्घटनाओं का डर बना रहता है।


स्वच्छता का अभाव
सार्वजनिक शौचालय के पास पेयजल के लिए एक हैण्डपम्प है जिसके पास जाने के लिए भी गंदगी के अंबार को पार करना पड़ता है। लोग इनके उपयोग से बचते हैं। यदि कोई इस गंदगी के बीच पानी पीये तो बीमारी का खतरा बना रहता है। प्रत्येक व्यक्ति को किसी भी काम हो बस स्टैण्ड के सामने से ही गुजरना पड़ता है। समस्त प्रशासनिक अमले व राजनैतिक प्रतिनिधीयों का आवागमन इसी स्थान से होता है परन्तु इस पर किसी का ध्यान नहीं जाता है। चुनाव के समय तो मुद्दा काफी खास रहता है परन्तु जैसे ही चुनाव होते ही यह ठंडे बस्ते में चला जाता है।


आम नागरिक परेशान
बस स्टैण्ड में कीचड़ के अंबार से न केवल राहगीरों को समस्या का सामना करना पड़ रहा बल्कि व्यापारियों के लिए भी यह समस्या का सबब बना गया है। व्यापारियों ने बताया कि चारों ओर कीचड़ फैला हुआ है जिसके कारण कोई भी सामान की आवश्यकता होने पर उक्त कीचड़ के ढेर को पार करके आना जाना पडता है। जिससे लोग हिचकिचाते है। यह व्यापार में भी गिरावट कर कारण बन रहा है। छोटे व्यापारियों को भी इससे समस्या का सामना करना पड़ रहा है।


व्यापारियों में आक्रोश
* जब से बरसात शुरू हुई है कीचड़ के कारण ग्राहक कम हुए जिससे व्यापार में नुकसान हो रहा है।
पिंकू अग्रवाल, व्यापारी
* स्टैंड में कही भी जाना हो तो कीचड़ के कारण गिरने का डर लगा रहता है आने जाने में परेशानी होती है।
कमलेश परते, स्थानीय निवासी।

Mangal Singh Thakur
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned