वेतन-नियमितीकरण के लिए मुंशी सड़क पर

तेंदुपत्ता फड़ मुंशी संघ ने दिया धरना

By: Vikhyaat Mandal

Updated: 02 Mar 2019, 11:49 AM IST

मंडला. मध्य प्रदेश तेंदूपत्ता लघु वनोपज सहकारी समिति फड़ मुंशी संघ के नेतृत्व में जिला स्तरीय एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया गया। धरना प्रदर्शन के बाद रैली निकाल कर मुख्यमंत्री, राज्यपाल आदि के नाम ज्ञापन सौंपा गया। धरना प्रदर्शन में जिला पंचायत अध्यक्ष सरस्वती मरावी, जिला पंचायत उपाध्यक्ष शैलेष मिश्रा ने पहुंचकर उनकी मांगों को विस्तार से समझा उन मांगों को सरकार तक पहुंचाने की बात कही। उन्होंने उपस्थित जनों को संबोधित करते हुए राज्य सरकार से मांग करते हुए पंचायती राज व्यवस्था के तहत उन्हें उनके अधिकारों को वापस किए जाने की मांग की। ज्ञापन में प्रदेश के अंतर्गत हर जिले में तेेंदुपत्ता फड़ मुंशीयों को नियमितिकरण कर मानदेय में रखे जाने की मांग की गई। इसका कारण बताया गया कि अभी समितियो के माध्यम से कमिशन में फड़ मुंशियो को रखा जाता है जिनको कभी कभी कुछ मुंशियो को महीने की मजदूरी भी नहीं पड़ती है क्योकि कुछ फड़ों में पत्ते की आवक कम होती है इससेे कमिशन कम बनाता है। कुछ फड़ों में तेंदुपत्ता आवक अधिक होती है वहां अधिक कमिशन बनता है। फड़ मुंशियो संरक्षक बाबूलाल यादव ने बताया कि समान काम समान वेतन के तहत नियमितीकरण कर मानदेय में रखा जाए क्योकि फड़ मुंशी निरंतर वनवासी आदिवासीयो के बीच मजदूरी करते आ रहे है। सरकारें संग्राहकों के अनुपात में बोर्ड बैंक योजना बनाने के लिए अनेक प्रकार की योजनाओ से लाभ दे दिया जाता है किन्तु फड़ मुंशी भी उन्ही के गॉव के बीच का भाई होता है।
ज्ञापन में फड़ मुंशियो का जीवन बीमा किए जानेे तथा बीमा की राशि शासन द्वारा दिया जाए। वन उपज से संबंधित जो भी क्रय विक्रय है फड़ मुंशी से कराया जाए। तेंदुपत्ता फड़ मुंशी विकलांग अपंगता अस्वस्थ्य या मृत्यु के बाद उस परिवार के सदस्य को ही फड़ मुंशी पद पर रखा जाए। फड़ मुंशियो को बगैर कोई कारण के पद से न हटाया जाए।
ज्ञापन सौंपने के दौरान मप्र तेंदुपत्ता लघुवन उपज सहकारी समिति फड़ मुंशी संघ मप्र अध्यक्ष शांति यादव, संरक्षक बाबुलाल यादव, रामकुमार ठाकुर, सुुकलाल, जगत, दशईया परस्ते, सुकलाल बर्मन, जगत सिंह सैयाम, गिरवर, मनीराम, मुनीम सिंगरौरे आदि उपस्थित रहे।

Vikhyaat Mandal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned