सामाजिक समरसता का प्रतीक हैं शंकराचार्य

बिछिया-अंजनिया होते हुए मंडला पहुंची एकात्म यात्रा

By: Vikhyaat Mandal

Published: 04 Jan 2018, 06:30 PM IST

मंडला. भेदभाव समाप्त करने में आदि गुरु शंकराचार्य का अद्वैतवाद जितना पहले प्रासंगिक था, उतना आज भी है। भगवान शंकर के अवतार आदि शंकराचार्य के आदर्श, विचार, दर्शन का समाज पर व्यापक प्रभाव पड़ सकता है। इस यात्रा का उद्देश्य उनके सिद्धांतों को जन जन तक पहुंचाना है। इससे क्षेत्र में समरसता एवं एकता का वातावरण निश्चित रूप से बनेगा।
उक्ताशय के विचार रखे सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते ने। बिछिया से अंजनिया होते हुए नगर में कल शाम को एकात्म यात्रा ने प्रवेश किया। जगह जगह यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। यात्रा नगर के विभिन्न मार्गों से होती हुई महात्मा गांधी स्टेडियम ग्राउंड पहुंची।
इस अवसर पर स्वामी मुक्तानंदपुरी महाराज, अयोध्या दिव्यकुण्ड के स्वामी सत्यदेवदासजी सहित साधु संत, जिला पंचायत अध्यक्ष सरस्वती मरावी, जिला पंचायत सदस्य अनिता तिवारी, अंगूरी झारिया, कलेक्टर सूफिया फारुखी ,पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार सिंह, अपर कलेक्टर मनोज कुमार ठाकुर, जिला पंचायत सीईओ एसएस रावत, विभाग समन्वयक शिवकुमार मालवीय, विवेक पांडे, यात्रा सहप्रभारी उमेश पांडे सहित जनप्रतिनिधि, अधिकारीगण एवं भारी संख्या में जनसमूह उपस्थित रहा।
बिछिया से अंजनिया
बिछिया के मुख्य मार्ग से गुजरती एकात्म यात्रा को अंजनिया प्रस्थान करने के लिए विदाई दी गयी। अंजनिया से प्रस्थान के बाद यात्रा ग्राम टोढ़ा में पहुची जहां शैलेष मिश्रा द्वारा लोगो को संकल्प दिलाया गया। इसके बाद एकात्म यात्रा औरई पहुंची जहाँ सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते, यात्रा सहसंयोजक शिवनारायण, विधायक पंडित सिंह धुर्वे, जि़ला पंचायत अध्यक्ष सरस्वती मरावी, मंडी अध्यक्ष सुनील नामदेव, एसडीएम पीएस धुर्वे द्वारा यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। औरई में शिवनारायण ने जनसमूह को शपथ दिलाई। इस अवसर पर सैकड़ो लोगो की उपस्थिति में नर्मदा अष्टांग का वाचन किया गया। इसके बाद एकात्म यात्रा घोंट एवं मेढ़ाताल पहुंची जहाँ सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते एवं शैलेष मिश्रा द्वारा लोगो को संबोधित किया गया एवं शपथ दिलाई गई।
अंजनिया में जनसंवाद कार्यक्रम
एकात्म यात्रा के अंतर्गत बुधवार की सुबह अंजनिया में जनसंवाद कार्यक्रम संपन्न हुआ। सांसदफग्गन सिंह कुलस्ते द्वारा कन्यापूजन, नन्हे बटुकों का पूजन एवं साधु संतों का सम्मान किया गया। यात्रा सहप्रभारी शिवनारायण पटेल ने आदिगुरू शंकराचार्य का जीवन परिचय प्रस्तुत किया। उन्होंने कहा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, महिला सशक्तिकरण एवं नशामुक्ति आदि भी इस यात्रा के उद्देश्यों में शामिल है। राकेश ने कहा कि विघटनकारी शक्तियों का मुकाबला करने एवं भारत की एकता को बनाये रखने के लिए आदि गुरू शंकराचार्य के दर्शन, सिद्धान्त एवं कार्यों की आज भी प्रासंगिकता है। स्वामी मुक्तानंदपुरी महाराज ने बच्चों को संबोधित करते हुए उन्हें सरल शब्दों में आदिगुरु शंकराचार्य के संबंध में गृहणयोग्य संवाद प्रस्तुत किया।
अंजनिया में जनसंवाद समाप्ति के बाद एकात्म यात्रा जगनाथर, माधोपुर, कन्हारी, औघटखपरी, पदमी आदि से होते हुए मंडला पहुंची जहाँ यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। माधोपुर में सांसद कुलस्ते ने लोगों को संबोधित किया, नर्मदा आरती की एवं एकात्म संकल्प दिलाया। कन्हारी में शैलेष मिश्रा ने एकात्म का संकल्प दिलाया।

Vikhyaat Mandal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned