scriptNow what to give dowry in marriage, inflation broke the back | अब क्या देंगे शादी में दहेज, महंगाई ने तोड़ी कमर | Patrika News

अब क्या देंगे शादी में दहेज, महंगाई ने तोड़ी कमर

वैवाहिक सीजन में बढ़ी बर्तनों की मांग

मंडला

Published: April 20, 2022 08:38:27 pm

मंडला. घर-घर की जरूरत बर्तन पर महंगाई की मार का असर दिख रहा है। एक साल में पीतल-तांबा, कांसा एल्यूमिनीयम के दाम बढऩे से बर्तन महंगे हुए है। जिसका असर बर्तन बाजार पर साफ दिख रहा है। बर्तन व्यावसायीओं के अनुसार पिछले एक साल में बर्तनों पर प्रति किलो हिसाब से 50 से लेकर सौ रूपए तक की बढ़ोतरी हुई है। शादी शुरू होने से इसमें उपयोग होने वाले बर्तनों की मांग और बढ़ गई है। ऐसे में लोगों की जेब पर खरीदारी भारी पड़ रही है।
विवाह का सीजन
अप्रैल-मई में विवाह के 18 मूहूर्त है। लोगों ने इसकी खरीदना शुरू कर दी है। वैवाहिक जोड़ों को उपहार देने के लिए इस दौरान पीतल के कलश, परात, टंकी की ज्यादा खरीददारी होती है। इसके अलावा अन्य रश्मों में भी बर्तनों की जरूरत होती है। ऐसे में लोग बजट के हिसाब से खरीददारी कर रहे है।
एक करोड़ का व्यापार
शहर में बर्तनों की करीब तीन दर्जन दुकानें है। इस सीजन बर्तन व्यापारियों को बिक्री बेहतर होने की उम्मीद है। महंगाई के हिसाब से ग्राहकी अभी तो कम है, लेकिन शादियों की सीजन होने और कोरोना की पाबंदिया हटने से बाजार बेहतर होने की उम्मीद है। हालांकि बर्तनों में महंगाई का कारण पेट्रोल-डीजल के बढ़े हुए दामों को बताया जा रहा है। बर्तनों में महंगाई का कारण पेट्रोल-डीज के बढ़े हुए दामों को बताया जा रहा है, क्योंकि परिवहन महंगा होने कारण यह स्थिति बन रही है। इसके अलावा पैकिंग और मालभाड़ा भी महंगाई बढऩे के कारण है।

एक साल में 100 से 700 रुपए तक बढ़ोतरी
बर्तन वर्ष 2021 वर्ष 2022
कांसा 1000 1700
तांबा 1000 1400
पीतल 550 900
स्टील 300 550
एल्यूमीनियम 300 400
अब क्या देंगे शादी में दहेज, महंगाई ने तोड़ी कमर
अब क्या देंगे शादी में दहेज, महंगाई ने तोड़ी कमर
मइगाई बहुत ज्यादा हो गई है कांसा और पीतल के दामों में पूर्व की अपेक्षा कई गुना वृद्धि हो गई है। जिसके चलते अब इन्हे लेने की हिम्मत नहीं रही है। अब दहेज में देेने के लिए अन्य समान लेने की सोच रहे है।
मत्तो बाई, ग्राम धम्मी निवासी

शादी में व्यवहार देने के लिए बर्तन की खरीददारी करने के लिए बाजार आए थे लेकिन बर्तनो के दाम इतने ज्यादा हो गए है कि इन्हें लेने के लिए इतने पैसे ही नही है इसलिए कुछ और समान लेने की योजना बना रहे है।
गायत्री परस्ते, अमदरा निवासी

&दो साल लॉकडाउन के कारण विवाह कम हुए हैं। हुए भी तो मेहमानो की संख्या सिमित थी तो उपहार देना भी आवश्यक नहीं थी। अब दूर के दरिश्तेदारों के यहां से भी निमंण आ रहे हैं। महंगाई के कारण बजट बिगड़ रहा है।
ममता परस्ते, ककैया निवासी

उधारी बंद, नगर में काम
आम आदमी के साथ ही व्यापारियों की भी कमर टूट गई है। घाटा से बचने के लिए उधारी का काम पूरी तरह से बंद हो गया है। नगद में काम किया जा रहा है।
शेखर कांसकार, बर्तन व्यापारी

&लोग खरीददारी तो करते हैं, लेकिन जो लोग 5-6 हजार का सामान खरीदते थे वह अब 4 हजार का खरीद रहे हैं। पहले 300 रुपए परिवहन का चार्ज लगता था। अब 500 रुपए तक पहुंच गया है। महंगाई का असर दिख रहा है।
रोहित जसवानी, बर्तन व्यापारी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Amravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या का मास्टरमाइंड नागपुर से गिरफ्तार, अब तक 7 आरोपी दबोचे गए, NIA ने भी दर्ज किया केसमोहम्‍मद जुबैर की जमानत याचिका हुई खारिज,दिल्ली की अदालत ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजाSharad Pawar Controversial Post: अभिनेत्री केतकी चितले ने लगाए गंभीर आरोप, कहा- हिरासत के दौरान मेरे सीने पर मारा गया, छेड़खानी की गईIndian of the World: देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस को यूके पार्लियामेंट में मिला यह पुरस्कार, पीएम मोदी को सराहाGujarat Covid: गुजरात में 24 घंटे में मिले कोरोना के 580 नए मरीजयूपी के स्कूलों में हर 3 महीने में होगी परीक्षा, देखे क्या है तैयारीराज्यसभा में 31 फीसदी सांसद दागी, 87 फीसदी करोड़पतिकांग्रेस पार्टी ने जेपी नड्डा को BJP नेता द्वारा राहुल गांधी से जुड़ी वीडियो शेयर करने पर लिखी चिट्ठी, कहा - 'मांगे माफी, वरना करेंगे कानूनी कार्रवाई'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.