scriptNRC was being conducted in the third floor of Red Cross, | रेडक्रॉस के तीसरी मंजिल में एनआरसी का हो रहा था संचालन, अब शुरू हुआ जिला चिकित्सालय में | Patrika News

रेडक्रॉस के तीसरी मंजिल में एनआरसी का हो रहा था संचालन, अब शुरू हुआ जिला चिकित्सालय में

इलाज में होती थी परेशानी, अस्पताल में ही बनाई व्यवस्था

मंडला

Published: June 12, 2022 03:40:52 pm

मंडला. पोषण पुनर्वास केन्द्र एक बार फिर जिला अस्पताल में संचालित होने लगा है, जिससे अब यहां कुपोषित बच्चों को लेकर भर्ती होने वाली माताओं को भी काफी सुविधा होने लगी है। बता दें कि पूर्व में जिला अस्पताल परिसर में ही पोषण पुनर्वास केन्द्र का संचालन एक अलग बिल्डिंग में किया जाता था, चूंकि यह बिल्डिंग यहां भर्ती होने वाले बच्चों की सुविधाओं के लिहाज से ठीक नहीं थी इसलिए यहां नए सिरे से पोषण पुनर्वास केन्द्र के निर्माण की बात कहते हुए यहां से रेडक्रॉस की तीसरी मंजिल में वैकल्पिक रूप से केन्द्र का संचालन किया जाने लगा। लेकिन करीब दो साल तक रेडक्रॉस की तीसरी मंजिल में एनआरसी का संचालन होने के बाद भी इस दौरान नए भवन का निर्माण नहीं किया गया है और रेडक्रॉस में भी बच्चों के इलाज में परेशानी के चलते एक बार फिर पोषण पुनर्वास केन्द्र को जिला अस्पताल परिसर में पुराने सीएमएचओ कार्यालय के पीछे संचालित किया जाने लगा है। यही नहीं अभी संबंधित अधिकारियों का कहना है कि एनआरसी के लिए नए भवन निर्माण की कोई योजना नहीं है।
कोरोना काल में जिला अस्पताल में जहां कोरोना के मरीजों को रखा जाता था अब उसी वार्ड की साफ-सफाई करके उसे पोषण पुनर्वास केन्द्र बना दिया गया था लेकिन इससे पहले से बीमार, कमजोर बच्चों के स्वास्थ्य पर विपरीत असर पडऩे का भय सता रहा है। हालांकि अधिकारी इस संभावना को सिरे से खारिज कर रहे हैं उनका कहना है कि वार्ड की अच्छी तरह साफ-सफाई कराकर, सेनेटाईज कराया गया है, जिससे यह वार्ड अब पूरी तरह सुरक्षित है।
वहीं इस भीषण गर्मी में यहां बच्चों एवं उनकी माताओं के लिए गर्मी से निजात के लिए समुचित प्रबंध नहीं है, कुछ कूलर तो यहां लगे दिखाई देते हैं लेकिन ये यहां भर्ती बच्चों और उनकी माताओं की संख्या के लिहाज से कम कमतर महसूस की जा रही है। भीषण गर्मी में इनसे निजात नहीं मिलने से कई परिजनों ने यहां अपने घर से लाए पंखे लगाकर गर्मी से राहत पाने की कोशिश कर रहे हैं।
माताओं को मिलता है मजदूरी भत्ता
केन्द्र से मिली जानकारी जो माताएं पोषण पुनर्वास केन्द्र में अपने बच्चे के साथ भर्ती रहती हैं, यहां इलाज के बाद कम से कम दो फॉलोअप के बाद मजदूरी भत्ता के रूप में जितने दिन भी माताएं अपने बच्चे को लेकर भर्ती रहती है। 120 रुपए प्रतिदिन के मान से मजदूरी भत्ता के रूप में भर्ती रहे बच्चे की माता के खाते में डाले जाते हैं।
रेडक्रॉस के तीसरी मंजिल में एनआरसी का हो रहा था संचालन, अब शुरू हुआ जिला चिकित्सालय में
रेडक्रॉस के तीसरी मंजिल में एनआरसी का हो रहा था संचालन, अब शुरू हुआ जिला चिकित्सालय में
आने जाने और इलाज में होती थी परेशानी
करीब दो सालों तक रेडक्रॉस भवन में पोषण पुनर्वास केन्द्र का संचालन किया जाता रहा, यहां यह केन्द्र तीसरी मंजिल में संचालित होने से महिलाओं को अपने बच्चों को लेकर तीसरी मंजिल में पहुंचने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता था। इस केन्द्र में लाने के पहले बच्चों को जिला अस्पताल में दिखाना पड़ता है जिसके बाद बच्चे की हालत देखकर उसे पोषण पुनर्वास केन्द्र में भर्ती कराया जाता है। अस्पताल में दिखाने के बाद यदि बच्चे को भर्ती कराना है तो अस्पताल से दूर रेडक्रॉस भवन में ले जाना पड़ता था इसके अलावा यदि अचानक डॉक्टर की जरूरत पड़ जाए तो जिला अस्पताल से रेडक्रॉस तक डॉक्टर का पहुंचना भी समय में संभव नहीं था, इस समस्या को लेकर पत्रिका ने कुछ दिनों पूर्व समाचार प्रकाशित भी किया था जिसके बाद अब जिला अस्पताल परिसर में ही पोषण पुनर्वास केन्द्र संचालित होने लगा है।

अब भर्ती की कोई सीमा नही
जन बच्चों में उम्र की हिसाब से विकास नहीं होता है, खून की कमी या अन्य बीमारियों से ग्रसित बच्चों को पूर्व में यहां 15 दिनों तक उनकी माताओं के साथ रखकर बच्चों का इलाज किया जाता था, लेकिन अब इस समय सीमा के बंधन को समाप्त कर दिया गया है और जब तक इस केन्द्र में भर्ती बच्चे का शारीरिक विकास उसकी उम्र के हिसाब से नहीं होने लगता, तब तक उसे पोषण पुर्नवास केन्द्र में रखकर समुचित दवाओं के साथ पोषण आहार देने की व्यवस्था की गई है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Independence Day 2022: भारत की आजादी के 75 साल पूरे होने पर इन देशों ने दी बधाईयां और कही ये बातKarnataka News: शिवमोग्गा में सावरकर के पोस्टर को लेकर बढ़ा विवाद, धारा 144 लागूसिंगर राहुल जैन पर कॉस्ट्यूम स्टाइलिस्ट के साथ रेप का आरोप, मुंबई पुलिस ने दर्ज की एफआईआरशख्स के मोबाइल पर गर्लफ्रेंड ने भेजा संदिग्ध मैसेज, 6 घंटे लेट हुई इंडिगो की फ्लाइट, जाने क्या है पूरा मामलासिर्फ 'हर घर' ही नहीं, 'स्पेस' में भी लहराया 'तिरंगा', एस्ट्रोनॉट राजा चारी ने अंतरिक्ष स्टेशन पर लहराते झंडे की शेयर की तस्वीरबिहार : नीतीश कुमार का बड़ा ऐलान, 20 लाख युवाओं को देंगे नौकरी और रोजगारIndependence Day 2022 : अगले 25 सालों का क्या है प्लान, पीएम मोदी के भाषण की 10 बड़ी बातेंस्वतंत्रता दिवस के मौके पर लेह पहुंचे मनोज तिवारी और निरहुआ, जवानों को परोसा खाना
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.