भगवान पशुपतिनाथ मंदिर के विकास कार्य योजना के लिए आए आर्किटेक्ट

भगवान पशुपतिनाथ मंदिर के विकास कार्य योजना के लिए आए आर्किटेक्ट
भगवान पशुपतिनाथ मंदिर

harinath dwivedi | Publish: Jan, 01 2018 10:49:12 PM (IST) Mandsaur, Madhya Pradesh, India

कलेक्टर व विधायक ने भी स्हस्त्रलिंग प्रतिमा मंदिर के लिए किया निरीक्षण




मंदसौर।
भगवान पशुपतिनाथ मंदिर क्षेत्र के विकास के लिए भगवान पशुपतिनाथ प्रबंधक समिति सक्रिय हो गई है। सोमवार को ग्वालियर के ख्यात आर्किटेक्ट प्रबोध जैन शहर आए। उन्होंने कार्य योजना बनाने के लिए पुरे मंदिर क्षेत्र का निरीक्षण किया। खास तौर पर पशुपतिनाथ मंदिर से लगे क्षेत्र में स्हस्त्रलिंग महादेव प्रतिमा मंदिर बनाने के लिए स्थल निरीक्षण किया। तापेश्वर महादेव मंदिर के सामने एक स्थल को विकसित करने के लिए प्राचिन समाधियों के पास के खाली पड़े जर्जर मकानों को तोड़कर उस जगह मंदिर बनाने का निर्णय लिया। आर्किटेक्ट जैन ने बताया कि मंदिर समिति की प्राथमिकता स्हस्त्रलिंग महादेव मंदिर बनाने की है। इसके अलावा यहां संतो कि प्राचिन समाधियों को आर्कषक बनाने व इस स्थल को विकसित भी किया जाएगा। समाधियों के आसपास क्षेत्र में मारबल लगाया जाएगा, समाधिया व्यवस्थित की जाएगी। शाम को विधायक यशपालसिंह सिसोदिया, कलेक्टर ओमप्रकाश श्रीवास्तव ने भी स्हस्त्रलिंग महादेव मंदिर स्थल का अवलोकन किया। यह कार्य कलेक्टर श्रीवास्तव ने बताया कि मंदिर समिति की प्राथमिकता तापेश्वर महादेव मंदिर के सामने क्षेत्र को विकसित करने तथा यहां मंदिर बनाने की है। इसके बाद बावड़ी क्षेत्र को विकसित किया जाएगा। यहां फव्वारें व झरना बनाएगें। सुबह आर्किटेक्ट जैन के साथ मंदिर प्रबंधन समिति के सचिव व एसडीएम एसएल शाक्य, मंदिर प्रबंधक राहुल रूनवाल उपस्थित थे।

 


मंदसौर।
भगवान पशुपतिनाथ मंदिर क्षेत्र के विकास के लिए भगवान पशुपतिनाथ प्रबंधक समिति सक्रिय हो गई है। सोमवार को ग्वालियर के ख्यात आर्किटेक्ट प्रबोध जैन शहर आए। उन्होंने कार्य योजना बनाने के लिए पुरे मंदिर क्षेत्र का निरीक्षण किया। खास तौर पर पशुपतिनाथ मंदिर से लगे क्षेत्र में स्हस्त्रलिंग महादेव प्रतिमा मंदिर बनाने के लिए स्थल निरीक्षण किया। तापेश्वर महादेव मंदिर के सामने एक स्थल को विकसित करने के लिए प्राचिन समाधियों के पास के खाली पड़े जर्जर मकानों को तोड़कर उस जगह मंदिर बनाने का निर्णय लिया। आर्किटेक्ट जैन ने बताया कि मंदिर समिति की प्राथमिकता स्हस्त्रलिंग महादेव मंदिर बनाने की है। इसके अलावा यहां संतो कि प्राचिन समाधियों को आर्कषक बनाने व इस स्थल को विकसित भी किया जाएगा। समाधियों के आसपास क्षेत्र में मारबल लगाया जाएगा, समाधिया व्यवस्थित की जाएगी। शाम को विधायक यशपालसिंह सिसोदिया, कलेक्टर ओमप्रकाश श्रीवास्तव ने भी स्हस्त्रलिंग महादेव मंदिर स्थल का अवलोकन किया। यह कार्य कलेक्टर श्रीवास्तव ने बताया कि मंदिर समिति की प्राथमिकता तापेश्वर महादेव मंदिर के सामने क्षेत्र को विकसित करने तथा यहां मंदिर बनाने की है। इसके बाद बावड़ी क्षेत्र को विकसित किया जाएगा। यहां फव्वारें व झरना बनाएगें। सुबह आर्किटेक्ट जैन के साथ मंदिर प्रबंधन समिति के सचिव व एसडीएम एसएल शाक्य, मंदिर प्रबंधक राहुल रूनवाल उपस्थित थे।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned