scriptRacking slipped in the plight of narrow streets-Narmada Ghats | संकरी गलियों-नर्मदा घाटों की बदहाली में फिसली रैकिंग | Patrika News

संकरी गलियों-नर्मदा घाटों की बदहाली में फिसली रैकिंग

नगरपालिका के झूठे दावों की पोल खुली, देश भर में 184 वें पायदान पर

मंडला

Published: November 26, 2021 08:17:30 pm

मंडला. स्वच्छता सर्वेक्षण की रैंकिंग के लिए बड़े प्रयास करने के दावे करने वाली मंडला नगरपालिका इस बार 184वें पायदान तक जा पहुंची है जबकि वर्ष 2020 मेें मंडला नगरपालिका को 58वें रैंङ्क्षकग मिली थी। अंदाजा लगाया जा सकता है कि मंडला नगरपालिका क्षेत्र में सफाई किस स्तर पर हो रही है और नगरपालिका प्रबंधन और नगरपालिका के जनप्रतिनिधियों के दावों की असलियत क्या है? सच तो यह है कि नगरपालिका के सफाई कर्मचारियेां द्वारा सिर्फ मुख्य मार्गों की सफाई में ही रुचि ली जा रही है। गली कूचे और संकरी गलियों की सफाई को ताक पर रख दिया गया है। यही कारण है कि नगर की संकरी गली मोहल्ले कचरे से अटे पड़े हैं और यहां सड़ांध उड़ती रहती है।
कई वर्षों से नहीं हुई सफाई
नर्मदा के घाटों की कई वर्षांे से सफाई नहीं की जा रही है। नगर के चारों ओर छोटे बड़े लगभग 23 घाट हैं। हर बारिश में यहां बाढ़ के साथ मिट्टी बहकर आती है। लगभग छह वर्षों पहले तक बारिश का मौसम गुजरने के बाद यहां घाटों की सफाई कराई जाती थी ताकि बाढ़ के साथ आने वाली मिट्टी के कारण घाटों की नैसर्गिक सौंदर्य न बिगड़े। जनप्रतिनिधियों की अनदेखी और विभागीय अधिकारी कर्मचारियों की लापरवाही के कारण सभी घाटों में कई कई मीटर तक बाढ़ की मिट्टी जमी है। सभी घाट बदहाल पड़े हैं। अनेक घाट ऐसे हैं जहां सड़ांध उडऩे के कारण लोगों ने जाना छोड़ दिया है।
बड़े घाटों में मिलते नाले
नर्मदा नदी के अधिकांश बड़े घाटों में शहर की बड़ी बड़ी नािलयां खुलती हैं। जिन से शहरवासियों के घरों का निस्तारी पानी बहकर नर्मदा में मिलता है। नर्मदा किनारे फिल्टर प्लांट स्थापित कर शहर की नालियों से बहकर आने वाले गंदे पानी का फिल्टरेशन का प्रोजेक्ट ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है। यही वजह है कि आज भी नर्मदा नदी में नालियों से गंदा और बदबूदार निस्तारी पानी मिल रहा है और घाटों का वातावरण अशुद्ध होता जा रहा है।
गंदगी से अटे मोहल्ले
मंडला नगरपालिका क्षेत्र में 24 वार्ड शामिल हैं। इनमें से चार वार्ड उपनगरीय क्षेत्र महाराजपुर में शामिल हैं। नगर के अधिकांश वार्डों के मोहल्ले और घनी बस्तियां गंदगी और कचरे के ढेर से अटी पड़ी हैं। सभी अस्थाई कचराघर हटा दिए गए हैं और कचरा वाहन घर-घर तक पहुंच नहीं रहे हैं। इस कारण लोग सड़क किनारे कचरा फेंकने को बाध्य हो रहे हैं। यही कारण है कि पूरा नगरीय इलाकों में कचरे के ढेर लगे मिल रहे हैं।

Racking slipped in the plight of narrow streets-Narmada Ghats
Racking slipped in the plight of narrow streets-Narmada Ghats

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022: परम विशिष्ट सेवा मेडल के बाद नीरज चोपड़ा को पद्मश्री, देवेंद्र झाझरिया को पद्म भूषणRepublic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयमुख्यमंत्री नितीश कुमार ने छोड़ा BJP का साथ, UP चुनावों में घोषित कर दिये 20 प्रत्याशीAloe Vera Juice: खाली पेट एलोवेरा जूस पीने से मिलते हैं गजब के फायदेगणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस पर झंडा फहराने में क्या है अंतर, जानिए इसके बारे मेंRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस परेड में हरियाणा की झांकी का हिस्सा रहेंगे, स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.