जिले में आधी रात से मूसलाधार बारिश

व्यवस्थाएं अस्त-व्यस्त, लोगों की बिगड़ी दिनचर्या, सभी प्रभावित

By: Mangal Singh Thakur

Published: 20 May 2021, 12:24 PM IST

मंडला. चक्रवाती तूफान तौकते का असर आखिरकार आदिवासी बहुल्य जिले तक आ पहुंचा। मंगलवार की शाम को तेज हवाओं के साथ शुरू हुई बारिश कुछ घंटों बाद थम गई लेकिन पुन: आधी रात को तीन बजे से शुरू हुई मूसलाधार बारिश सुबह लगभग 5 बजे तक जारी रही। सिर्फ जिला मुख्यालय ही नहीं, जिले के हर हिस्से में तेज बारिश होने से सारी व्यवस्थाएं बेपटरी हो गर्ईं। सिर्फ सड़कों और नालियों में ही नहीं, निचली बस्ती के इलाकों में लोगों के घरों में भी पानी भर गया। तेज हवाओं के कारण कई स्थानों पर बिजली के तार झूल गए और विद्युत आपूर्ति बाधित हो गई। शहर के कई इलाकों में मंगलवार की रात से बिजली गुल रही जो मरम्मत कार्य के बाद दोपहर तक बहाल हो पाई। सुबह 7 बजे से मौसम कुछ साफ हुआ और आसमान में धूप चटकने लगी। लेकिन यह खुला मौसम बहुत अधिक देर तक नहीं रहा। दोपहर लगभग तीन बजे फिर मौसम बिगड़ा और कुछ मिनटों तक झमाझम बारिश हुई। इस बेमौसम बारिश ने न केवल निकासी व्यवस्था की पोल खोल दी बल्कि बिजली विभाग के आधी अधूरी तैयारी भी सामने आ गई।
सर्वाधिक बारिश नैनपुर में
जिले मे सर्वाधिक बारिश नैनपुर ब्लॉक में दर्ज की गई। भू अभिलेख कार्यालय के आंकड़ों के अनुसार, यहां 72.7 मिमी बारिश दर्ज की गई। इसके बार सबसे अधिक बारिश मंडला ब्लॉक में 48.6 मिमी दर्ज की गई। मोहगांव ब्लॉक में 34.4 मिमी, नारायणगंज में 24.3 मिमी, बीजाडांडी में 22.0 मिमी, निवास में 23.2, मवई में 21.5 मिमी और घुघरी ब्लॉक में 20.0 मिमी बारिश दर्ज की गई। इस बारिश से नैनपुर और मंडला नगर में सबसे अधिक व्यवस्थाएं बाधित हुईं। घंटो बिजली गुल होने से लोगों को अंधेरे में ही रातें बितानी पड़ी। इन क्षेत्रों के अधिकांश इलाके आधी रात को बारिश शुरू होते ही अंधेरे में डूब गए। सुबह बारिश रुकने के बाद मरम्मत कार्य शुरू होने के बाद क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति बहाल हो पाई।
निकासी व्यवस्था फेल
कुछ घंटों की तेज बारिश में ही नगरपालिका की निकासी व्यवस्था की पोल खुल गई। सुभाष वार्ड, हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी, जवाहर वार्ड, राधाकृष्णन वार्ड की सड़कों पर पानी भर गया। लॉकडाउन के कारण फेरी वाले ठेलों पर सामग्रियां बेचने निकल रहे हैं। बारिश का पानी सड़कों पर भरा होने के कारण उन्हें बेहद परेशानी हुई। गौरतलब है कि इन क्षेत्रों में पानी भरने की समस्या पहली बार नहीं उठी। हर बारिश के मौसम में इन क्षेत्रों में पानी भरता है। स्थानीय नागरिकों का कहना है कि कई बार उनके द्वारा आवदेन दिया गया है कि समस्याओं का निराकरण किया जाए लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नहीं की गई।
घरों में भरा पानी
रात्रि में हुई तेज बारिश के चलते अनेक स्थानों पर जलभराव की स्थिति बनी। कई इलाकों में आज भी निकासी व्यवस्था दुरुस्त नहीं है। इसका खामियाजा स्थानीय निवासियों को भुगतना पड़ रहा है। ग्राम पंचायत बिझिंया के शांति नगर में पानी की निकासी व्यवस्था नहीं है। यही कारण है कि तेज बारिश होने के कारण यहां लोगों के घरों में बारिश का पानी भर गया।
बारिश के आंकड़े
ब्लॉक बारिश
मोहगांव 34.4
नैनपुर 72.7
बीजाडांडी 22.0
नारायणगंज 24.3
मवई 21.5
घुघरी 20.0
निवास 23.2
मंडला 48.6
(उक्त आंकड़े मिमी में है)

Mangal Singh Thakur
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned