scriptGod is hungry for love, emotion, worship fulfills wishes | भगवान प्रेम, भाव के भूखे है, पूजन से होती है इच्छाएं पूरी | Patrika News

भगवान प्रेम, भाव के भूखे है, पूजन से होती है इच्छाएं पूरी

महाराजपुर के मंगलेश्वर मंदिर में चल रही स्कंद पुराण, आज होगा समापन

मंडला

Published: January 10, 2022 06:01:11 pm

भगवान प्रेम, भाव के भूखे है, पूजन से होती है इच्छाएं पूरी
मंडला। जिले के उपनगरीय क्षेत्र महाराजपुर के मंगलेश्वर धाम में स्कंद पुराण का आयोजन किया जा रहा है। स्कंद पुराण में कथा वाचक भागवत भूषण पंडित विजयानंद शास्त्री ने कहा कि सच्चे मन से की गई प्रार्थना का फल अवश्य मिलता है। स्कंद पुराण का वाचन करते हुए बताया कि भगवान ने 24 अवतार लेकर भक्तों के कार्य को बनाया है, बड़े भाग्य से हमें सत्संग मिलता है। भगवान की कथा सुनकर हमें जीवन को सफल करना चाहिए। कथा के दौरान गंगा, नर्मदा, यमुना, क्षिप्रा, सरयू आदि दिव्य विग्रह वती नदियों का वर्णन किया। पुराण के दौरान शास्त्री जी ने कहा कि मां नर्मदा की परिक्रमा करना चाहिए। मां नर्मदा को इस धरती में आए सात कल्प हुए। मां नर्मदा के जल में जितने कंकर है वे सभी शंकर है, नर्मदेश्वर के नाम से उनकी पूजा की जाती है।
प्रार्थना, विश्वास असंभव को संभव कर देती है:
स्कंद पुराण के आठवें दिन पंडित विजयानंद शास्त्री ने बताया कि स्कंद पुराण की पावन कथा में वर्णन हुआ कि भगवान प्रेम और भाव के भूखे है, जैसे विदुर जी के घर प्रेम से भगवान ने भोग लगाया, शिवरी का उदाहरण देते हुए बताया एवं कथा में चर्तुमास का वर्णन बताया। चर्तुमास में कैसे भगवान का पूजन करें, दीपदान करें, भगवान का दर्शन, पूजन करें, चर्तुमास का वर्णन करते हुए एकादशी का भी वर्णन बताया गया। शास्त्री जी ने बताया कि एकदशी व्रत करना चाहिए, एकादर्शी सारे व्रतों का राजा है। उन्होंने बताया कि श्री हरि भगवान की पूजा करने से इच्छाएं पूरी हो जाती है। स्कंद पुराण में रविवार को बारह महिने का वर्णन हुआ। बारह मास में भगवान श्री के बारह नाम की महिमा का वर्णन बताया गया। महाराज जी ने बताया कि प्रार्थना और विश्वास असंभव को संभव कर देती है, प्रार्थना और विश्वास दिखते नहीं है लेकिन अंसभव को संभव कर देती है, इसलिए प्रार्थना भगवान से करनी चाहिए। भगवान के मंत्रों पर विश्वास सदैव रहना चाहिए।
चार वर्ष से कर रहे मंगलेश्वर मंदिर में आयोजन :
स्थानीय महाराजपुर से मंगलेश्वर मंदिर में विगत चार वर्षो से पुराण व कथा का वाचन किया जा रहा है। यह धार्मिक आयोजन स्वयं भागवत भूषण पंडित विजयानंद शास्त्री जी द्वारा आयोजित किया जा रहा है। जिससे क्षेत्र के लोग धर्मलाभ ले सकें। पंडित विजयानंद शास्त्री ने बताया कि विगत चार वर्ष से यह आयोजन कर रहे है। जिसमें प्रथम वर्ष शिव पुराण, द्वितीय वर्ष ***** पुराण, तृतीय वर्ष नर्मदा पुराण और अब इस चौथे वर्ष में स्कंद पुराण का आयोजन किए है।
आज हवन पूजन के साथ होगा समापन :
स्कंद पुराण कथा का आज सोमवार को हवन पूजन के साथ समापन किया जाएगा। समापन अवसर पर प्रसादी, भंडारे का आयोजन किया गया है। जिसमें सभी भक्तों से स्कंद पुराण के समापन अवसर पर पहुंच कर प्रसादी ग्रहण कर धर्मलाभ लेने की अपील की गई है।
भगवान प्रेम, भाव के भूखे है, पूजन से होती है इच्छाएं पूरी
भगवान प्रेम, भाव के भूखे है, पूजन से होती है इच्छाएं पूरी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयमुख्यमंत्री नितीश कुमार ने छोड़ा BJP का साथ, UP चुनावों में घोषित कर दिये 20 प्रत्याशीUP Assembly Elections 2022 : हेमा, जया, स्मृति और राजबब्बर रिझाएंगें मतदाताओं को, स्टार प्रचारकों की लिस्ट में हैं शामिलस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाUttar Pradesh Assembly Elections 2022: सपा का महा गठबंधन अखिलेश के लिए बड़ी चुनौतीबजट से पहले 1 फरवरी को बुलाई गई विधायक दल की बैठक, यह है अहम कारण
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.