scriptProhibition on collection of high rent of agricultural equipment from | किसानों से कृषि उपकरण की अधिक किराया वसूली पर रोक | Patrika News

किसानों से कृषि उपकरण की अधिक किराया वसूली पर रोक

कृषि संयंत्र उपकरण मालिकों की मनमानी पर प्रशासन करेगा कार्रवाई

मंडला

Published: November 02, 2021 10:44:48 pm

मंडला. खरीफ की फसल पकने को है। फसल पकते ही जिले भर के खेतों में किसानों और मजदूरों की भीड़ जुटना शुरू होगी ताकि कम समय पर अधिक से अधिक फसल की कटाई की जा सके। आदिवासी बहुल्य जिला होने के कारण अधिकांश क्षेत्रों में आज भी कृषि संयंत्रों और उपकरणों के बजाय श्रमिकों के माध्यम से कटाई कार्य किया जाता है। इसकी प्रमुख वजह यह है कि अधिकतर किसान छोटे और लघु श्रेणी के हैं। कुछ ही किसानों के पास कृषि संयंत्र जैसे थ्रेसर, हारवेस्टर, अधिक एचपी वाले ट्रैक्टर उपलब्ध हैं। छोटे एवं लघु किसानों को आज भी कृषि कार्य के लिए संयंत्रों एवं वाहनों को किराए पर लेना पड़ता है। जिले में कृषि वाहन मालिक अनाप शनाप दर लगाकर किसानों के अनुचित वसूली करते हैं। कुछ किसानों ने इसे अपना व्यापार बना लिया है कि कटाई के वक्त मौसम बिगड़ते ही वे अपने कृषि संयंत्रों की किराया राशि में बेवजह की बढ़ोत्तरी कर देते हैं। लंबे समय से इस समस्या से परेशान हो रहे किसानो में रोष पनप रहा है। इसके लिए कई बार प्रशासकीय और शासकीय स्तर पर शिकायतें भी की गई। छोटे और लघु किसानो के लिए यह खुशी की बात है कि कृषि विभाग ने जिले में कृषि संयंत्रों के किराए के लिए राशि निर्धारित कर दी है। इस बार खरीफ फसल की कटाई में किसान अथवा कृषि संयंत्र मालिक छोटे एवं लघु-मध्यम किसानों से किराए की मनमाना वसूली नहीं कर पाएंगे।
कृषि कार्य के लिए दर निर्धारित
उपसंचालक कृषि एसएस मरावी का कहना है कि कृषि वाहनों की किराया राशि प्रति घंटे एवं प्रति किमी की दर से निर्धारित की गई है। कृषि कार्य में अलग अलग एचपी-अश्वशक्ति के वाहनों की किराया राशि अलग अलग होती है क्योंकि अश्वशक्तिके अनुसार वाहन की कटाई और परिवहन क्षमता होती है। 40 अश्वशक्ति तक के व्हील टाईप ट्रैक्टर 510 रूपये प्रतिघंटे निर्धारित किए गए हैं। 41 अश्वशक्ति या उससे अधिक अश्वशक्ति के ट्रैक्टर 625 रूपये प्रतिघंटे निर्धारित किया गया है। इसी तरह से परिवहन कार्य के लिए दर निर्धारित की गई है। 40 अश्वशक्ति तक के व्हील टाईप ट्रैक्टर 14 रूपये प्रति किलोमीटर की दर से भुगतान कर सकेंगे। इसी तरह 41 अश्वशक्तिया उससे अधिक अश्वशक्ति के ट्रैक्टर 18 रूपये किलोमीटर निर्धारित किया गया है।
परेशानी से बचाव
हर वर्ष खरीफ की फसल की कटाई कार्य के दौरान मौसम खराब होता है या तो बारिश होती है अथवा पाला पडऩे या बादल होने पर कीड़े पडऩे का खतरा कई गुना बढ़ जाता है। उस वक्त जिन किसानों की फसल खेतो में लहलहा रही होती है। उनके लिए यह वक्त बड़े संकट का होता है। इस बार किसानों को इस परेशानी से जूझना नहीं पड़ेगा। यही कारण है कि किसानों में खुशी देखी जा रही है। बशर्ते प्रशासन इस नियम को सख्ती से लागू करा सके। लालीपुरहार के किसान जगराम पटेल का कहना है कि वाहनों की किराया राशि का निर्धारण कर सही निर्णय लिया गया है। इससे छोटे किसानों को सबसे अधिक फायदा होगा। बिनेका गांव के किसान बलराम नंदा का कहना है कि शुरूआत अच्छी है इससे मनमानी करने वाले बड़े किसानों और वाहनमालिकों की मनमानी को नियंत्रित किया जा सकेगा।

Prohibition on collection of high rent of agricultural equipment from
Prohibition on collection of high rent of agricultural equipment from

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022: परम विशिष्ट सेवा मेडल के बाद नीरज चोपड़ा को पद्मश्री, देवेंद्र झाझरिया को पद्म भूषणRepublic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयमुख्यमंत्री नितीश कुमार ने छोड़ा BJP का साथ, UP चुनावों में घोषित कर दिये 20 प्रत्याशीAloe Vera Juice: खाली पेट एलोवेरा जूस पीने से मिलते हैं गजब के फायदेगणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस पर झंडा फहराने में क्या है अंतर, जानिए इसके बारे मेंRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस परेड में हरियाणा की झांकी का हिस्सा रहेंगे, स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.