बारिश के बाद अठखेलियां करते दिख रहे बाघ : देंखे वीडिया

Mangal Singh Thakur | Updated: 27 Jun 2019, 11:42:37 AM (IST) Mandla, Mandla, Madhya Pradesh, India

पर्यटकों के लिए रोमांच भरा नजर आ रहा कान्हा भ्रमण

मंडला. कान्हा नेशनल पार्क में बाघ का दीदार करने वाले सैलानियों को अब तीन माह का इंतजार करना पड़ेगा। दरअसल, मानसून सत्र को देखते हुए 30 जून से कान्हा नेशनल पार्क के गेट को बंद करने का निर्णय लिया गया है। यह गेट तीन माह के लिए बंद होगा। इस दौरान किसी को पार्क में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। 16 अक्टूबर से पुन: पार्क के गेट सैलानियों के खोल दिए जाएंगे।
जानकारी के अनुसार बारिश के दिनों में पार्क के भीतर के मार्ग काफी प्रभावित हो जाते हैं। जिसके कारण लोगों को आवागमन करने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसी समस्या को ध्यान में रखते हुए प्रतिवर्ष पार्क में मानसून सत्र के दौरान प्रवेश बंद कर दिया जाता है। मौजूदा समय में रुक-रूक कर हो रही बारिश के कारण भी पार्क के भीतर के मार्ग खराब होने लगे हैं। भले ही पार्क प्रबंधन ने 30 जून से प्रवेश पर प्रतिबंध लगाया है, लेकिन अभी से सैलानियों को आवागमन में परेशानी होने लगी है। मानसून की दस्तक के साथ ही जंगल की फिजा भी बदली हुई सी नजर आ रही है। पहली बारिश के बाद कान्हा नेशनल पार्क में वनराज की मस्ती शुरू हो गई है। इन दिनों कान्हा नेशनल पार्क में बाघ के दर्शन करने वाले पर्यटकों को निराश नहीं होना पड़ रहा है। कान्हा घूमने वाले अधिकतर बाघों को वनराज के दीदार हो रहे हैं। बाघ के असानी से दिखने का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 25 जून को वनमंत्री मप्र शासन उमंग सिंघार को नौ बाघ देखने को मिले। पर्यटकों का कहना है बारिश के बाद पार्क में थोड़ी ठंडक आ गई है वहीं जगह-जगह गडï्ढों में पानी भी भर गया जिसके चलते वन प्राणी गडï्ढों में आराम फरमाते देखे जा रहे है। जिसमें बाघ भी शामिल हंै। कान्हा पार्क के बंद होने में कुछ ही दिन शेष है। अंतिम दिनो में पर्यटकों की आवाजाही बढ़ गई है। कान्हा पार्क में पिछले सत्र तक कोर क्षेत्र में 140 वाहन ही पहुंचते थे। लेकिन इस वर्ष कोर क्षेत्र में पर्यटकों को घूमने के लिए 178 वाहन की व्यवस्था की गई है। जिसके कारण पर्यटकों को घूमने में सुविधा हो रही है। 30 जून मोर्निंग टाइम के लिए कान्हा में ऑनलाईन मिलने वाली सीट फूल हो गई है। जिले के कोर जोन कान्हा, सरही के साथ ही बफर जोन खटिया में भी पर्यटकों की भीड़ नजर आ रही है। गौरतलब है कि पर्यटकों में बाघ को लेकर भारी रोमांच रहता है। पिछले चार-पांच दिनों से कान्हा, सरही एवं मुक्की जोन में बाघ के दीदार हो रहे हैं। बाघ कभी जिप्सी के आगे-आगे तो कभी पानी में अटखेलियां करते नजर आ रहे हैं। जिसके चलते पर्यटक रोमांचित हो जाते हैं। पर्यटकों के बीच फोटो और वीडियो के लिए भी होड़ मची हुई है। कान्हा नेशनल पार्क में बाघ, पैंथर, चीतल, सांभर, बारह सिंगा, गौर, जंगली कुत्ते, भालू आदि वन्य जीव दिखाई दे रहे हैं।
जानकारी के अनुसार कुछ वर्षो से मानसून में देरी होने के कारण कान्हा नेशनल पार्क के गेट को बंद करने की तिथि बढ़ाई गई है। इसके पूर्व वर्षों में 15 जून से कान्हा नेशनल सहित प्रदेश के सभी पार्कों के गेट बंद हो जाते थे। लेकिन अब 15 जून तक बारिश नहीं होने के कारण इसे बढ़ाकर 30 जून कर दिया गया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned