scriptThe thirst of wildlife is being quenched by natural and artificial res | प्राकृतिक व कृत्रिम जलाशयों से बुझ रही वन्य जीवों की प्यास | Patrika News

प्राकृतिक व कृत्रिम जलाशयों से बुझ रही वन्य जीवों की प्यास

कान्हा प्रबंधन ने बनाई व्यवस्था, शिकारियों पर रख रहे नजर

मंडला

Published: May 01, 2022 08:47:34 pm

मंडला। इन दिनों पड़ रही भीषण गर्मी से कान्हा नेशनल पार्क के जानवरों की पानी की चिंता प्रबंधन को सता रही है। पार्क क्षेत्रांतर्गत बड़ी संख्या में प्राकृतिक जल स्रोत हैं लेकिन सभी वन्य जीवों को आसानी से पानी उपलब्ध हो जाए, इसके लिए बड़ी संख्या में कृत्रिम जल स्रोतों का निर्माण भी कराया गया है। प्रबंधन द्वारा इन जल स्रोतों की साफ-सफाई कराई जा रही है। गौरतलब है कि विश्व प्रसिद्ध कान्हा नेशनल पार्क के अंदर बड़ी संख्या में प्राकृतिक जल स्रोत हैं जिनमें नदी, नाले, छोटी नदियां, झिरिया आदि शामिल हैं लेकिन पार्क के विशाल क्षेत्र और यहां पाए जाने वाले हजारों प्रजातियों के वन्य जीवों को आसानी से पेयजल मिल सके इसके लिए पार्क प्रबंधन द्वारा कृत्रिम रूप में सांसर, तालाब, एनीकट, बांध, हैंडपंप, टैंक, कुएं आदि की व्यवस्था भी की गई है।
पानी की तलाश में भटककर पहुंच जाते हैं गांवों तक
कई बार देखा गया है कि बढ़ती गर्मी के चलते कई जंगली जानवर जंगल से निकलकर आसपास के गांवों तक पानी की तलाश में पहुंच जाते हैं ऐसा तब होता है कि जब इन जानवरों को आसानी से पानी नहीं मिल पाता है। जंगल से निकलने से इन जानवरों के शिकार की संभावना बढ़ जाती है और कभी-कभी ये कुत्तों के झुण्ड के शिकार भी हो जाते हैं जिसके चलते कान्हा पार्क प्रबंधन का प्रयास रहता है कि पार्क के अंदर जहां प्राकृतिक जल स्रोतों की कमी है, वहां कृत्रिम रूप से जल स्रोतों के निर्माण कराकर वन्य जीवों को पानी उपलब्ध कराया जाए।
प्राकृतिक 310 तो कृत्रिम जल स्रोत 297
कान्हा प्रबंधन से मिली जानकारी अनुसार कान्हा पार्क क्षेत्र में कुल 310 प्राकृतिक जल स्रोत हैं, वहीं करीब इनती ही संख्या में कृत्रिम जल स्रोतों के भी निर्माण कराए गए हैं, पार्क के अंदर 297 कृत्रिम जल स्रोत कुएं, तालाब, हैण्डपंप और जगह-जगह सीमेंट के सांसर बनाए गए हैं।
जल स्रोतों की जानकारी रखी जाती है गुप्त
जानकारी के अनुसार, पार्क में जलस्रोतों की खुदाई जिन मजदूरों से कराई जा रही है। वे पूरे समय बीट गार्ड और वन रक्षकों की नजर में रखे जा रहे हैं। दरअसल जलस्रोतों का पता पूरी तरह से गुप्त रखा जाता है। ताकि जलस्रोतों को अवांछनीय तत्वों द्वारा नुकसान न पहुंचाया जा सके। पार्क सूत्रों के मुताबिक, जंगल के जलस्रोतों की तलाश में शिकारी हमेशा होते हैं। वन्य प्राणियों को नुकसान भी उसी समय पहुंचाया जाता है जब वे जलाशय, नदी, नाले आदि में पानी पीने आते हैं।
सांसर में पानी पीते बाध की वायरल हो रहे वीडियो
हाल ही में कान्हा पार्क अंतर्गत बनाए गए सांसर में बांध के पानी पीने के साथ यहां पानी में अटखेलियां करते कई वीडियो वायरल हो रहे हैं जो पार्क घूमने पहुंचे पर्यटकों द्वारा बनाए जा रहे हैं। ऐसा ही एक वीडियो कान्हा नेशनल पार्क के मुक्की जोन से वायरल हुआ है जिसमें गर्मी से परेशान डीजे बाघिन पार्क प्रबंधन द्वारा बनाये गये सॉसर में पानी पीते नजर आ रही है। डीजे बाघिन का यह खूबसूरत वीडियो अब जमकर वायरल हो रहा है। दरअसल इस बाघिन का रहवास धवा झंडी पेट्रोलिंग कैम्प के आस-पास है इसलिए धवा झण्डी के नाम से ही इस बाघिन का नाम डीजे हो गया। डीजे बाघिन कान्हा के सबसे प्रसिद्ध बाघों में एक है और पर्यटक के आकर्षण का केंद्र भी है।

प्राकृतिक व कृत्रिम जलाशयों से बुझ रही वन्य जीवों की प्यास
प्राकृतिक व कृत्रिम जलाशयों से बुझ रही वन्य जीवों की प्यास

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

भीषण गर्मी : देश में 140 में से 60 बड़े बांधों का पानी घटा, राजस्थान के भी तीन बांध01 जून से दुर्लभ संधि योग में शुरू होगा राम मंदिर के गर्भगृह का निर्माण, वर्षों बाद बन रहा शुभ मुर्हूतलंदन में राहुल गांधी के दिए बयान पर BJP हमलावर, बोली- 1984 से केरोसिन लेकर घूम रही कांग्रेसमंकीपॉक्स पर WHO की आपात बैठक में अहम खुलासा: यूरोप में अब तक 100 से अधिक मामलों की पुष्टि, जानिए 10 अपडेटJNU कैंपस में एमसीए की छात्रा से रेप, आरोपी छात्र गिरफ्तारकर्नाटक में बड़ा हादसाः बारातियों से भरी गाड़ी पेड़ से टकराई, 7 की मौत, 10 जख्मीजल्द ही कमर्शियल फ्लाइट्स शुरू करेगा जेट एयरवेज, DGCA ने दी मंजूरीमाता वैष्णो देवी के प्रमुख पुजारी अमीर चंद का निधन, जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल सहित कई नेताओं ने जताया दुख
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.