scriptAmidst the natural beauty, the diamond-studded pagoda group, which is | प्राकृतिक सौंदर्य के बीच हीरे से जड़ा शिवालय समूह, जिसेे छोटा महादेव के नाम से जानते है भक्त | Patrika News

प्राकृतिक सौंदर्य के बीच हीरे से जड़ा शिवालय समूह, जिसेे छोटा महादेव के नाम से जानते है भक्त

प्राकृतिक सौंदर्य के बीच हीरे से जड़ा शिवालय समूह, जिसेे छोटा महादेव के नाम से जानते है भक्त

मंदसौर

Updated: August 03, 2022 05:44:17 pm

भानपुरा.
सावन माह में क्षेत्र के छोटा महादेव की और भक्तों की आवाजाही बढ़ जाती है। जंगलों और प्राकृ़तिक सौंदर्य की बिखरी छटा के बीच यहां शिवभक्त आराधना करने पहुंचते है। जैन धर्म व सनातन का समन्वय यहां पर है। सावन में शिव की भक्ति के साथ ही यह स्थान प्राचीन किवदंतियों और अनोखी मान्याओं के कारण भक्तों के लिए विशेष आस्था का केंद्र है। प्राकृतिक सौंदर्य और हरियाली के बीच स्थित यह स्थल वैसे भी सावन में लोगों को आकर्षित करता है। वहीं यहां स्थित अनोखा रुद्रकुंड और प्राचीन इतिहास और शिव से जुड़ी गाथाएं भक्तों को अपनी और खींचती है। भानपुरा से मात्र एक किमी दूर उत्तर में विध्य के विरान में हीरे की मानिंद जगमगाता देवालय समूह है जहा प्रकृति, पर्यावरण दर्शन, धर्म व अध्यात्म के पंचशील का आंनद लेने के लिए वर्तमान में दूर-दूर से श्रद्धालु व सैलानी आ रहे है।
प्राकृतिक सौंदर्य के बीच हीरे से जड़ा शिवालय समूह, जिसेे छोटा महादेव के नाम से जानते है भक्त
प्राकृतिक सौंदर्य के बीच हीरे से जड़ा शिवालय समूह, जिसेे छोटा महादेव के नाम से जानते है भक्त

इन कारणों से आस्था का केंद्र बन गया छोटा महादेव का यह स्थान
भानपुरा के बाहर रेवा पुलिया से आगे नागमाता मंदिर परिसर है। यहा सूर्यवंशीय कुमरावत तंबोली समाज की कुलदेवी को समर्पित विग्रह है। आगे छोटा महादेव मंदिर समूह है। यहीं पर तीर्थंकर आदिनाथ को समर्पित जिनालय है। मुख्य मंदिर झारखंडेश्वर वैद्यनाथ के नाम से रेकार्ड में दर्ज है। इसके साथ ही गर्भगृह में विशाल शिवलिंग, दक्षिण दीवार पर देव प्रतिमा गर्भगृह व मंडप के बीच गणेश विराजित है। मंडप में शिवार्चन करने वाले श्रद्धालु जन पूजा पाठ में लीन रहते है। यह सिद्ध स्थल है। यहा भारती परिवार के साधक यति जनों की दिव्य समाधिया भी है। परिसर में विशाल वट वृक्षों की छाया है।

प्राचीनता के साथ इतिहास की गवाही बन रहे यह प्रतीकचिन्ह
सावन माह में रुद्राभिषेक होता रहता है। परिसर में पूर्वाभिमुख सोमेश्वर महादेव का मंदिर है। जो सोमनाथ नहीं जा सकते वे भक्त यहा आराधना पूजन कर आध्यात्मिक लाभ ले सकते है। मुख्य मंदिर के सामने रुद्रकुंड है। जो कलात्मक है दूर दूर तक ऐसा रुद्रकुंड नहीं है। रुद्रकुंड कि पाल पर खुले में कुछ नंदी व शिवलिंग रखे है। इन में से एक पर सम्वत 1192 लिखा है। यानी ये बहुत प्राचीन व दिव्य स्थल है। जिनालय के पास ही नीचे हरिहर को समर्पित लघु शिवालय है। जो 900 वर्ष प्राचीन है। पास ही सुंदर जलस्रोत शिवगंगा लहरी है। जहां मात्र 15 फिट गहराई पर सालभर जल मिलता है। यही पर दरवाज़े के पास एक तलघर नुमा मंदिर में गुप्त गफा है। इसके बारें में किंवदतियां है कि ये गुफा उज्जैन के महाकाल तक जाती है। झारखंडेश्वर महादेव मंदिर परिसर के बाहर एक स्मृति वन है। इसके अलावा पर्यटनों के लिए यहीं पर सनसेट पॉइंट व इको पॉइंट भी है। पास में तलहटी में पान के खेती यानी पनवाड़ी भी है। यह पान कृषक किस तरह पान को सहेजते है देख सकते है। श्रावणी अमावश्या पर एक दिन का मेला लगता है। पहाड़ की हर चट्टान रंगबिरंगी और आकर्षित करने वाली लग रही है।
अहिल्याबाई होलकर ने कराया था मंदिर का जीणोद्धार
स्थानीय इतिहासकार डॉ प्रदुम्न भट्ट बताते है कि यह स्थल प्राचीन इंद्रगढ़ का ही भाग था। जब इंदरगढ़ बेचिराग हुआ तब आधुनिक भानपुरा बसा तभी से इन दोनों जगहों को छोटा व बड़ा महादेव के नाम से पहचाना जाता है। अहिल्या बाई होलकर ने इन मंदिरों का जीर्णोद्धार कराया था। इसी के पास प्राचीन आबादी के अवशेष देखे गए है। इसे पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने से एक और रोजगार के अवसर बढ़ेंगे तो यहां आने वाले पर्यटनों की सुविधाएं भी बढ़ेगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Himachal Pradesh News: रामपुर के रनपु गांव में लैंडस्लाइड से एक महिला की मौत, 4 घायलMaharashtra Politics: चंद्रशेखर बावनकुले बने महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष, आशीष शेलार को मिली मुंबई की कमानममता बनर्जी को बड़ा झटका, TMC के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पवन वर्मा ने पार्टी से दिया इस्तीफामाकपा विधायक ने दिया विवादित बयान, जम्मू-कश्मीर को बताया 'भारत अधिकृत जम्मू-कश्मीर'गुजरात चुनाव से पहले कांग्रेस का बड़ा ऐलान, सरकार बनी तो किसानों का तीन लाख तक का कर्ज होगा माफBJP का महागठबंधन पर बड़ा हमला, सांबित पात्रा बोले- नीतीश-तेजस्वी के साथ आते ही बिहार में जंगलराज शुरूबिहार कैबिनेट पर दिल्ली में मंथन, आज शाम सोनिया गांधी से मिलेंगे तेजस्वी यादव, 2024 के PM कैंडिडेट पर बोले नीतीश कुमारCoronavirus News Live Updates in India : राजस्थान में एक्टिव मरीज 4 हजार के पार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.