7 मौतों के बाद गमगीन गांव में एक साथ उठी चार अर्थियां, रो पड़ा पूरा गांव

मनेरी में दो सिरफिरे भाइयों के बदला लेने के लिए अपने ही रिश्तेदार छह लोगों की हत्या के बाद गुरुवार को एक साथ चार अर्थियां उठी..

By: Shailendra Sharma

Published: 16 Jul 2020, 08:21 PM IST

मंडला. मनेरी में दो सिरफिरे भाइयों के बदला लेने के लिए अपने ही रिश्तेदार छह लोगों की हत्या के बाद गुरुवार को एक साथ चार अर्थियां उठी। परिजनों और ग्रामीणों के चीत्कार से गांव में पसरा मातमी सन्नाटा टूट गया। गांव से एक साथ चार अर्थियां उठता देख हर कोई स्तब्ध था। दूसरे दिन भी पूरे गांव में स्थिति तनावपूर्ण रही। लोगों में आक्रोश था। घरों में चूल्हे तक नहीं जले। बच्चों के शव को उठता देख ग्रामीणों का धैर्य टूट गया। आंखों से बहती आंसुओं की धार दर्द बयां कर रही थी। गुरुवार की सुबह अर्थियां उठते वक्त चीख से पूरा गांव गमगीन हो गया। अर्थियों को कंधा देने के लिए ग्रामीण कतार लगाए खड़े रहे।

 

bachhe.jpg

बच्चों को दफनाने नहीं मिला अपनों का हाथ
इस दर्दनाक घटना का इससे ज्यादा दर्दनाक मंजर क्या हो सकता है कि बच्चों को दफनाने के लिए अपनों का हाथ भी नहीं मिल सका। दो बच्चों को ग्रामीणों ने मिलकर दफनाया। शवों को देर रात निवास के मर्चुरी में लाया गया यहां पुलिस अधीक्षक, कलेक्टर सहित पूरा प्रशासनिक अमला मौजूद रहा। मृतक राजेंद्र सोनी, उनके छोटे भाई विनोद और विनोद के दो मासूम बच्चों का अंतिम संस्कार मनेरी में ही किया गया। राजेंद्र सोनी के समधी दिनेश सोनी का अंतिम संस्कार पड़वार में किया गया। राजेंद्र की बेटी प्रिया का अंतिम संस्कार ससुराल जबलपुर में किया गया। उधर, आरोपी संतोष सोनी का अंतिम संस्कार निवास में प्रशासन ने किया। मृतक राजेंद्र सोनी भाजपा के पूर्व जिला उपाध्यक्ष व मनेरी के पूर्व उप सरपंच भी रह चुके थे।

bachhe_03.jpg

सेना में पति, अंतिम संस्कार के लिए इंतजार
नरसंहार में अपनी जान गवां बैठी रज्जन उर्फ राजेंद्र सोनी की बेटी प्रिया सोनी के पार्थिव शव के लिए पति का दिनभर इंतजार रहा। प्रिया सोनी का विवाह जबलपुर में हुआ था और उनके पति जम्मू कश्मीर में सेना में तैनात हैं । प्रिया का शव उनके जबलपुर स्थित ससुराल भेजा।

तलवार लेकर बचे सदस्यों को भी ढूंढ रहे थे आरोपी
ग्रामीणों ने बताया कि आरोपी बेखौफ होकर तलवार चलाते रहे। कुछ सदस्य बाहर थे। बच्चे आसपास खेल रहे थे। आरोपी इन्हे भी ढूंढते रहे। जब नहीं मिले तो अंदर से बंद कर तलवार चलाते रहे। ग्रामीणों ने बताया कि प्रिया की एक डेढ़ साल की बच्ची है, जो घटना के वक्त पड़ोसी के घर में खेल रही थी जिसके चलते उसकी जान बच गई। आरोपी इसे भी ढूंढ रहे थे लेकिन नहीं मिली थी।

 

bachhe_02.jpg

बेटी को लेने आए थे गांव, घर पहुंची अर्थी
मृतक राजेंद्र सोनी का पुत्र नितिन बुरी तरह से घायल है और जबलपुर मेडिकल कॉलेज में भर्ती है। नितिन की पत्नी कृति उस वक्त मौके पर उपस्थित नहीं थी, इसलिए आरोपी नहीं पहुंच सके। कृति को मायके पड़वार ले जाने के लिए उनके पिता दिनेश सोनी गांव आए हुए थे। आरोपियों ने उन्हे भी मार डाला। राजेंद्र की बड़ी बेटी प्रिया की भी हत्या कर दी गई। जबकि दूसरी छोटी बेटी नीलू अन्य शहर में होने के कारण बच गईं है। राजेंद्र की पत्नी छोटी बेटी नीलू के साथ अन्य शहर में होने के कारण बच गई है।राजेंद्र के छोट भाई विनोद सोनी की पत्नी रिंकी सोनी घायल है, उन्हें बचा लिया गया है। जबकि उनके दोनों बच्चे ओम और श्रेयांश की मौत हो गई है।

 

bachhe_04.jpg

बुधवार को हुआ था भयावह 'नरसंहार'
बता दें कि बुधवार को दोनों आरोपी भाईयों ने रज्जन सोनी के घर में घुसकर तलवार से मौत का खेल खेला था और जो भी सामने आया था उसे मौत के घाट उतार दिया था। इस घटना में आरोपियों ने रज्जन सोनी के परिवार के 6 लोगों की हत्या कर दी थी वहीं वारदात के बाद ग्रामीणों ने पकड़कर एक आरोपी को पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया था।

 

देखें वीडियो-

Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned