प्याज खरीदी में गड़बड़ी के बाद अब सचिव पर गिरेगी कार्रवाई की गाज

प्याज खरीदी में गड़बड़ी के बाद अब सचिव पर गिरेगी कार्रवाई की गाज

By: Nilesh Trivedi

Published: 01 Mar 2020, 11:37 AM IST

मंदसौर.
जून-२०१९ में किसानों को प्याज का उचित दाम देने के लिए चलाई गई मुख्यमंत्री कृषक प्याज प्रोत्साहन योजना की खरीदी में मंदसौर मंडी में गड़बडिय़ा सामने आई है।

ऑनलाईन डाटा के अनुसार एक ही दिन में अनेक बार एक ही वाहन से प्याज मंडी प्रांगण में आना बताया गया तो ट्रैक्टर से लेकर बाईक और जेसीबी तक की इंट्री दर्शाई गई। योजना में विक्रय के लिए आने वाले प्याज को लाने में जिन वाहनों का उपयोग हुआ। उसके अनेक बार उपयोग ने प्याज खरीदी में गड़बड़ी उजागर की। और इस गड़बड़ी की मंडी बोर्ड की शंका को उस समय बल मिला जब जांच के दौरान यहां सीसीटीवी फूटेज का रिकॉर्ड भी नहीं मिला तो एंट्री करने वाले कर्मचारी के नाम नंबर भी रजिस्टर्ड नहीं पाया गया। इसके बाद नर्मदापुरम संभाग के संयुक्त संचालक ने तत्कालीन मंडी सचिव ओपी शर्मा को नोटिस जारी किया और जांच भी की। अब रिपोर्ट भोपाल मंडी बोर्ड के एमडी तक भेजी जा चुकी है। जिसमें पोर्टल पर एंट्री में गड़बड़ी उजागर हुई है। सरकारी योजना में खरीदें गए प्याज में मंदसौर मंडी में अनेक अनियमितता सामने आई है। ऐसे में तत्कालीन सचिव पर गाज गिरने की तलवार लटकी हुई है।
इन वाहनों की इंट्री से शक के दायरें में आई मंदसौर मंडी में प्याज की खरीदी
प्याज खरीदी के दौरान जून-२०१९ में २९ जून को एमपी १४ एमसी ३०६५ से ९५ बार मंडी में प्याज लाना पोर्टल पर दर्शाया तो २६ जनू को ११२ बार एमपी ०९ जीएफ ५३६२ ट्रैक्टर से मंडी में प्याज लाना बताया। इसी प्रकार १ जून को एमपी १४ एसी २७२ से ११, ३ जून को एमपी १४ एए ४९११ से ५४ व एमपी १४ एसी ६४८६ से ३३, २७ जून को एमपी १४ एसी ७२२९, २८ को एमपी १४ एसी ८८७८ से ६१ व एमपी १४ एसी २८३४ से ६४ बार प्याज मंडी प्रांगण में लाना बताया। इसी प्रकार एक ही दिन में बाईक व ट्रैक्टर के साथ अनेक बार प्रांगण में प्याज लाने की इंट्री ऑनलाईन मिलने के कारण प्याज खरीदी शक के दायरें में आई और जांच शुरु हुई। तो गड़बडिय़ां भी उजागर हुई। वहीं पोर्टल पर एक इंटी में एमपी ०९ जीएफ ०२४२ के नंबर की जेसीबी से भी प्याज लाना बताया गया। इस प्रकार ऑनलाईन डाटा में एक ही दिन मेंमंडी में विक्रय के लिए लाए गए प्याज की जानकारी से मामला संदेह में आया। अब मामले की जांच हो चुकी और इसमें गड़बडिय़ा आई। नर्मदापुरम संभाग के मंडी के संयुक्त संचालक ने इसकी जांच कर अपना प्रतिवेदन मंडी बोर्ड के एमडी को भेज दिया और इसमें तत्कालीन मंडी सचिव ओपी शर्मा पर कार्रवाई की अनुशंसा भी की।
जांच रिपोर्ट में सामने आई है गड़बडिय़ां
मुख्यमंत्री प्याज कृषक प्रोत्साहन योजना में पोर्टल पर वाहनों की संख्या एक से अधिक बार सामने आई है। जांच में गड़बडिय़ा होना सामने आई है। मामले में तत्कालीन मंडी सचिव ओपी शर्मा को नोटिस भी जारी किया था। मामले की जांच भी हो चुकी है। जो जांच रिपोर्ट आई है। उसे विभाग को भेज दिया है। इसमें तत्कालीन सचिव पर कार्रवाई की अनुशंसा की गई है। सीसीटीवी कैमरे बंद होने पर भी सही जवाब नहीं मिला है।-हरिराम लारिया, संयुक्त संचालक, मप्र कृषि विपणन बोर्ड, नर्मदापुरम

Nilesh Trivedi Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned