राशन दुकान को भेजा गया चावल मानक स्तर का

एफसीआई की रिपोर्ट में पास, अब बंटेगा चावल

By: Mangal Singh Thakur

Published: 30 Sep 2020, 09:44 PM IST

मंडला. गुरूवार की देर शाम को नगर के शासकीय उचित मूल्य दुकान के लिए भेजा गया चावल मानक स्तर का पाया गया है। यह बात स्पष्ट की गई है जिला खाद्य आपूर्ति विभाग द्वारा। दरअसल यह चावल मार्क फेड के गोदाम से भेजा गया था। इस गोदाम में नागरिक आपूर्ति निगम का चावल भंडारण किया जा रहा है। कलेक्टर कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार, जिले भर से कुल १३ हजार ५०० मीट्रिक टन चावल का सैंपल ९० स्टेग के जरिए लिया गया था। प्रत्येक स्टेग से १ सैंपल लिया गया था। इनमें से ३९ सैंपल पास किए और शेष ५१ सैंपल को फेल कर दिया गया। एफसीआई द्वारा पास किए सैंपल के चावल को ही शासकीय उचित मूल्य दुकान में वितरण के लिए भिजवाना शुरू किया गया है।
गुरूवार को बवाल तब मचा, जब यह बात सामने आई कि शासकीय उचित मूल्य दुकान में भेजा गया चावल जिला खाद्य आपूर्ति विभाग को सूचना दिए बगैर भिजवाया गया है। जानकारी मिलते ही आनन फानन में खाद्य आपूर्ति विभाग से टीम को उक्त दुकान भिजवाया गया और चावल के वितरण पर रोक लगा दी गई। नागरिक आपूर्ति निगम के क्वालिटी कंट्रोलर के जरिए जब उक्त चावल की जांच कराई गई तो इसे मानक स्तर का बताया गया।
इस चावल को एफसीआई की रिपोर्ट में भी मानक स्तर का बताया गया है, इसलिए इसे मार्कफेड के गोदाम से शासकीय उचित मूल्य दुकान में भिजवाया गया था।
कलेक्टर ने दिए निर्देश
जिले में भंडारित हजारोंं मीट्रिक टन अमानक चावल घोटाले का खुलासा होने और केंद्र सरकार के टीम की रिपोर्ट के बाद शासकीय उचित मूल्य दुकानों को बंटने वाले चावल के मामले पर कलेक्टर ने निर्देश दिए हैं कि उचित मूल्य दुकान के विके्रता गुणवत्ता का परीक्षण करने के बाद ही खाद्यान्न प्राप्त करें। प्रदाय केन्द्रों से शासकीय उचित मूल्य दुकानों को खाद्यान्न परिवहन किये जाने के पूर्व खाद्यान्न की गुणवत्ता का परीक्षण जिला प्रबंधक नान, क्षेत्रीय एएसओ, जेएसओ एवं शाखा प्रबंधक एसडब्लूसी की समिति द्वारा किया जाएगा। परीक्षण रिपोर्ट की प्रति पूर्ण विवरण सहित सुरक्षित रखी जाएगी। खाद्यान्न एफएक्यू पाये जाने पर ही उसका भण्डारण दुकानों में कराया जाएगा। वितरित किये जा रहे खाद्यान्न का सेम्पल शासकीय उचित मूल्य दुकान को नागरिक आपूर्ति निगम द्वारा खाद्यान्न के साथ उपलब्ध कराया जाएगा। शासकीय उचित मूल्य दुकान का विक्रेता गुणवत्ता का परीक्षण करने के बाद ही खाद्यान्न प्राप्त करेंगे। बाद में खाद्यान्न अमानक पाये जाने पर विक्रेता के विरूद्ध कार्यवाही की जाएगी।
शासकीय उचित मूल्य दुकानों के नोटिस बोर्ड पर अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) एवं क्षेत्रीय सहायक कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी का मोबाईल नम्बर अंकित किया जाएगा, ताकि उपभोक्ता स्व सहायता समूह अमानक खाद्यान्न की शिकायत दर्ज करा सकें। शिकायत मिलने पर इसका निराकरण संबंधित अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) सहायक कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी द्वारा तत्काल किया जाएगा।

Mangal Singh Thakur
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned