जंगल की आग हो रही बेकाबू

वन कर्मचारियों को करनी पड़ रही मशक्कत

By: shivmangal singh

Published: 31 Mar 2018, 12:07 PM IST

नारायणगंज. गर्मी का दौर शुरू होने के बाद से जंगलो में आगजनी की घटना शुरू होने लगी है। कभी शरारती तत्व आग लगा देते हैं तो कभी प्रकृति कारणों जंगल में आग लग जाती है। वन परिक्षेत्र कालपी के जंगलों में इन दिनों आग का कहर मंडरा रहा है। पिछले तीन चार दिनों से जंगल में कही ना कही आग लग रही है। बुधवार की रात को कालपी से लेकर बीजाडांडी के बीच के जंगलों धधकती रही। जिसके कहर से सागौन सहित वन के सैकड़ो पेड़ पौधे झुलस कर नष्ट हो रहे हैं। जो कि वन सम्पदा की बड़ी क्षति कही जा सकती है। अब तक आग लगने का कोई कारण स्पष्ट नहीं सका है। आग पर काबू पाने के लिए वन कर्मचारियों द्वारा प्रयास किया गया और काफी हद तक सफल भी हुए। इसके बाद भी आग से जंगल पूरी तरह सुरक्षित नहीं हो सका है। आग बीजाडांडी, कालपी, धनवाही, पोंड़ी, बल्लर के जंगलों देखी जा रही है। जिससे वन्य जीवों के साथ ही सगौन व अन्य इमारती वृक्ष चपेट में आ रहे हैं। जानकारों का कहना है कि आग लगने से वन्य प्राणी तो आग की जानकारी लगते ही वहां से भागकर दूसरे क्षेत्र में चले जाते हैं। लेकिन वनस्पतियों को भारी नुकसान उठाना पड़ता है। जंगल में लगी कआग का धूंआ दूर तक उठते हुए दिखाई दे रहा है। आग को बुझाने में वन कर्मचारियों को काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। बताया गया कि आग लगने से वन अकुरित वनस्पतियां, छोटे पौधे और बड़ी मात्रा में झाडिय़ां जल गई हैं। इसके अलावा क्षेत्र में पड़ी सूखी लकडियां भी आग का निवाला बन गईं। बताया गया कि जिस क्षेत्र में आग फैली वहां सगौन के वृक्षों की मात्रा अधिक है। इसके साथ ही इस क्षेत्र में वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं। शनिवार की दोपहर तक आग पर काबू नहीं पाया जा सका है।

shivmangal singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned