scriptThe question of lakhs of quintals of paddy rotting in the open cap was | ओपन कैप में सड़ रही लाखों क्ंिवटल धान का प्रश्न गूंजा विधानसभा में | Patrika News

ओपन कैप में सड़ रही लाखों क्ंिवटल धान का प्रश्न गूंजा विधानसभा में

विभागीय अधिकारियों की लापरवाही पर निवास विधायक ने उठाई आवाज

मंडला

Updated: December 27, 2021 10:09:55 pm

मंडला. जिले के अन्नदाताओं द्वारा उपजाया गया खाद्यान्न रखरखाव के अभाव में सड़ रहा है और दूसरी ओर वर्ष 2021-22 की उपार्जन प्रक्रिया के अंतर्गत नई धान की तौल महज इसलिए पूरी नहीं हो पा रही है क्योंकि तौल के बाद उस धान को रखने की समस्या उत्पन्न हो जाएगी। जिले के विभागीय अधिकारियों की लापरवाही से करोड़ों रुपयों की धान खराब हो रही है और संबंधित विभाग हाथ पर हाथ धरे बैठे हुए हैं। जब कई बार जवाब तलब किए जाने के बावजूद जब विभागीय अधिकारियों की लापरवाही कम नहीं हुई तो मामला अब प्रदेश की विधानसभा तक पहुंच गया और ध्यानाकर्षण सत्र में जमकर गूंजा। मामला उठाया निवास विधानसभा क्षेत्र के विधायक डॉ अशोक मर्सकोले ने।
गौरतलब है कि जिले में खाद्यान्न भंडारण के लिए पर्याप्त जगह है कि एक सीजन का खाद्यान्न भंडारण बड़ी ही आसानी से किया जा सकता है। समस्या तब उत्पन्न होती है जब उन भंडारण गृहों में एक सीजन गुजरने के बाद भी खाद्यान्न का उठाव नहीं किया जाता। ऐसे में दूसरे सीजन के खाद्यान्न के भंडारण में समस्या उत्पन्न हो जाती है।
यही हो रहा है ठरका स्थित ओपन कैप में। मार्कफेड ओपन कैप ठरका में वर्ष 2020 के नवंबर-दिसंबर माह में जिस धान का भंडारण किया गया था। उसे नियमानुसार वर्ष 2021 के मार्च अप्रैल माह तक उठा लिया जाना चाहिए था लेकिन वर्ष 2021 के दिसंबर महीने तक उक्त धान का उठाव ओपन कैप से नहीं किया गया है। कैप कवर और बारदानों के फटने के कारण कई क्विंटल धान सड़ चुकी है और विभाग द्वारा स्थिति जस की तस रखी गई है। न ही धान को अन्यत्र शिफ्ट किया जा रहा है और न ही सड़ते जा रहे धान को बचाने के लिए कोई प्रयास किया जा रहा है। यही कारण है कि निवास विधायक अशोक मर्सकोले ने विधानसभा के ध्यानाकर्षण सत्र में उक्त विषय को प्रमुखता से उठाया।
ओपन कैप की क्षमता 131 लाख मीट्रिक टन
वेयर हाउस की जानकारी के अनुसार, जिले भर मे ओपन कैप में भंडारण की क्षमता 131 लाख मीट्रिक टन है। जिले भर में मप्र वेयर हाउस कार्पोरेशन के ओपन कैप की क्षमता 86 लाख मीट्रिक टन है। इसमें से हीरापुर स्थित ओपन कैप की क्षमता 60 हजार मीट्रिक टन और सेमरखापा-टिकरिया स्थित ओपन कैप की क्षमता 26 हजार 850 मीट्रिक टन है। इसके अलावा फेडरेशन के ओपन कैप की क्षमता 45 हजार मीट्रिक टन है।

The question of lakhs of quintals of paddy rotting in the open cap was
The question of lakhs of quintals of paddy rotting in the open cap was

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

India-Central Asia Summit: सुरक्षा और स्थिरता के लिए सहयोग जरूरी, भारत-मध्य एशिया समिट में बोले पीएम मोदीAir India : 69 साल बाद फिर TATA के हाथ में एयर इंडिया की कमानयूपी चुनाव से रीवा का बम टाइमर कनेक्शननागालैंड में AFSPA कानून को खत्म करने पर विचार कर रही केंद्र सरकारजिनके नाम से ही कांपते थे आतंकी, जानिए कौन थे शहीद बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रUP Election 2022: भाजपा सरकार ने नौजवानों को सिर्फ लाठीचार्ज और बेरोजगारी का अभिशाप दिया है: अखिलेश यादवतमिलनाडु सरकार का बड़ा फैसला, खत्म होगा नाईट कर्फ्यू और 1 फरवरी से खुलेंगे सभी स्कूल और कॉलेजपीएम नरेंद्र मोदी कल करेंगे नेशनल कैडेट कॉर्प्स की रैली को संभोधित, दिल्ली के करियप्पा ग्राउंड में होगा कार्यक्रम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.