मूसलाधार बारिश में पेड़ उखड़े, बिजली के तार गिरे, व्यवस्था बेपटरी

10 घंटे की बारिश में पूरा जिला तरबतर, चारों ओर विद्युत आपूर्ति बाधित

By: Mangal Singh Thakur

Published: 11 Jun 2021, 09:46 AM IST

मंडला. बुधवार-गुरुवार की दरमियानी रात को जिले भर में तेज बारिश शुरू हुई जो अगले दिन दोपहर 12 बजे तक कभी तेज-कभी धीमी गति से लगातार जारी रही। मौसम की इस पहली तेज बारिश ने 12 घंटों में पूरे जिले को तरबतर कर दिया। कई स्थानों पर भारी भरकम पेड़ उखड़कर धराशायी हो गए। कई स्थानों पर ऊंचे पेड़ हाइटेंशन तारों पर आ गिरे जिससे जिला मुख्यालय में कई स्थानों पर बिजली के तार टूटकर जमीन पर आ गिरे। अनेक स्थानों पर विद्युत आपूर्ति बाधित हो गई जो कहीं दोपहर तो कहीं शाम को बहाल हो सकी। भू अभिलेख के आंकड़े बता रहे हैं कि 10 जून को जिले भर में औसतन 41.4 मिमी बारिश दर्ज की गई। जबकि गत वर्ष इसी तिथि को 10 जून 2020 को जिले भर में मात्र 2.5 मिमी बारिश दर्ज की गई थी। कल जिले में सर्वाधिक बारिश मंडला तहसील में हुई। यहां 73.4 मिमी बारिश दर्ज की गई।
चरमराई व्यवस्था
बुधवार को दिन भर की तेज उमस और आसमान में छाए बादलों से अनुमान लगाया जा रहा था कि बारिश होगी लेकिन इतनी तेज बारिश का अनुमान जानकारों ने नहीं लगाया था। मंडला तहसील में सबसे अधिक 73.4 मिमी बारिश दर्ज की गई। इसके अलावा नारायणगंज, निवास और नैनपुर में तेज बारिश हुई। यहां क्रमश: 54.0 मिमी, 38.0 मिमी और नैनपुर में 36.1 मिमी बारिश दर्ज की गई। बिछिया तहसील में 25.5 मिमी और घुघरी तहसील में 21.5 मिमी बारिश दर्ज की गई। जबकि गत वर्ष 2020 में इसी दिन जिले भर में औसतन मात्र 2.5 मिमी बारिश दर्ज की गई थी। इस वर्ष 10 जून को यह आंकड़ा 41.4 मिमी रहा।
विद्युत आपूर्ति बाधित
तेज बारिश के कारण जिले में कई स्थानों पर भारी भरकम पेड़ उखड़कर जमीन पर आ गिरे। इससे क्षेत्रों में बिजली के तार टूटे और विद्युत आपूर्ति बाधित हो गई। बारिश धीमी होने के बाद विद्युत विभाग के कर्मचारियों ने मरम्मत और सुधार कार्य शुरू किया। नगर में रानी अवंति बाई वार्ड, सिविल लाइन्स, जवाहर वार्ड, उपनगरीय क्षेत्र महाराजपुर में कई स्थानो पर पेड़ या उनकी भारी भरकम शाखाएं टूटकर बिजली के तारों पर गिरे जिससे विद्युत आपूर्ति बाधित हुई। देर शाम के बाद ही क्षेत्रों में विद्युत आपूर्ति बहाल हो सकी।
सड़कों-गलियों में पानी ही पानी
मौसम की पहली तेज बारिश में ही नगर की निकासी व्यवस्था की सच्चाई उजागर हो गई। सुभाष वार्ड, रानी अवंतिबाई वार्ड, भगत सिंह वार्ड, राधाकृष्णन वार्ड में निचले क्षेत्रों में पानी भर गया। यहां की अनेक सड़कों पर और नालियों में पानी भरने से स्थानीय लोगों को आने जाने में बहुत परेशानी हुई।

Mangal Singh Thakur
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned